क्या अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वो गरीब जनता को चूसते हैं? दावा फर्जी…

False Political

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से शेयर किया जा रहा है। जिसमें वो बोल रहे हैं कि पहले तो हम गरीब जनता को चूसते हैं और फिर उनके ऊपर दान करते हैं। वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वो गरीब जनता को चूसते हैं। 

वायरल वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- ये वीडियो काफ़ी हैं केजरीवाल की असलियत जानने के लिए, सुनिए, कितना शातिर है ये मक्कार…

फेसबुकआर्काइव

अनुसंधान से पता चलता है कि…

पड़ताल की शुरुआत में हमने वीडियो के कुछ की-फ्रेम को रिवर्स इमेज सर्च किया। परिणाम में वायरल वीडियो हमें कॉमेडियन कुणाल कामरा के यूट्यूब चैनल पर मिला। 26 अगस्त 2020 को चैनल में प्रकाशित जानकारी के अनुसार ये वीडियो अरविंद केजरीवाल पर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म एन इनसिगनिफिकेंट मैन से लिया गया है। 

चैनल में वायरल वीडियो को 8 मिनट से देखा जा सकता है। इस वीडियो में पास बैठा एक शख्स केजरीवाल से कहता है कि “मेरे पास एक प्रोजेक्ट है, हम हर साल 1001 गरीब लड़कियों की शादी करेंगे, लेंगे किसी से कुछ नहीं। 

इस पर अरविंद केजरीवाल  कहते हैं कि , ऐसी हालत ही क्यों है कि आपको चैरिटी करनी पड़े।  पहले तो हम गरीब जनता को चूसते हैं और फिर उनके ऊपर दान करते हैं, कि एक हजार लड़कियों की शादी हम कराएंगे।  अगर हम उनका आय बढ़ा दें , अगर ये जितना व्यवस्था है, जो व्यवस्था हर आदमी को चूस रही है, अगर इस व्यवस्था को ही हम…

 इसके बाद सामने बैठा आदमी बोलता है, ‘अगर हम सोच लें कि उनकी आय बढ़ानी है तो वो एक लंबा प्रॉसेस हो जाता है। 

 फिर केजरीवाल बोलते हैं ‘मैं इस पर थोड़ा भिन्न विचार रखता हूं। सारे बस दान दक्षिणा में ही लगे हुए है, व्यवस्था कोई नहीं सुधार रहा है।  ये बड़ा मुश्किल है व्यवस्था वाला काम, जैसा इन्होंने कहा कि ये लंबा काम है, लंबा काम है लेकिन करना तो पड़ेगा। किसी को तो करना पड़ेगा।  दान वालों का काम दान वालों पर छोड़ दीजिए। जितने आप दान करोगे, वहां मैं आपके साथ नहीं हू। वो आप अपना अलग से कर लेना, जहां पर लड़ना, कटना, मरना है, वहां पर मैं आपके साथ खड़ा हूं। 

हमने आगे वायरल वीडियो और हमें मिले वीडियो का विश्लेषण किया। जिससे ये स्पष्ट होता है कि अधूरे वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। इससे ये साफ हो जाता है कि केजरीवाल का कहना था कि गरीबों की आय बढ़ाने पर काम होना चाहिए, जिससे उन्हें दान-दक्षिणा पर निर्भर न होना पड़े। 

बतादें कि  2017 में रिलीज हुई ये फिल्म केजरीवाल (आर्काइव) सामाजिक कार्यकर्ता से राजनेता बनने के सफर पर आधारित है, जिसका निर्देशन विनय शुक्ला ने किया है।

फिल्म की खबर मीडिया रिपोर्टस में भी प्रकाशित है। फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह एक आईएएस ऑफिसर अपनी नौकरी छोड़ कर राजनीति में उतरता है और भ्रष्टाचार, साफ-सफाई, बुनियादी सुविधाओं जैसे मुद्दों पर मौजूदा सरकार को घेरता है।

निष्कर्ष- 

तथ्य-जांच के बाद हमने पाया कि, यह अरविंद केजरीवाल पर बनी डॉक्यूमेंट्री फिल्म ‘एन इनसिगनिफिकेंट मैन’ का एक छोटा-सा हिस्सा है। असल में केजरीवाल का कहना था कि गरीबों की आय बढ़ाने पर काम होना चाहिए, जिससे उन्हें दान-दक्षिणा पर निर्भर न होना पड़े। वायरल वीडियो फर्जी दावे से वायरल।

Avatar

Title:क्या अरविंद केजरीवाल ने कहा कि वो गरीब जनता को चूसते हैं? दावा फर्जी…

Written By: Saritadevi Samal 

Result: False

Leave a Reply