क्या ब्रिटेन के लोग भारत के लोक सभा चुनाव के एग्जिट पोल में मोदी सरकार को जीतते हुए देखकर ख़ुशी से जयकार कर रहे है?

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२० मई २०१९ को पंकज चौकीदार सिन्हा नामक एक फेसबुक यूजर ने एक विडियो पोस्ट किया | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है किमोदी तूफ़ान नहीं सोनामी है | यूनाइटेड किंगडम में एग्जिट पोल का एन्जॉय करते हुए | मोदी भक्त |” विडियो में हम ब्रिटेन की लोगों को एक बड़े स्क्रीन पर भारत के लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल को देखकर खुश व उत्साहित होकर आनंद करते हुए देख सकते है | एग्जिट पोल में हम भाजपा को इस चुनाव में सत्ता में आने की भविष्यवाणी करते हुए देख सकते है | पोस्ट के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि ब्रिटेन में बीजेपी समर्थक यह एग्जिट पोल देखकर खुश हो रहे है | यह विडियो सोशल मीडिया में काफ़ी तेजी से साझा की जा रही है | फैक्ट चेक किये जाने तक यह पोस्ट लगभग २६० प्रतिक्रियाएं प्राप्त कर चुकी थी |

आर्काइव लिंक

क्या वास्तव में ब्रिटेन के लोग एग्जिट पोल में मोदी सरकार को सत्ता में वापस आते हुए देखकर ख़ुशी से जयजयकार कर रहे है? हमने सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि..

इस विडियो को बारीकी से देखने पर हमें यह पता चला की विडियो में दिखाई गयी स्क्रीन थोड़ा अजीब तरीके से हिलती है | यह बात इस विडियो के सच्चाई पर संदेह पैदा करता है | जांच की शुरुआत में हमने इस विडियो को इनविड टूल का इस्तेमाल करते हुए छोटे छोटे कीफ्रेम्स में तोडा | इन कीफ्रेम्स को हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च पर ढूँढा | परिणाम से हमें यह विडियो यू-ट्यूब पर मिला | इस विडियो को १६ जून २०१६ को हार्ट न्यूज़ वेस्ट कंट्री नामक यूजर ने अपलोड किया है | विडियो के विवरण में लिखा गया है कि एश्टन गेट स्टेडियम में बड़े पर्दे पर यूरो २०१६ देख रहे प्रशंसकों ने वेल्स के खिलाफ इंग्लैंड के लिए डैनियल स्ट्रीज की जीत का जश्न मनाया |

इस विडियो में हम स्क्रीन पर यूरो २०१६ का फुटबॉल मैच देख सकते है जिसे देखकर वहां के लोग जश्न मना रहे है | इससे हम स्पष्ट हो सकते है कि यह विडियो पुराना है और इसके साथ छेड़छाड़ की गई है |

हार्ट न्यूज़ के वीडियो का १५ सेकंड का एक सेक्शन भ्रामक पोस्ट की क्लिप से मेल खाता है, लेकिन भारतीय टीवी समाचार के बजाय स्क्रीन पर एक फुटबॉल मैच दिखाई देता है | नीचे दी गई छवि यू-ट्यूब पर मूल वीडियो के साथ फेसबुक वीडियो के स्क्रीनशॉट की तुलना करती है |

ब्रिस्टल स्पोर्ट्स यूनाइटेड किंगडम की वेबसाइट पर भी हमें उपरोक्त मूल विडियो व उससे जुडी अधिक तस्वीरें मिली |

इसके पश्चात हमने यू-ट्यूब पर अलग अलग कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते हुए वायरल विडियो में दिखाये गये लोक सभा एग्जिट पोल के ब्रॉडकास्ट को ढूँढने की कोशिश की | हमें इंडिया टुडे द्वारा प्रसारित एग्जिट पोल का विडियो मिला | यह विडियो १९ मई २०१९ को अपलोड किया गया है | इस विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “उत्तर प्रदेश एग्जिट पोल परिणाम २०१९ | मोदी लहर को रोकने में मायावती-अखिलेश फेल |” इस विडियो में ७ मिनट ५० सेकंड पर हम वायरल विडियो में जोड़ा गया स्क्रीनशॉट देख सकते है |

नीचे उस क्षण का स्क्रीनशॉट है जो टाइमस्टैम्प ७ मिनट ५० सेकंड पर देखा जा सकता है |

नीचे दी गई यूट्यूब विडियो मूल वीडियो के साथ फेसबुक में वायरल की गयी वीडियो की तुलना करती है | मूल विडियो में स्क्रीन पर फुटबॉल मॉल देखा जा सकता है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह विडियो २०१६ का है, जब यूरो २०१६ का फुटबॉल मैच देखते हुए ब्रिटेन के लोग उत्साहित होकर जश्न मना रहे थे | मूल विडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है | इंडिया टुडे द्वारा दिए गए एग्जिट पोल के परिणाम का स्क्रीनशॉट लेकर मूल विडियो के स्क्रीन पर जोड़ दिया गया है |

Avatar

Title:क्या ब्रिटेन के लोग भारत के लोक सभा चुनाव के एग्जिट पोल में मोदी सरकार को जीतते हुए देखकर ख़ुशी से जयकार कर रहे है?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •