यह व्यक्ति एक महामारी से ग्रषित है और इसका कुरान जलाने व किसी दुर्घटना से कोई सम्बन्ध नहीं है |

False International Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२९ नवम्बर २०१९ को फेसबुक पर ‘Salman Bharti द्वारा किये गये एक पोस्ट में दो तस्वीरें साझा की गयी है | पहली तस्वीर में एक व्यक्ति अस्पताल में काले हाथों के साथ लेटा हुआ है व दुसरे तस्वीर में एक व्यक्ति एक किताब जलाते हुए दिख रहा है | पोस्ट के विवरण में लिखा है कि, “कुरान को जलाने वाला खिंजिर का हाथ एक्सिडेंट मे जल गया अल्लाह का अजाब दुनिया मे ही जाहीर हूआ अभि आखिरत बाकी है |#Allah is the Great” 

इस पोस्ट में यह दावा किया जा रहा है कि – ‘नॉरवे में कुरान जलाने वाले के हाथ एक दुर्घटना में जल गए |’ क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले गूगल पर ‘man who burned the quran’ कीवर्ड्स को ढूंढा, तो हमें Alaraby नामक एक वेबसाइट पर इस घटना से सम्बंधित एक ख़बर प्रकाशित मिली | इस ख़बर के अनुसार, यह घटना यूरोप में नॉरवे के एक दक्षिणी हिस्से में स्थित क्रिस्टियनसैंड नामक शहर की है | १६ नवम्बर २०१९ को यहाँ पर SIAN (Stop Islamisation of Norway) नामक एक दक्षिणपंथी संस्था द्वारा प्रदर्शन किया गया था | इसी दौरान SIAN के एक नेता लार्स थॉरसेन ने कुरान में आग लगा दी | इस हरक़त से वहाँ के लोगो क्रोधित हो गए और उनमे से इल्यास नामक एक व्यक्ति (जिसका नाम बादमें क्यूसे रशीद बताया गया है) ने लार्स के साथ मारपीट शुरू कर दी |

AlarabyPost | ArchivedLink

इसके बाद हमने गूगल पर ‘Anti Islamization rally in Norway’ कीवर्ड्स से ढूंढा, तो हमें कई समाचार वेबसाइटो पर इस घटना से जुड़ी ख़बरें प्रकाशित मिलीं | इन ख़बरों को पूरा पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

GulfnewsPost | ArchivedLinkRTPost | ArchivedLinkAAPost | ArchivedLink

इन ख़बरों में इस घटना का एक वीडियो भी संगलित था |

हमें कहीं भी लार्स थॉरसेन के हाथ जलने की ख़बर हमें नहीं मिली, तो हमने पोस्ट में साझा दूसरी तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर ढूंढा | इस अनुसंधान में हमें यह तस्वीर Dailymail नामक एक समाचार वेबसाइट पर १९ सितम्बर २०१२ को प्रकाशित मिली | 

DailymailPost | ArchivedLink

इस ख़बर के अनुसार तस्वीर में दिखने वाले व्यक्ति का नाम पॉल ‘स्टीव’ गेलॉर्ड है, जो USA के ओरिगोन में बेंड नामक शहर के निवासी है | पॉल अपनी बिल्ली को बचाते वक़्त एक किस्म की महामारी का शिकार हो गये थे, जिसे ‘ब्लैक डेथ’ के नाम से भी जाना जाता है | यह रोग बैक्टीरिया यर्सिनिया पेस्टिस के कारण होता है जो पिस्सू के काटने से फैलता है | इससे प्रभावित क्षेत्र काला पड़ना शुरू हो जाता है और जैसे-जैसे यह शरीर में फैलता है, शरीर काला पड़ने लगता है और अंत में यह महामारी प्रभावित व्यक्ति या जानवर के प्राण ले लेती है | पॉल को इस रोग से मुक्ति के लिए ऑपरेशन करना पढ़ा, जिसमें उसके हाथ के प्रभावित हिस्से को surgery करके काट दिया गया |

हमने जब दोनों की तस्वीरों की तुलना की, तो हमने पाया कि दोनों व्यक्ति भिन्न दिखते हैं | इस तुलना को आप नीचे देख सकतें हैं |

Z:\Nita\Untitled-1.jpg

इस अनुसंधान से यह बात स्पष्ट होती है कि उपरोक्त पोस्ट में साझा तस्वीरों का एक दुसरे के साथ कोई संबंध नहीं है | पॉल ‘स्टीव’ गेलॉर्ड USA के ओरिगोन के निवासी है, जो ‘ब्लैक डेथ’ नामक एक महामारी से पीड़ित थे | पॉल की तस्वीर को वर्तमान में घटित नॉरवे में लार्स थॉरसेन द्वारा कुरान जलाने की घटना से जोड़कर गलत विवरण के साथ लोगों को भ्रमित करने के उद्देश्य से फैलाया जा रहा है | दोनों व्यक्ति अलग है |

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा “नॉरवे में कुरान जलाने वाले के हाथ एक दुर्घटना में जल गए |” ग़लत है |

Avatar

Title:यह व्यक्ति एक महामारी से ग्रषित है और इसका कुरान जलाने व किसी दुर्घटना से कोई सम्बन्ध नहीं है |

Fact Check By: Natasha Vivian 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply