असंबंधित और पुरानी तस्वीरों को जे.एन.यू “किस डे” के नाम से वाईरल किया जा रहा है।

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

१७ नवंबर २०१९ को “Namo Always” नामक फेसबुक ने दो तस्वीरें पोस्ट कर शीर्षक में लिखा कि “JNU में lip lock और kiss day मनाते हुए, मेधावी वामपंथी छात्रः आंदोलन v धरने के दौरान campus मे रात भर इस कार्यक्रम को और सुविधा के साथ मनाया जाता है | इसके आगे के कार्यक्रम को सेंसर के डर से दिखाया नहीं जा सकता है |” दो तस्वीरों में हम प्रेमी जोड़ों को किस करते हुए देख सकते है | इस तस्वीर को सोशल मीडिया मंचों पर फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि दिल्ली के जे.एन.यू में “किस डे” इसी प्रकार से मनाया जाता है | 

फेसबुक पोस्ट 

जे.एन.यू के छात्र २ हफ्ते से हॉस्टल की फीस बढ़ाने के विरुद्ध विरोध प्रदर्शन कर रहे है और इन प्रदर्शनों के चलते सोशल मीडिया पर तरह तरह के असंबंधित वीडियो व तस्वीरें JNU से जोड़ कर फैलायी जा रहीं हैं | 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुआत हमने दोनों तस्वीरों का स्क्रीनग्रैब लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया, जिसके परिणाम से हमें यह पता चला कि यह तस्वीरें कोच्चि के मरीन ड्राइव में “किस ऑफ़ लव” रैली से है | 

पहली तस्वीर- 

परिणाम से हमें १० मार्च २०१७ को एशियन एज द्वारा प्रकाशित खबर मिली जहाँ इस तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है | इस तस्वीर के शीर्षक में लिखा गया है कि “कार्यकर्ता कोच्चि में मरीन ड्राइव पर सार्वजनिक रूप से चुंबन द्वारा शिवसेना की नैतिक पुलिस के विरुद्ध विरोध कर रहे हैं |” साथ ही कहा गया है कि यह तस्वीर फोटोग्राफर अरुण चन्द्रबोस ने खिंची है | इस तस्वीर को डेक्कन क्रॉनिकल ने भी प्रकाशित किया है | यह तस्वीर २०१७ को केरल के कोच्चि में मरीन ड्राइव पर आयोजित “किस ऑफ़ लव” प्रदर्शन के दौरान खिंची गयी थी|

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक 

२०१७ में कोच्चि के मरीन ड्राइव पर हुए “किस ऑफ़ लव” प्रदर्शन का लाइव वीडियो हमें यूट्यूब पर उपलब्ध मिला | इस वीडियो में हम तस्वीर में दिखाए गये युगल को किस करते हुए देख सकते है | 

दूसरी तस्वीर- 

परिणाम से हमें यह तस्वीर ८ नवंबर २०१४ को एवार्था नामक एक मलयालम वेबसाइट पर प्रकाशित खबर में मिली | खबर में दी गयी जानकरी के अनुसार यह तस्वीर २०१४ को केरल के कोच्चि में मरीन ड्राइव पर आयोजित “किस ऑफ़ लव” विरोध के दौरान खिंची गयी थी | इस तस्वीर को बैंगलोर मिरर ने भी प्रकाशित किया था | इस तस्वीर के शीर्षक में लिखा गया है कि “तस्वीर में हम स्क्रिप्ट राइटर अरुण जॉर्ज को कोच्चि के मरीन ड्राइव में हुए “किस ऑफ़ लव” रैली में उनके पत्नी को किस करते हुए देख सकते है |”

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक 

२०१४ को कोच्चि के मरीन ड्राइव में हुए “किस ऑफ़ लव” रैली में स्क्रिप्ट राइटर अरुण जॉर्ज और उनकी पत्नी की दूसरी तस्वीर आप नीचे देख सकते है |

आर्काइव लिंक 

टाइम्स ऑफ इंडिया द्वारा प्रकाशित खबर के अनुसार, जेएनयू के छात्रों ने “किस ऑफ़ लव” अभियान में भाग लिया था परंतु पोस्ट में दिखाई गयी तस्वीरों का जे.एन.यू के साथ कोई संबंध नही है |

आर्काइव लिंक 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | २०१४ और २०१७ को कोच्चि (केरल) में मरीन ड्राइव पर “किस ऑफ़ लव” रैली के दौरान ली गयी तस्वीरों को नई दिल्ली के जवाहरलाल राष्ट्रीय विश्वविद्यालय (जे.एन.यू) में “किस डे” की तस्वीरों के रूप में साझा किया जा रहा है | 

Avatar

Title:असंबंधित और पुरानी तस्वीरों को जे.एन.यू “किस डे” के नाम से वाईरल किया जा रहा है।

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply