केंद्रीय कृषि मंत्री के हाथों पुरस्कार स्वीकार करने वाली युवती हैदराबाद पीड़िता “दिशा” नहीं है |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

९ दिसंबर २०१९ को “Chandrikaa Desai” नामक फेसबुक यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया, जिसके शीर्षक में लिखा गया है कि “हैद्राबाद की पीडित डॉ रेड्डी जी कितनी प्रतिभाशाली डॉक्टर थी ये आप खुद ही देखिए |” हैदराबाद गैंग रेप पीड़िता के नाम पर एक वीडियो प्रसारित किया जा रहा है | वीडियो में हम एक युवती को केंद्रीय मंत्रियों के हाथों पुरस्कार स्वीकार करते हुए देख सकते है, जिसके बाद वह गोपालन के बारे में भी बात करती है | इस युवती को हैदराबाद सामूहिक बलात्कार पीड़िता बताया जा रहा है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वीडियो देखने के बाद पता चलता है कि युवती का नाम श्रीमती अल्लोला दिव्या रेड्डी है | अधिक जाँच करने पर हमने पाया कि यह वीडियो १ जून, २०१८ को दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय गोपाल रत्न पुरस्कार समारोह का है | मूल वीडियो के अनुसार, गोपाल रत्न पुरस्कार पिछले साल तत्कालीन केंद्रीय कृषि मंत्री राधामोहन सिंह द्वारा देशी गायों के रख-रखाव और दूध की गुणवत्ता में योगदान के लिए श्रीमती अल्लोला दिव्या रेड्डी को पुरुस्कार प्रदान किया गया था | २०१४ से यह पुरस्कार प्रति वर्ष उन व्यक्तियों को दिया जाता है जो गो पालन और अनुसंधान के लिए काम करते हैं | इसे आप नीचे वीडियो देख सकते हैं |

श्रीमती अल्लोला दिव्या रेड्डी कौन हैं?

तेलंगाना की रहने वाली श्रीमती रेड्डी ने क्लिमॉम कंपनी के नाम से एक डेरी व्यवसाय शुरू किया था | वह कंपनी की संस्थापक और सीईओ हैं | क्लिमॉम कंपनी स्वदेशी गाय के दूध और उससे बने विभिन्न उत्पादों का निर्माण और बिक्री करती है | डेयरी फार्मिंग में जबरदस्त सफलता हासिल करने वाली श्रीमती रेड्डी को कई पुरस्कार मिले हैं | आप उनके कई इंटरव्यू यहाँ, यहाँ और यहाँ देख सकते हैं |

द हंस इंडिया के साथ एक इंटरव्यू में, उन्होंने अपनी जीवनयात्रा का उल्लेख किया है | दूध में मिलावट और इसके दुष्प्रभावों के बारे में जानने के बाद, उन्होंने अपने बच्चों को ऐसा दूध न देने का फैसला किया | तो उन्हें शुद्ध दूध कैसे मिलता है? इस विचार के साथ, उन्होंने एक गौशाला शुरू की थी | शुरुवात में ही बच्चों और परिवारों के लिए शुरू की गई यह पहल लगातार बढ़ी और क्लीमॉम के लिए एक व्यवसाय में बदल गई |

डेक्कन क्रोनिकल

हैदराबाद पीड़िता कौन थी?

२६ वर्षीय पीड़िता २७ नवंबर २०१९ के सामूहिक बलात्कार और हत्या के मामले में पशु चिकित्सक थी | साथ ही, वह अविवाहित थी | अल्लोला दिव्या रेड्डी शादीशुदा हैं और उनके बच्चे हैं | फैक्ट क्रेस्सन्डो को हैदराबाद के साइबर क्राइम पुलिस द्वारा दी गई जानकारी से पता चलता है कि वीडियो में दिख रही युवती हैदराबाद की पीड़िता नहीं है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | तेलंगाना की रहने वाली प्रोड्यूसर श्रीमती अल्लोला दिव्या रेड्डी का एक वीडियो हैदराबाद गैंगरेप के पीड़ित के रूप में गलत तरीके से साझा किया जा रहा है | पाठकों से आग्रह है कि इस वीडियो को गलत जानकारी के साथ साझा न करें |

Avatar

Title:केंद्रीय कृषि मंत्री के हाथों पुरस्कार स्वीकार करने वाली युवती हैदराबाद पीड़िता “दिशा” नहीं है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •