बाराबंकी में हुये मोक ड्रिल वीडियो को कोरोनावायरस पेशेंट के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के नाम से वाइरल किया जा रहा है |

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर करोनावाइरस को लेकर विभिन्न वीडियो और तस्वीरें भ्रामक दावे के साथ फैलाई जा रही है | ऐसे ही एक वीडियो को सोशल मीडिया पर फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि भारत में कोरोनावायरस से संक्रमित पेशेंट के साथ पुलिस और डॉक्टर किस तरह दुर्व्यवहार कर रहे है | वीडियो में गाड़ी से जबरन जिस व्यक्ति’ को निकला जा रहा है वो व्यक्ति कथित रूप से कोरोनावायरस से संक्रमित मरीज़ बताया गया है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को इन्विड टूल की मदद से गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम में हमें २८ मार्च २०२० को अपलोड किया गया यूट्यूब वीडियो मिला जिसके शीर्षक के अनुसार यह वीडियो उत्तर प्रदेश में बाराबंकी में मोक ड्रिल का है | 

फैक्ट क्रेसेंडो ने बाराबंकी के एस.पी अरविन्द चतुर्वेदी से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि “यह वीडियो बाराबंकी के देवा क्रॉस रोड में हुए मोक ड्रिल का है | यह मोक ड्रिल बाराबंकी पुलिस द्वारा आयोजित की गई थी | यह अभ्यास कोरोनावायरस पेशेंट से निपटने के संबंध में था | यह मोक ड्रिल २६ मार्च २०२० को हुई थी | इस मोक ड्रिल में स्वास्थ्य विभाग के साथ पुलिस व जिला प्रशासन की टीमें भी शामिल थी | 

उन्होंने हमें २६ मार्च २०२० को बाराबंकी पुलिस द्वरा अपलोड किये गये ट्वीट प्राप्त करवाये | वीडियो के बारे में बताया गया‍ कि बाराबंकी डीएम और एसपी के निर्देशनुसार देवा तिराहा में कोरोना वायरस की रोकथाम हेतु मॉकड्रिल का आयोजन किया गया | ट्वीट में लिखा गया है कि “@BarabankiD#barabankipolice अधीक्षक द्वारा देवा तिराहा बाराबंकी में नोवेल कोरोना वायरस #COVID2019 की रोकथाम हेतु मॉक ड्रिल का आयोजन किया गया एवं सम्बन्धित को आवश्यक दिशा निर्देश दिये गए |”

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो असल में बाराबंकी से है जहां कोरोनावायरस से संक्रमित पेशेंट से निपटने का अभ्यास किया जा रहा था | यह वीडियो एक मोक ड्रिल से सम्बंधित है |

Avatar

Title:बाराबंकी में हुये मोक ड्रिल वीडियो को कोरोनावायरस पेशेंट के साथ हो रहे दुर्व्यवहार के नाम से वाइरल किया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •