क्या अमिताभ बच्चन कोरोनावायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद दरगाह गये थे ? जानिये सत्य..

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन की एक तस्वीर को साझा करते हुए दावा किया जा रहा है कि, यह तस्वीर अमिताभ के कोरोनावायरस से संक्रमण मुक्त होने के पश्चात दरगाह जाने की है | 77 वर्षीय अभिनेता 11 जुलाई को कोरोनावायरस पॉजिटिव होने के परीक्षण के बाद से मुंबई के नानावती अस्पताल में भर्ती थे | वरिष्ठ बच्चन 2 अगस्त को ठीक होने के बाद घर लौटे थे, इसी को आधार रख सोशल मंचो पर उनपर तंज कसते हुये एक तस्वीर को वायरल किया जा रहा है जिसके शीर्षक में लिखा है कि 

जब इस को कोरोना हुआ था तब इसके जल्द ही स्वस्थ होने के लिए मंदिरों मे आरती..यग..सुंदर काण्ड का अखंड पाठ हो रहा था…और ये चादर चढ़ाने और दान करने दरगाह जाता है |”

फेसबुक पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने उपरोक्त तस्वीर को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें इंडिया टुडे के स्लाइड शो३३३- में यह तस्वीर उपलब्ध मिली | इस तस्वीर को जुलाई २०११ को अपलोड किया गया था व शीर्षक में लिखा था कि ४ जुलाई २०११ को अमिताभ बच्चन ने अजमेर शेरिफ की यात्रा की है | रिपोर्ट में कहा गया है कि अभिनेता ने 

“दरगाह में सुंदर मखमली शॉल की पेशकश की और यात्रा के दौरान अपने प्रशंसकों के साथ बातचीत भी की |” अजमेर शरीफ श्रद्धेय सूफी संत मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है | 

अमिताभ बच्चन ने खुद ४ जुलाई २०११ को इस यात्रा के बारे में अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट करते हुए लिखा है कि “अजमेर शरीफ की यात्रा…पिछले बार में ४० साल पहले गया था, तब से ज़िन्दगी में कितना कुछ बदल गया..अभी मेरे पास धन्यवाद् बोलने के लिए काफी कारण है |”

आर्काइव लिंक

अमिताभ बच्चन के इस यात्रा के कुछ पल NDTV के न्यूज़ बुलेटिन में भी देखा जा सकता है | उन्होंने यह वीडियो ५ जुलाई २०११ को अपने आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया था |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | अमिताभ बच्चन की यह तस्वीर कोरोनावायरस से संक्रमित होने के काफी पहले की है | 

Avatar

Title:क्या अमिताभ बच्चन कोरोनावायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद दरगाह गये थे ? जानिये सत्य..

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •