क्या कर्नाटक के स्थानीय लोगों ने एक भाजपा विधायक को ईवीएम के साथ पकड़ा? नहीं दावा भ्रामक है…

False Political

कर्नाटक में आगामी लोकसभा चुनाव की रणनीति के तहत सियासी दलों ने तैयारियां शुरु कर दी है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें कुछ लोग ईवीएम  मशीन को तोड़ते दिखाई दे रहे हैं। वीडियो को शेयर कर दावा किया जा रहा है कि हाल ही में कर्नाटक में बीजेपी नेता की गाड़ी में ईवीएम मशीन पकड़े जाने पर स्थानीय लोगों ने हंगामा कर दिया।

वायरल वीडियो के साथ यूजर ने लिखा है- कर्नाटक के स्थानीय लोगों ने एक भाजपा विधायक को ईवीएम के साथ पकड़ा। आश्चर्य है कि ये कैसे ईवीएम प्राप्त कर रहे हैं और उसके साथ कैसे घूम रहे हैं? यदि वे ईवीएम मशीनें पकड़ रहे हैं तो मतदान कराने और लोगों को मूर्ख बनाने का क्या कारण है!…

फेसबुकआर्काइव 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

पड़ताल की शुरुआत में हमने वायरल वीडियो के तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च किया। परिणाम में हमें सीएनएन-न्यूज18’ की वेबसाइट पर 10 मई 2023 को प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली । इसमें वायरल वीडियो मौजूद है। रिपोर्ट के मुताबिक, यह वीडियो कर्नाटक के विजयपुरा जिले का है, जहां के बासवाना बागेवाड़ी तालुका में कुछ लोगों ने ईवीएम और VVPAT मशीनों को तोड़ दिया था।

मिली जानकारी के मदद से हमने आगे की जांच की। परिणाम में हमें डेक्कन क्रॉनिकल की वेबसाइट मिली। 10 मई 2023 को छपी रिपोर्ट के अनुसार, तब कर्नाटक में हो रहे मतदान के बीच विजयपुरा जिले के मसाबिनाला गांव में कुछ ग्रामीणों ने एक सेक्टर अधिकारी की गाड़ी को रोक कर, रिजर्व रखे गए ईवीएम को क्षतिग्रस्त कर दिया था।

यह घटना उस वक्त हुई जब रिजर्व ईवीएम को बासवना बागेवाड़ी विधानसभा क्षेत्र में ले जाया जा रहा था। रिपोर्ट में अधिकारियों के हवाले से लिखा गया है कि ग्रामीणों को यह भ्रम हो गया था कि ईवीएम का दुरुपयोग किया जा रहा है और उसे क्षतिग्रस्त कर दिया गया।  

विजयपुरा जिले के पुलिस अधीक्षक ने कहा कि घटना के संबंध में 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

जांच में आगे हमें विजयपुरा के डिप्टी कमिश्नर का ट्वीट मिला। जिसमें वायरल वीडियो के संबंध में ट्वीट किया गया है। इसमें बीजेपी नेता की गाड़ी में ईवीएम होने के दावे का खंडन किया गया है। उन्होंने स्पष्ट किया कि वायरल दावा भ्रामक है। 

ट्विट के अनुसार सेक्टर अधिकारी के वाहन में ले जाई जा रही रिजर्व ईवीएम को ग्रामीणों ने रोक कर उसे क्षतिग्रस्त कर दिया था।

वहीं कर्नाटक के मुख्य चुनाव आयुक्त ने भी ट्विट कर वायरल दावे का खंडन किया है। दरअसल मसाबिनाला गांव की है जहां ग्रामीणों ने एक सेक्टर अधिकारी की गाड़ी पर हमला कर रिजर्व ईवीएम मशीनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। ग्रामीणों नें 2 कंट्रोल यूनिट, 2 बैलेट यूनिट और 3 वीवीपैट को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। इस मामले में 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

आर्काइव 

कर्नाटक लोकसभा चुनाव-

कर्नाटक में लोकसभा चुनाव से पहले जहां राजनीतिक दलों ने अपना अभियान शुरू कर दिया है। वहीं चुनाव आयोग ने भी जोर-शोर से चुनावी तैयारियां शुरू कर दी हैं। कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस ने अपना दम भरना शुरू कर दिया है।

निष्कर्ष- 

तथ्य-जांच के बाद हमने पाया कि, कर्नाटक में बीजेपी नेता की गाड़ी में ईवीएम मशीन पकड़े जाने का दावा भ्रामक है। वीडियो 2023 का है। लोगों ने तब चुनाव अधिकारी के गाड़ी में रखे रिजर्व ईवीएम को तोड़ा था।

Avatar

Title:क्या कर्नाटक के स्थानीय लोगों ने एक भाजपा विधायक को ईवीएम के साथ पकड़ा? नहीं दावा भ्रामक है…

Written By: Saritadevi Samal 

Result: False

Leave a Reply