क्या पाकिस्तानी सेना ने घायल भारतीय पायलट को पकड़ा?

False International
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

यह चित्र हमने प्रतिनिधित्व हेतु लिया गया है ।

२७ फरवरी २०१९ को एक विडियो इन दिनों फेसबुक, ट्विटर व यूट्यूब पर काफ़ी चर्चा में है | इस विडियो के अंग्रेजी हैडलाइन में यह कहा गया है कि भारतीय जेट पायलट को पाकिस्तान सेना ने किया गिरफ्तार | यह एक छोटा और पहला अचरज है, चलो देखते हैं कि आने वाले दिनों में क्या होता है। ब्रावो!” इस विडियो को भारतीय एयर फ़ोर्स ने पाकिस्तान सीमा में जाकर जो गैर लश्कर कार्रवाई की है उसके साथ जोड़ा जा रहा है और तेजी से साझा किया जा रहा है | भारत-पाकिस्तान के दरम्यान बढ़ते तनाव की संवेदनशीलता को देखते हुए इस विडियो की सच्चाई जानना ज़रूरी है |

आर्काइव लिंक

२७ फरवरी २०१९ को पाकिस्तानी सशस्त्र सेना के प्रवक्ता ने अपने ट्विटर अकाउंट पर दावा किया कि पाकिस्तान वायु सेना ने पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र के अंदर दो भारतीय वायु सेना के विमानों को मार गिराया था और भारतीय वायु सेना के एक पायलट को गिरफ्तार किया था और दुसरे को देखा गया था । लेकिन भारतीय एयरफोर्स या भारत सरकार द्वारा दुसरे जवान के सन्दर्भ में किये गए दावे की कोई पुष्टि नहीं हुई है।  

archive link

यह जो वीडियो वायरल हुआ है उसमे यह दावा किया गया है कि वीडियो में दिखाया गया पायलट उन दो पायलटों में से एक है जिन्हें पाकिस्तान की सेना ने गिरफ्तार किया है | उसी वीडियो को डॉ. शाहिद मसूद नामक मिडिल ईस्ट के एक ट्विटर अकाउंट यूजर ने भी शेयर किया है, जो अपने ट्विटर बायो में एयरवेव्स मीडिया समूह के अध्यक्ष होने का दावा करता है व उन्होंने भी अपने पोस्ट के हैडलाइन में यह लिखा है कि दूसरा भारतीय पायलट भी जिंदा गिरफ्तार हो गया है |

आर्काइव लिंक

संशोधन से पता चला कि…

उपरोक्त विडियो की जांच करने पर हमने पाया कि यह विडियो ३० सेकंड का है जिसको ध्यान से सुनने पर ११ सेकंड के बाद पीछे से कोई “नीरू नीर तेराकेली” कहते हुए सुना जा सकता है | गूगल ट्रांसलेशन का इस्तेमाल करके हमने यह जाना की यह वाक्य कन्नड़ भाषा में बोला गया है | इस कन्नड़ वाक्य का हिंदी में मतलब है “कोई कृपया पानी लाओ” | इससे हम स्पष्ट रूप से कह सकते हैं की वीडियो को कन्नड़ भाषी राज्य में बनाया गया था |

अधिक जानकारी के लिए हमने गूगल पर एक हफ्ते में भारतीय वायुसेना के साथ हुए दुर्घटना को खोजने की कोशिश की | द न्यूज़ मिनट के वेबसाइट पर मिले खबर से हमने जाना की एअरो इंडिया २०१९ से एक दिन पहले, सूर्य किरण एयरोबेटिक्स  टीम के दो विमान १९ फरवरी २०१९ को पूर्वाभ्यास के दौरान बेंगलुरु के येलहंका एयरफोर्स स्टेशन पर दुर्घटनाग्रस्त हो गये थे ।

TheNewsMinute | आर्काइव लिंक

विडियो में घायल होकर ज़मीन पर पड़े दिखाई दे रहे शख्स असल में विंग कमांडर विजय शेलके है | चेतन कुमार बीएम नामक एक २२ वर्षीय वैमानिकी इंजीनियरिंग छात्र, जो बेंगलुरु में येलहंका एयरफोर्स स्टेशन के पास रहता है, उनकी मदद करता है व उनका हाथ पकड़कर उन्हें शांत रहने को कहता है और उन्हें आश्वासन देता है कि चिकित्सा सहायता आ रही है | इस बात की पुष्टि कई प्रतिष्ठित मडिया संगठनों के ख़बरों से होती है |

TheNewsMinute | आर्काइव लिंक

कई मीडिया संगठनों ने बेंगलुरु में हुई हवाई दुर्घटना की खबर प्रकाशित की है और यह भी लिखा है कि कैसे एक छात्र ने घायल पायलट की मदद की |

TheTimesofIndia | आर्काइव लिंक
ThenewIndianExpress | आर्काइव लिंक
IndiaToday | आर्काइव लिंक

अब सवाल है पाकिस्तान द्वारा कथित रूप से हिरासत लिए गए दुसरे भारतीय एयर फ़ोर्स जवान का | इसका स्पष्टीकरण होता है रायटर्स इंडिया के ट्विटर अकाउंट से जो इस बात की पुष्टि करता  है की पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता का कहना है कि पाकिस्तान की सेना के पास केवल एक भारतीय पायलट है |

आर्काइव लिंक

भारतीय रक्षा मंत्रालय द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति से भी इस बात की पुष्टि होती है कि १९ फरवरी २०१९ को सूर्य किरण विमानों कि हवाई टक्कर बेंगलुरु में हुई थी, जहाँ विंग कमांडर विजय शेलके व दो और पायलट घायल हुए थे |

PIB

निष्कर्ष : तथ्यों की जांच करने पर हमने पाया कि सोशल मीडिया पर वायरल हुआ यह विडियो गलत (FALSE) है | उपरोक्त विडियो १९ फरवरी २०१९ को बेंगलुरु में हुए हवाई टक्कर का है जिसमे विंग कमांडर विजय शेलके घायल हुए थे व एक वैमानिकी इंजीनियरिंग छात्र ने उनकी मदद की थी | इसलिए इस विडियो में किया गया यह दावा कि यह पाकिस्तानी सेना द्वारा गिरफ्तार किया हुआ दूसरा भारतीय पायलट है, पूर्णतया गलत है |

Avatar

Title:क्या पाकिस्तानी सेना ने घायल भारतीय पायलट को पकड़ा?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •