जोधपुर के वीडियो को तमिलनाडु में हिंदी भाषियों पर हमले के नाम से फैलाया जा रहा है|

Crime False National

वायरल वीडियो तमिलनाडु से नहीं बल्कि जोधपुर से है जहाँ आपसी रंजिश के चलते एक वकील की हत्या हुई थी|

तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों के साथ बर्बरता की जा रही है, ख़बरों के मुताबिक वहां कई सारे मजदूरों के साथ मारपीट और उनकी हत्या की जा रही है। इसी बीच सोशल मीडिया पर दिल दहला देने वाली एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में हम दो व्यक्तियों को एक आदमी पर पहले चाकू से हमला करते हुए देख सकते है जिसके बाद उनके सिर को कुचलकर मारते हुए दिखाया गया है।

इस वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि ये मामला तमिलनाडु से है जहाँ हिंदी भाषा में बात करने के कारण इस व्यक्ति की दिनदहाड़े हत्या कर दी गयी

सोशल मीडिया पर वायरल पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि “तमिलनाडु में हिंदी भाषियों पर लगातार हो रहे कातिलाना हमले, लगातार होते खुरेजी पर मौन तमाम हिंदी बेल्ट की सरकारे व केंद्र सरकार।”

ट्विटर लिंकआर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि….

जाँच की शुरुवात हमने वायरल वीडियो को छोटे फ्रेम में तोड़कर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें 21 फरवरी 2023 को दैनिक भास्कर द्वारा प्रकाशित खबर मिली। इस रिपोर्ट के अनुसार वीडियो में दिख रहा मामला राजस्थान के जोधपुर से है जहाँ दिनदहाड़े एक सीनियर वकील की हत्या कर दी गयी थी। जोधपुर कमिश्नरेट पूर्व के एडीसीपी नाजिम अली ने बताया कि माता के थान मुख्य रोड पर अनिल चौहान व मुकेश चौहान ने वकील जुगराज चौहान (55) की चाकू मार कर हत्या की है। ये हत्या आरोपी और पीड़ित के बीच आपसी रंजिश के चलते हुई।

क्या था मामला इस हत्या के पीछे?

पीड़ित जुगराज के बेटे की तीन वर्ष पहले एक्सीडेंट में मौत हो गई थी। उसमें अनिल और मुकेश चौहान नामजद थे। बताया जा रहा है कि किसी ज़मीन को लेकर भी विवाद था। इन दोनों बातों से रंजिश पाल कर आरोपियों ने वकील की हत्या कर दी। वकील अपने बेटे की मौत को लेकर कानूनी लड़ाई लड़ रहा था।

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के रिपोर्ट के अनुसार जोधपुर में अधिवक्ताओं की सुरक्षा के लिए कानून बनाने और अधिवक्ता जुगराज चौहान के परिवार को मुआवजा देने की मांग को लेकर वकीलों ने अदालतों का अनिश्चितकालीन बहिष्कार करने की घोषणा की है।

आगे हमें इस मामले के संबंधित डीसीपी ईस्ट जोधपुर का एक ट्वीट मिला जिसमे लिखा गया है कि “पुलिस थाना माता का थान में प्रकरण दर्ज कर मुल्जिम को गिरफ्तार किया जा चुका है। पारिवारिक जमीनी विवाद था।”

आगे फैक्ट क्रेसेंडो ने जोधपुर ईस्ट के डीसीपी अमृता दुहान से संपर्क किया जिन्होंने इस मामले के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि ये घटना जोधपुर से है नाकि तमिलनाडु से जहाँ एक ही परिवार के लोगों ने ज़मीन को लेकर आपसी रंजिश के चलते इस वकील की हत्या कर दी साथ ही दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर विधिक कार्यवाही की जा रही है।

इससे हम स्पष्ट हो सकते हैं कि वायरल वीडियो तमिलनाडु से नहीं बल्कि राजस्थान के जोधपुर से है।

निष्कर्ष:

तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने वायरल वीडियो के साथ किये गये दावे को गलत पाया है। वायरल वीडियो राजस्थान में आपसी रंजिश के चलते एक वकील की हत्या से है। इस वीडियो को गलत तरीके से तमिलनाडु में हिंदी भाषा बोलने वालों पर किये गये अत्याचार के नाम से फैलाया जा रहा है।

Avatar

Title:जोधपुर के वीडियो को तमिलनाडु में हिंदी भाषियों पर हमले के नाम से फैलाया जा रहा है|

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False

Leave a Reply