बैंगलोर में CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की तस्वीर को इंदौर में वकीलों की रैली के नाम से किया वायरल |

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

एक बड़े पैमाने पर लोगों का एकत्र होने की एरियल व्यू तस्वीर सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वाईरल हो रही है कि यह तस्वीर इंदौर उच्च न्यायालय के वकीलों द्वारा नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA), २०१९ और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजनशिप (NRC) के विरोध की है | साथ ही यह भी दावा किया गया है कि यदि इस विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा कोई सख्त कार्रवाई की जाती है, तो ये वकील मुफ्त में केस लड़ेंगे |

आर्काइव लिंक 

इसी तस्वीर को साझा करते हुए कई मिलते जुलते पोस्ट किये गये है |

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि..

जाँच की शुरुवात हमने इस तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम में हमें  २१ जनवरी २०२० को CNN News १८ के पत्रकार रेवथी राजीवन द्वारा अपलोड किया गया ट्वीट मिला | इस ट्वीट में तस्वीर को साझा करते हुए उन्होंने लिखा है कि “NRC, NPR, CAA के विरुद्ध विरोध शिवाजीनगर बैंगलोर में अभी शुरू है |”

आर्काइव लिंक 

इसके आलावा रेवथी राजीवन ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से इस तस्वीर के माध्यम से किये गये दावों को खारिज करते हुए एक ट्वीट जारी किया | इस ट्वीट में लिखा गया है कि “अधिवक्ताओं के इस विरोध के बारे में नहीं पता लेकिन तस्वीर मेरे द्वारा क्लिक की गई है, यह बेंगलुरु के शिवाजीनगर की है | मैंने मंगलवार को यह ट्वीट किया था |”

आर्काइव लिंक 

फैक्ट क्रेस्सन्डो के CNN News18 के पत्रकार रेवथी राजीवन से संपर्क किया उनके द्वारा हमें इस घटना की अन्य दूसरी तस्वीरें उपलब्ध करायीं गयी | यह तस्वीरें भी उनके द्वारा खीची गयी है | 

रेवथी राजीवन द्वारा खिंची गयी तस्वीर में हम “AALCO DEPARTMENTS” लिखी हुई बिल्डिंग को देख सकतें हैं | इसके पश्चात हमने गूगल मैप्स पर इस बिल्डिंग को ढूँढा, जिसके परिणाम में हमें पता चला की यह बिल्डिंग बैंगलोर के शिवाजीनगर में ही स्थित है | नीचे आप रेवथी राजीवन द्वारा उपलब्ध कराई गयी और बैंगलोर में स्थित आल्को डिपार्टमेंट की तस्वीर की तुलना देख सकते हैं | 

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस ने इस प्रदर्शन के बारें में २२ जनवरी २०२० को एक खबर प्रकाशित की थी, जिसे आप यहाँ पढ़ सकते है | न्यूज़ कर्नाटक ने इस रैली से संबंधित दुसरी तस्वीरों को अपनी खबर में प्रकाशित किया था | 

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर इंदौर में वकीलों की CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की नही है बल्कि यह तस्वीर बैंगलोर के शिवाजीनगर में CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की है |

Avatar

Title:बैंगलोर में CAA के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की तस्वीर को इंदौर में वकीलों की रैली के नाम से किया वायरल |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •