क्या तस्वीर मे दिखाई जाने वाली महिला सच मे कश्मीर की पहली पायलट है ? जानिये सच |

False International Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२७ फ़रवरी २०१९ को फेसबुक पर ‘Kinza Rani’ नामक एक यूजर ने एक पोस्ट साझा किया गया है | पोस्ट मे एक महिला पायलट की फोटो दर्शायी गयी है | पोस्ट का विवरण इस प्रकार है – کشمیر کی پہلی خاتون پائلٹ وہ پاکستانی نہیں ہو سکتا جو اس فوٹو کو شیئر نہ کرے۔  پلیز پاکستانیوں شیئر کرو جلدی سے

यह उर्दू भाषा है | सरल हिंदी मे अनुवाद – यह कश्मीर की पहली महिला पायलट है | वो पाकिस्तानी नहीं जो इस फोटो को साझा नहीं करेगा | पाकिस्तानियों जल्दी साझा करो |

इस पोस्ट द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि “चित्र मे दर्शायी महिला कश्मीर की पहली महिला पायलट है |” क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:  

FacebookPost | ARCHIVED LINK

संशोधन से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले उपरोक्त पोस्ट मे दी गयी तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च मे ढूंढा, तो हमें जो परिणाम मिले वह आप नीचे देख सकते है |

संशोधन मे ‘कनीज़ फातिमा बलती’ का नाम आया | साथ ही ‘Kashmirage’ नामक एक कश्मीरी समाचार वेबसाइट पर २१ सितम्बर २०१८ को दी गयी ‘कश्मीर की महिला पायलट’ के बारे मे एक ख़बर मिली | ख़बर मे ४ महिला पायलट के बारे मे लिखा है जो कश्मीर से हैं और इतिहास मे अपना नाम लिख रहीं है | पूरी ख़बर को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

KashmiragePost | ArchivedLink

इस ख़बर मे ‘कनीज़ फातिमा’ नामक महिला की तस्वीर उपरोक्त पोस्ट से हुबहू मिलती है | ख़बर के अनुसार कनीज़ फातिमा जम्मू कश्मीर के लद्दाख से हैं और वें कश्मीर की दूसरी मुस्लिम महिला पायलट हैं |

इसके पश्चात जब हमने गूगल मे ‘First female pilot of Kashmir’ की वर्ड्स देकर ढूंढा, तो हमें जो परिणाम मिले वह आप नीचे देख सकते है |

इस संशोधन मे हमें दो नाम का उल्लेख मिला | इरम हबीब और सामी आरा, इन दोनों महिलाओं के बारे मे यह कहा गया कि यह कश्मीर की पहली महिला पायलट हैं | इस बात की पुष्टि करने के लिए हमने दोनों के बारे जांच की |

जब हमने गूगल मे ‘sami ara became a pilot’ की वर्ड्स से ढूंढा, तो हमें जो परिणाम मिले वह आप नीचे देख सकते है |

‘GreaterKashmir’ नामक एक समाचार वेबसाइट द्वारा दी गयी २० अक्टूबर २०१८ की एक ख़बर हमें मिली, जिसमे लिखा हुआ था कि सामी आरा कश्मीर की पहली महिला पायलट थी | उन्हें १९९४ मे CPL यानी कमर्शियल पायलट लाइसेंस मिला था और २००४ मे वों कश्मीर की पहली महिला पायलट बनी | पूरी ख़बर को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

GreaterkashmirPost | ArchivedLink

फिर हमने गूगल मे ‘iram habib became a pilot’ की वर्ड्स से ढूंढा, तो हमें जो परिणाम मिले वह आप नीचे देख सकते है |

‘TOI’ द्वारा ३१ अगस्त २०१८ को दी गयी ख़बर में लिखा है कि इरम हबीब पहली कश्मीरी मुस्लिम पायलट है | पूरी ख़बर को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें |

TimesofindiaPost | ArchivedLink

इस संशोधन से हमें पता चलता है कि, यह उपरोक्त पोस्ट मे दर्शाया गया चित्र कश्मीर की पहली महिला पायलट का नहीं है | ‘GreaterKashmir’ वाली २० अक्टूबर २०१८ पर दी गयी ख़बर मे भी इस बात की पुष्टि की गयी है |

GreaterkashmirPost | ArchivedLink

उपरोक्त तस्वीर ‘कनीज़ फातिमा बलती’ की है और वह पहली कश्मीरी मुस्लिम महिला पायलट नहीं है | पहली कश्मीरी मुस्लिम पायलट ‘सामी आरा ‘ है जो सन २००४ मे पायलट बनी थी |

जांच का परिणाम : इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा की, “चित्र मे दर्शायी महिला कश्मीर की पहली महिला पायलट है |” ग़लत है | उपरोक्त पोस्ट में दर्शाया गया चित्र ‘कनीज़ फातिमा बलती’ की है, और पहली कश्मीरी मुस्लिम पायलट ‘सामी आरा’ है; जो सन २००४ मे पायलट बनी थी |

Avatar

Title:क्या तस्वीर मे दिखाई जाने वाली महिला सच मे कश्मीर की पहली पायलट है ? जानिये सच |

Fact Check By: Nita Rao 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •