निहंग सिखों के एक पुराने वीडियो को वर्तमान में किसान आंदोलन से जोड़ फैलाया जा रहा है|

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

किसान बिल को लेकर देश के अलग अलग राज्यों में किसान आंदोलन कर रहे है | इस आंदोलन को लेकर सोशल मीडिया पर कई भ्रामक दावों के साथ कई तस्वीरें और वीडियो को फैलाया जा रहा है | फैक्ट क्रेसेंडो ने पूर्व में भी इस आंदोलन से संबंधित गलत व भ्रामक पोस्टों का खंडन करते हुए फैक्ट चेक किया है | वर्तमान में चल रहे एक वायरल वीडियो को इस आंदोलन से जोड़कर फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन में हिस्सा लेने के लिए करीब बीस हजार निहंग सिख २ हजार घोड़ों के साथ दिल्ली की तरफ बढ़ कर रहे हैं | 

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि

 “आज पंजाब से 2000 हजार घोङे और 20000 निहंग सिंह किसानों के समर्थन में दिल्ली रवाना |”

आर्काइव लिंक 

अनुसन्धान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को कीवर्ड के माध्यम से गूगल पर ढूँढने से की, जिसके परिणाम से हमें इस वीडियो से सम्बंधित वर्तमान की कोई खबर प्राप्त नहीं हुई | तद्पश्चात हमने इस वीडियो को इन्विड वी वेरीफाई टूल के मदद से कीफ्रेम्स में काट गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से किया जिसके परिणाम से हमें एक यूट्यूब चैनल पर यह वीडियो उपलब्ध मिला | वीडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “दिल्ली फ़तेह दिवस २०१८ बुढा दल निहंग सिंह |”

इस वीडियो को सम्बंधित कीवर्ड सर्च करने पर हमें यह वीडियो २०१८ में १६ नवंबर को अपलोड किया हुआ पाया |

फैक्ट क्रेसेंडो ने तद्पश्चात बुढ़ा दल दिल्ली के दफ्तर में सम्पर्क किया जहाँ से जत्थेदार रविंदरपाल सिंह ने हमें बताया कि 

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो वर्तमान में चल रहे किसान आंदोलन का नहीं है | यह वीडियो उस वक़्त का है जब दल खालसा निहंग सिखों ने २०१८ में मजनू का टीला गुरुद्वारे से लाल किले तक नगर कीर्तन निकाला था।  इसके आलावा अगर २०००० निहंग सिखों के हजार घोड़ों के साथ दिल्ली की तरफ आ रहे थे, ये बात ज़रूर खबरों में आती | वे कभी भी बिना बताये दिल्ली के लिए रवाना नही होते | इस बारें में हमारे पास भी कोई जानकारी नही आई है अब तक, हालाँकि, अगर जरूरत पड़ी, तो निहंग सिख अपने किसान भाइयों के समर्थन में आ सकते हैं |”

तद्पश्चात हमने वायरल वीडियो का यूट्यूब पर २०१८ से उपलब्ध वीडियो से तुलनात्मक विश्लेषण किया जिससे हमें कई फ्रेम्स सदृश्य नज़र आये जिन्हें आप नीचे देख सकते है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त वीडियो के साथ हो रहे दावे को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो का वर्तमान में चल रहे किसान आंदोलन से कोई सम्बन्ध नहीं है | यह वीडियो २०१८ में फ़तेह दिवस के दिन का है |

Avatar

Title:निहंग सिखों के एक पुराने वीडियो को वर्तमान में किसान आंदोलन से जोड़ फैलाया जा रहा है|

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •