क्या भारत के अनाथाश्रम के बच्चों के साथ इतना अमानवीय व्यवहार हुआ है?

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१९ मई २०१९ को राजेश सोलंकी नामक एक फेसबुक यूजर ने एक विडियो पोस्ट किया है | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि इस वीडियो में जो लेडीज है यह शायद हो सकता है की भारत मे कोई अनाथ आश्रम चला रही हो और इसकी आड़ मे यह खूब धन भी बटोर रही हो….इसने बच्चो के साथ जो किया है | इस विडियो को पुरे भारत मे फेलाओ शायद इसे कोई पहचान ले और इसको सजा मिल सके….उन बेचारे छोटे बच्चो की दुआ लगेगी | pls pls pls forward to all this video clip…प्लीज शेयर करो बच्चों की दुआ मिलेगी और बच्चे इस चुड़ैल से बच् जायेंगे |” इस विडियो में हम एक औरत को एक बच्चे को बहुत बेरहमी से पीटते हुए देख सकतें है | इस औरत को डंडे से बच्चे को पीटते हुए भी देखा जा सकता है | इस विडियो के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि यह दृश्य भारत में कसी अनाथाश्रम की है | यह विडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी तेजी से साझा किया जा रहा है |

आर्काइव लिंक

क्या वास्तव में यह विडियो भारत के किसी अनाथाश्रम का दृश्य है? क्या अनाथाश्रम में बच्चों के साथ इतना अमानवीय व्यवहार किया जाता है? इसीलिए हमने इस विडियो की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि..

जांच की शुरुआत हमने इस विडियो को इनविड कीफ्रेम्स का टूल इस्तेमाल करते हुए इस विडियो को छोटे फ्रेम में तोडा | इन कीफ्रेम को हमने यांदेक्स रिवर्स इमेज सर्च पर ढूंढा | परिणाम से हमें हाबेर तुर्क नामक एक न्यूज़ वेबसाइट का लिंक मिला | इस वेबसाइट पर वायरल विडियो का उल्लेख करते हुए लिखा गया है कि यह विडियो कायसेरी नामक शहर का है | यह शहर तुर्की में स्थित है | खबर के अनुसार विडियो में दिखने वाली औरत इस बच्चे की सौतेली माँ है जिसने इस बच्चे के साथ इतना अमानवीय व्यवहार किया है | यह खबर २५ दिसंबर २०१५ को प्रकाशित की गयी थी |

आर्काइव लिंक

हमें तुर्की अख़बार की वेबसाइट, यासम गाज़ेतेसी द्वारा प्रकाशित खबर मिली, जिसका अनुवाद करते समय, गूगल ट्रांसलेटर ने बताया कि वीडियो तुर्की के एक शहर कायसेरी का है | यासम गजेतेसी के रिपोर्ट में लिखा गया है कि सोंगुल ए के नाम से पहचानी जाने वाली महिला को १६ दिसंबर २०१५ के दिन कायसेरी में कोर्ट द्वारा दो बच्चों के उत्पीड़न और यौन शोषण के आरोप में ४६ साल की सजा सुनाई गई थी | उनके पति, अकीफ ए द्वारा कंप्लेंट दर्ज किए जाने के बाद फैसला आया | उनके पति ने यह दृश्य एक छिपे हुए कैमरे पर रेकॉर्ड किया था |

“मैं उस समय मानसिक अस्थिरता से गुज़र रहा था | मैंने भी तकलीफ सहा है | मुझे बच्चों पर अत्याचार पर पछतावा है ” पिता ने कथित तौर पर कहा |

आर्काइव लिंक

इस्तिकलाल द्वारा प्रकाशित खबर के अनुसार, “काइसेरी में, एक सौतेली माँ अपने पति की अनुपस्थिति में अपने दो बच्चों की निर्दयता से पिटाई करती थी | पड़ोसियों की शिकायत के बाद, पति ने घर में सीसीटीवी कैमरा लगाए, जिसकी वजह से यह घटना सामने आई |”

आर्काइव लिंक

अन्य प्रतिष्ठित मीडिया संगठन जैसे करार और हैबरीनाद्रेसी ने भी इस घटना पर रिपोर्ट प्रकाशित किया है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | उपरोक्त विडियो में दिखायी गयी घटना भारत की नहीं है | यह विडियो तुर्की से है, और यह वीडियो २०१५ का है |

Avatar

Title:क्या भारत के अनाथाश्रम के बच्चों के साथ इतना अमानवीय व्यवहार हुआ है?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •