रांची में हुई पुलिस की लाठीचार्ज का वीडियो प्रयागराज का बता वायरल किया जा रहा है।

Missing Context Social

पुलिस की लाठीचार्ज का यह वीडियो झारखंड के रांची का है, प्रयागराज का नहीं। 

अग्निपथ योजना के खिलाफ हो रहे हिंसक प्रदर्शनों के चलते पुलिस लाठीचार्ज का एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। आप देख सकते है कि पुलिस प्रदर्शनकारियों पर जोरदार लाठियाँ बरसा रही है। दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो उत्तर प्रदेश के प्रयागराज के अटाला इलाके का है।

वायरल हो रहे वीडियो के साथ यूज़र ने लिखा है, “इस कैमरा मैन को सलामी देते हैं जिन्होंने इस दृश्य को क्रिकेट कामेंट्री में बदल दिया। प्रयागराज अटाला।“

फेसबुक


Read Also: रेलवे-एनटीपीसी को लेकर हुए विरोध प्रदर्शन के पुराने वीडियो को अग्निपथ योजना का बताकर वायरल


अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिये हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च किया। परिणाम में हमें यही वीडियो I-Next Live नामक एक चैनल पर ला। इसके साथ दी गयी जानाकारी में बताया गया है कि नमाज के बाद रांची में भारी हिंसा और पथराव हुआ। इसके बाद  पुलिस ने लाठीचार्ज और फायरिंग की। इस वीडियो में बताया गया है कि यह दृश्य रांची के मेन रोड इलाके का है।

आर्काइव लिंक

हमने वायरल वीडियो और इस वीडियो को ध्यान से देखा। उसमें हमें सफारी नाम की एक दुकान दिखायी दे रही है। हमने गूगल मैप्स पर कि यह दुकान रांची के महात्मा गांधी मेन रोड़ पर स्थित है। इसकी तस्वीर भी हमें गूगल पर पोस्ट की हुई मिली। आप नीचे इस दुकान की तस्वीर को देख सकते है।

आर्काइव लिंक

एन.डी.टी.वी के अनुसार , नूपुर शर्मा की विवादित टिप्पणी के खिलाफ रांची में विरोध प्रदर्शन किया गया था। मुस्लिम समुदाय की तरफ से नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग की जा रही थी। 

उस दिन शुक्रवार की नमाज़ के बाद लोगों ने प्रदर्शन के चलते पथराव शुरू किया। भीड़ को नियंत्रण में लाने के लिये पुलिस ने लाठीचार्ज किया और हवा में फायरिंग भी की। इस दौरान कुछ पुलिसकर्मी घायल हुये। इसके बाद रांची में कुछ जगहों पर कर्फ्यू लगा दिया गया।

आपको बता दें कि यह बात सच है कि 10 जून को शुक्रवार की नमाज़ के बाद प्रयागराज में भी विरोध प्रदर्शन किया गया था। वहाँ पर भी प्रदर्शनकारियों ने पथराव किया व हिंसा की और बदले में पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया। परंतु वायरल हो रहा वीडियो रांची का है, प्रयागराज का नहीं।


Read Also: सेना में भर्ती न होने के कारण आत्महत्या करने वाले युवक की खबर पुरानी; अग्निपथ योजना से नहीं कोई संबंध


निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा आंशिक रूप से गलत है। यह वीडियो प्रयागराज का नहीं, बल्की झारखंड के रांची का है।

Avatar

Title:रांची में हुई पुलिस की लाठीचार्ज का वीडियो प्रयागराज का बता वायरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: Missing Context

Leave a Reply