क्या भाजपा ने चुनाव जीतने के लिए १९ मई के बाद ईवीएम चेंज करवा दी है?

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२० मई २०१९ को रफ़ी उद्दीन नामक फेसबुक यूजर ने एक विडियो पोस्ट किया | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि अंतर्राष्ट्रीय मीडिया मे खुलासा – मोदी ने हारा हुआ चुनाव जीतने के लिए 200 लोकसभा सीटो पर ईवीएम चेंज करवा दी है |” इस विडियो में एक टीवी चैनल का बुलेटिन दिखाया जा रहा है | चैनेल का नाम ‘टीएनएन वर्ल्ड न्यूज़’ देखा जा सकता है | विडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि उन्हें सरकारी सूत्र से पता चला है कि लोकसभा चुनाव के परिणाम से पहले इवीएम् मशीन भाजपा के समर्थन में बदल दिया जायेगा | चुनाव के परिणाम से पहले भाजपा सदस्य इवीएम मशीन को स्ट्रोंग रूम से बदल देने का दावा किया जा रहा है | आम नागरिक को सावधानी बरतने को कहा गया है |

विडियो में न्यूज़ एंकर कहती है :- “१९ मई के बाद, जब हर राजनीतिक दल और व्यक्ति सात-चरण के चुनाव के बाद आराम करेंगे, ईवीएम को स्ट्रांग रूम में भाजपा के समर्थन में बदल दिया जायेगा | इस बदली के समय स्ट्रोंग रूम के भीतर भाजपा के समर्थकों की निगरानी की होगी | ये राज्य पश्चिम बंगाल, ओडिशा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, कर्नाटक और केरल हैं |”

एंकर पूरी साजिश के बारे में बात करती है और इसमें मोदी-शाह की जोड़ी से देश को बचाने की अपील भी करती है | प्रचार वीडियो का अंत ‘सेव इंडिया सेव योरसेल्फ, जय हिंद’ से होता है |

इस विडियो के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि जिन इवीएम मशीन पर लोगों ने अपना मतदान किया है उससे रातोरात बदल दिया जायेगा | बदले हुए इवीएम भाजपा के समर्थन में है |  | यह विडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी चर्चा में है |

आर्काइव लिंक

इस विडियो में ऐसी कई चीज़े है जो इस विडियो व दावों पर संदेह पैदा करता है | इस टीवी बुलेटिन में एक भी हैडलाइन या विज्ञापन नहीं दिख रहा है, जोकी आमतौर पर हर टीवी चैनल पर देखा जा सकता है | इस विडियो में यह कहा गया है कि इस इवीएम घोटाले की खबर उन्हें सरकारी कर्मचारी से मिली | इस बात को साबीत करने के लिए एक भी सुबूत नहीं दिखाया गया है | तो क्या इतने बड़े धोखे की खबर एक आदमी के कहने पर इन्होंने प्रसारित कर दिया? हमें इस विडियो व दावों की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि…

जांच की शुरुआत हमने इस विडियो में दिखाए गये चैनल को गूगल पर ढूँढने से की | परिणाम से हमें इस चैनल के वेबसाइट का लिंक मिला | इस वेबसाइट के ‘अबाउट अस’ में लिखा गया है कि ट्रायकलर न्यूज नेटवर्क में वह दुनिया भर की बिना सेंसर की खबरें दिखाते हैं |

टीएनएन की वेबसाइट को ढूँढ़ते वक्त हमें दो वेबसाइट मिले, एक का नाम टीएनएन वर्ल्ड था और दुसरे का नाम ट्रायकलर टीवी है | इन दोनों वेबसाइट का लोगो समान था | इससे हम यह कह सकते है कि यह दो वेबसाइट आपस में जुडे हुए हो सकते है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

हमने इन दोनों वेबसाइट का डोमेन नाम और लोकेशन ढूँढने की कोशिश की | who.is की वेबसाइट पर इन टीएनएन वर्ल्ड और ट्रायकलर टीवी को ढूँढने से हमें पता चला कि टीएनएन वर्ल्ड में इसकी प्राइवेसी सेटिंग्स लागु किया गया हैं और यह वेबसाइट ब्रिटेन के लंदन में पंजीकृत है | साथ ही देखा जा सकता है कि टीएनएन टीवी अमेरिका के एरिजोना में पंजीकृत है |  

TNN World details

Tricolour TV details

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

इसके पश्चात हमने इस विडियो में दिखाये गये चैनल टीएनएन वर्ल्ड के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने की कोशिश की | कंपनी चेक नामक वेबसाइट से हमने ट्रायकलर न्यूज़ नेटवर्क (टीएनएन) के बारें में ढूँढा तो हमें पता चला कि इस कंपनी की स्थापना २९ नवंबर २०१८ को हुई थी और यह कंपनी लंदन में स्थित है |

आर्काइव लिंक

इस वेबसाइट से हमें यह भी पता चला कि इस कंपनी की एक डायरेक्टर है जिसका नाम डायना बिसीन है जिसे डायरेक्टर के पोस्ट पर २९ नवंबर २०१८ को नियुक्त किया गया था | डायना बिचिन रोमानियाई नागरिक हैं और कंपनी चेक के अनुसार, वह दो कंपनियों में निदेशक (डायरेक्टर) हैं | कंपनी का नाम- 1. ईवा तांत्रिक मसाज लिमिटेड और 2. ट्रायकलर न्यूज नेटवर्क लिमिटेड |

आर्काइव लिंक

डायना बिसीन को हमने फेसबुक पर ढूँढा तो उनका फेसबुक अकाउंट मिला | उनके प्रोफाइल में देखा जा सकता है कि वे लंदन में रहती है और ट्रायकलर न्यूज़ नेटवर्क में डायरेक्टर ऑफ़ ऑपरेशन के पोस्ट पर काम करती है | हमें डायना का लिंक्डइन प्रोफाइल भी मिला |

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने विडियो में दिखाई गयी एंकर को ढूँढने की कोशिश की | हमने पाया कि इस वीडियो क्लिप में समाचार प्रस्तुतकर्ता क्रिस्टिन स्टीन नामक एक महिला है | उनके इंस्टाग्राम प्रोफाइल के अनुसार वे एक अंशकालिक अभिनेत्री, पत्रकार और एक प्रस्तुतकर्ता है | रिफ्लेक्शंस टैलेंट एजेंसी की वेबसाइट पर उसके प्रोफाइल का उल्लेख विभिन्न फिल्मों, टेलीविज़न शो, आदि में किया गया है व यह कहा गया है कि उसने कौनसे फिल्मों व टीवी शो में काम किया है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

इंडियन एक्सप्रेस ने कुछ महीने पहले इस वेबसाइट के बारे में एक विस्तृत कहानी प्रकाशित की थी | उसमे लिखा गया है कि, इस वेबसाइट और इस सनसनीखेज खबर को बिना किसी प्रामाणिक सूत्र के जिस तरह से प्रस्तुत किया गया है, उसके बारे में संक्षिप्त विवरणों को देखते हुए, यह कहा जा सकता है कि इनके द्वारा दी गई जानकारी विश्वसनीय नहीं है |

आर्काइव लिंक

उपरोक्त तथ्यों से हम स्पष्ट हो सकते है कि इस कंपनी के माध्यम से किए गए दावों पर विश्वास नहीं किया जा सकता है | अब आते है विडियो के दावों पर | विडियो में कहा गया है कि भाजपा चुनाव जीतने के लिए १९ मई २०१९ के बाद ईवीएम को बदलने की साजिश कर रही थी | गूगल सर्च करने पर हमें पता चला कि मतदान किये गए इवीएम मशीन स्ट्रोंग रूम में रखा जाता है | चुनाव आयोग के अनुसार मशीन की सुरक्षा के लिए तीन प्रकार की सुरक्षा प्रणालियाँ बनाई गई हैं | सभी दलों के प्रतिनिधि स्ट्रोंग रूम के संरक्षक होते है | उम्मीदवार या उनके नामित एजेंट हर समय २४ घंटे सतर्कता के लिए जागरूक बने रहते हैं | यह पूरी प्रक्रिया सीसीटीवी द्वारा रेकॉर्ड की जाती है | अधिक जानकारी के लिए चुनाव आयोग द्वारा प्रकाशित प्रेस रिलीज़ पर क्लिक करे | इससे हमें यह पता चलता है कि स्ट्रोंग रूम में काफ़ी कड़क और मजबूत सुरक्षा मुहैय्या कराइ जाती है |

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | वायरल विडियो में दिखाई गई न्यूज़ चैनल एक विश्वसनिय वेबसाइट नहीं है | उन्होंने एक आदमी द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर अपने दावें पेश किये जिसका कोई सुबूत नहीं दिया | चुनाव आयोग द्वारा प्रकाशित प्रेस रिलीज़ में स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि स्ट्रोंग रूम में कड़क सुरक्षा रखी जाती है |

Avatar

Title:क्या भाजपा ने चुनाव जीतने के लिए १९ मई के बाद ईवीएम चेंज करवा दी है?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •