उप्र में सपा कार्यकाल में संतो पर हुए अत्याचार की कथित तस्वीर दरअसल गुजारात से है; जानिए सच

Elections False Political Social

यह तस्वीर अहमदाबाद में स्थित आसाराम बापू के आश्रम में 2009 में हुई कार्रवाई की है। इसका उत्तर प्रदेश से कोई संबंध नहीं।

एक शख्स को बालों से पकड़कर खिंचते हुए ले जा रहे पुलिस वाले की एक तस्वीर काफ़ी वायरल हो रही है। इसके साथ दावा किया जा रहा है कि यह तस्वीर उत्तर प्रदेश में समाजावादी पार्टी के कार्यकाल के दौरान की है। मुलायम सिंह ने पुलिस को आदेश दे कर अयोध्या के हनुमानगढ़ी में संतों को बाल पकड़कर खिंचवाया था। 

वायरल हो रही पोस्ट में लिखा है, “हमारे संतो का बाल पकड़ कर खिंचवाने वाला कोई जेहादी नही था,वो अखिलेश यादव का बाप था। याद है ना? चित्र हनुमानगढी अयोध्या।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च कर की, परिणाम में हमें यही तस्वीर आसाराम बापू आश्रम के वैबसाइट पर प्रकाशित की हुई मिली। इस वैबसाइट पर लिखे हुए लेख के मुताबिक वर्ष 2009 में गुजरात में स्थित संदेश नामक एक स्थानीय समाचार पत्र में आसाराम बापू के आश्रम के बारे में कुछ लेख छापे गए थे और इसके खिलाफ बापू के भक्तों ने 26 नबंबर 2009 में एक रैली निकाली थी। 

उस रैली में शामिल कुछ लोगों ने कथित तौर पर पुलिस पर हमला किया था। इसके बदले में पुलिस ने अहमदाबाद में स्थित आसाराम बापू के आश्रम पर रेड़ डाल कर वहाँ से काफी लोगों को हिरासत में लिया। वायरल हो रही तस्वीर इसी कार्रवाई की है। इस लेख में आप इस घटना की और भी तस्वीरें देख सकते है।

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमें 30 नवंबर 2009 को आजतक द्वारा प्रसारित एक वीडियो मिला। उसमें इस घटना की रिपोर्ट दिखाई गई है। इस वीडियो में आप वायरल तस्वीर में दिख रहे शख्स को 0.53 से 0.54 मिनट के बीच भागते हुए देख सकते है। 

इसके साथ दी गयी जानकारी में लिखा है, गांधीनगर पुलिस द्वारा अहमदाबाद में स्थित असाराम बापू आश्रम से लगभग 200 लोगों को हिरासत में लिया गया। पुलिस आश्रम में उस शख्स को खोज रही थी जिसने रैली में पुलिस पर पत्थरबाजी की थी। इसमें यह भी बताया गया है अहमदाबाद और गांधीनगर की पुलिस ने मिलकर आश्रम पर छापा मारा था। इस घटना के बारे में  इंडियन एक्प्रेस ने भी 26 नवंबर 2009 को खबर प्रकाशित की थी।

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रही तस्वीर के साथ किया गया दावा गलत है। यह तस्वीर गुजरात के अदमदाबाद से है। वर्ष 2009 में पुलिस ने आसाराम बापू के आश्रम में रेड़ की थी यह उस वक्त की तस्वीर है।

Avatar

Title:उप्र में सपा कार्यकाल में संतो पर हुए अत्याचार की कथित तस्वीर दरअसल गुजारात से है; जानिए सच

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False