क्या वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन के समर्थन में कनाडा के प्रधानमंत्री धरने पर बैठे है? जानिए सच…

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भारत में वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलनों का कुछ दिन पूर्व कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो द्वारा समर्थन किया गया था, इसके पश्चात सोशल मंचों पर इस मुद्दे को लेकर गलत व भ्रामक खबरें वायरल होना शुरू हो गयी थीं। इंटरनेट पर हाल ही में एक तस्वीर काफी तेज़ी से फैल रही है, उस तस्वीर में आप कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को ज़मीन पर बैठे हुए देख सकते है। उनके साथ पगड़ी पहने हुए कई और लोग जमींन पर बैठे हुए नज़र आ रहे है। तस्वीर के साथ जो दावा वायरल हो रहा है, उसके मुताबिक कनाडा के प्रधानमंत्री भारत में हो रहे किसान आंदोलन व भारतीय किसानों के प्रति अपनी सहानुभूति दर्शाने के लिए व इन आंदोलनों के समर्थन में धरने पर बैठे है।

वायरल हो रहे पोस्ट में लिखा है, 

“किसान भाईयो के समर्थन में धरने पर बैठे कनाडा के प्रधानमंत्री! इसको कहते है विदेश में डंका बजना! #farmers protest”

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Canadian Prime Minister on DharnaT.png

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही तस्वीर 2015 की है जब कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो दिवाली व बांदी छोर के अवसर पर कनाडा की राजधानी ओटावा के एक गुरुद्वारे में गये थे।

जाँच की शुरूवात हमने वायरल हो रही इस तस्वीर की जाँच गूगल रीवर्स इमेज सर्च के ज़रिये कि तो परिणाम में हमें एक कई समाचार लेख मिले जिनमें इस तस्वीर को प्रकाशित किया गया है। हिंदूस्तान टाइम्स के समाचार लेख के मुताबिक प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो दीवाली व बांदी छोर दिवस के अवसर पर कनाडा के ओटावा शहर में मंदीर व गुरुद्वारे गये थे। 

ये समाचार लेख 24 नवंबर 2015 को प्रकाशित किया गया है।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Canadian Prime Minister on Dharna2.png

आर्काइव लिंक

इसके पश्चात यूट्यूब पर हमने कीवर्ड सर्च किया तो हमें ओटावा सिटिज़न नामक एक आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो प्रसारित किया हुआ मिला जिसमें आप प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो को गुरुद्वारे में बैठे हुए देख सकते है। उस वीडियो में वायरल हो रही तस्वीर शुरूवात से 0.14 मिनट तक आपको देखने को मिलेगी। इस वीडियो को फरवरी 2018 में प्रसारित किया हुआ है औऱ वीडियो के साथ दी गयी जानकारी में लिखा है,

 “प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो ने 11 नवंबर, 2015 को ओटावा सिख मंदिर का दौरा किया।“

आर्काइव लिंक

प्रधानमंत्री ट्रूडे के 2015 के गुरुद्वारे दौरे की कुछ और तस्वीरें आप औटावा सिटिज़न के इस समाचार लेख में देख सकते है।

आर्काइव लिंक

अधिक जाँच करने पर हमें प्रधानमंत्री ट्रूडो के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल पर 11 नवंबर 2015 को किया हुआ एक ट्वीट मिला जिसमें उन्होंने लिखा है, 

“सोफी और मैं अपने परिवार और प्रियजनों के साथ जश्न मनाने वाले सभी लोगों को दीवाली और बांदी छोर दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ देता हूँ।“

आर्काइव लिंक

तदनंतर हमने उपरोक्त ट्वीट में दी गये वैबसाइट के लिंक को क्लिक किया तो हमें जस्टिन ट्रूडो की आधिकारिक वैबसाइट मिली जहाँ उन्होंने एक बयान जारी कर लोगों को दिवाली व बांदी छोर दिवस की शुभकामनाएं दी थीं।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया है कि उपरोक्त दावा गलत पाया है। वायरल हो रही तस्वीर 2015 की है जब कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो दिवाली व बांदी छोर के अवसर पर कनाडा की राजधानी ओटावा के एक गुरुद्वारे में गये थे।

Avatar

Title:क्या वर्तमान में हो रहे किसान आंदोलन के समर्थन में कनाडा के प्रधानमंत्री धरने पर बैठे है? जानिए सच…

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •