बुजुर्गों पर डंडे बरसाने वाली आर्मी का यह वीडियो कश्मीर का नहीं, बल्कि पाकिस्तान का है |

False International Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२ सितम्बर २०१९ को फेसबुक के ‘We Support AIMIM’ नामक एक पेज पर एक पोस्ट साझा किया गया है जिसमें एक वीडियो दिया है | वीडियो में दिखाई देता है कि, किसी देश की आर्मी द्वारा बुजुर्ग व्यक्तियों को बड़ी बेरहमी से लाठी द्वारा पिटा जा रहा है |     

पोस्ट के विवरण में लिखा गया है कि, 

पथ्थर तो सेना भी मारती है लेकिन बदनाम तो कश्मीर है
😢 #Save_Kashmir

इस पोस्ट व्दारा किया यह दावा किया जा रहा है कि, यह वीडियो जम्मू-कश्मीर का है और वहां भारतीय आर्मी बेगुनाह बुजुर्ग कश्मीरियों पर लाठी-डंडे बरसा रही है | विडियो ध्यान देखने के बाद पता चलता है कि, यह आर्मी भारत की नहीं है, क्योंकि भारतीय आर्मी की वर्दी अलग है | इससे इस वीडियो के कश्मीर का होने पर संदेह होता है | तो आइये जानते है इस वीडियो व दावे की सच्चाई |

मूल पोस्ट यहाँ देखें – ‘We Support AIMIM’  | ARCHIVE POST

अनुसन्धान से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने साझा वीडियो में दिखाई दे रही स्ट्रिप्स पर ध्यान दिया | 

एक स्ट्रिप पर लिखा है कि, पुलिस अफसरों ने मिन्हाज एम्बुलेंस से अब्दुल गफ्फार नामक एक चालक को खिंचकर बाहर निकाला और उसे बेरहमी से पिटते हुए गिरफ्तार किया | इस आधार पर हमने ‘मिन्हाज एम्बुलेंस’ की-वर्ड्स के साथ गूगल किया तो हमें मिले परिणाम से स्पष्ट हुआ कि, यह पाकिस्तान की एम्बुलेंस सेवा है, जो मिन्हाज वेलफेयर फाउंडेशन द्वारा चलाई जाती है |

वीडियो में दिखाई दे रहे दूसरी स्ट्रिप पर लिखा है कि, मंगा मंडी से झुल्फिकार बट्ट को गिरफ्तार किया गया | हमने manga mandi की-वर्ड्स से गूगल किया तो मिले परिणाम से हमें पता चला कि, यह जगह पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त के लाहोर में स्थित एक शहर है, जिसकी जनसंख्या २ लाख से ज्यादा है और यहाँ ज्यादातर सुन्नी मुस्लिम रहते है |

इसके बाद हमने अलग अलग की-वर्ड्स के साथ यू-ट्यूब पर इस वीडियो को ढूंढा | ‘workers beaten lahore punjab pakistan police’ इन की-वर्ड्स से सर्च करने पर मिले परिणाम से हमें एक वीडियो मिला | हमें FATWAonTERRORISM नामक एक यूजर द्वारा ३१ जुलाई २०१४ को अपलोड एक विडियो मिला | २७ मिनट २९ सेकंड के इस विडियो में नौंवे मिनट से उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो के क्लिप्स मौजूद है | वीडियो के शीर्षक में लिखा है – ‘2014 Lahore Massacre: Killing the unarmed PAT workers’ | आप यह विडियो नीचे देख सकते है |

इसके बाद हमने ‘2014 Lahore Massacre PAT workers’ इन की-वर्ड्स के साथ सर्च किया तो हमें पता चला कि, ‘model town massacre’ या ‘Lahore Massacre’ के नाम से यह घटना जानी जाती है | १७ जून २०१४ को यह घटना घटित हुई थी | 

इसके बाद हमने  ‘2014 Model town Massacre PAT workers’ की-वर्ड्स से सर्च किया तो हमें और एक वीडियो मिला, जिसमे पोस्ट में साझा वीडियो के क्लिप्स मौजूद है | 24 News HD चैनल द्वारा यह वीडियो २० अक्तूबर २०१८ को अपलोड किया गया है |

इससे यह बात स्पष्ट हो जाती है कि, यह वीडियो कश्मीर का नहीं है | बेगुनाह बुजुर्गों पर लाठियां बरसाने की यह घटना पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त के लाहौर में चार वर्ष पूर्व घटित हुई थी | इस घटना के कई वीडियो में से कुछ क्लिप्स उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो में दिखाई देते है | 

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो के साथ किया गया दावा कि, “यह वीडियो जम्मू-कश्मीर का है और वहां भारतीय आर्मी बेगुनाह बुजुर्ग कश्मीरियों पर लाठी-डंडे बरसा रही है |” सरासर गलत है | बुजुर्गों पर डंडे बरसाने वाली आर्मी का यह वीडियो कश्मीर का नहीं, बल्कि पाकिस्तान का है |

Avatar

Title:बुजुर्गों पर डंडे बरसाने वाली आर्मी का यह वीडियो कश्मीर का नहीं, बल्कि पाकिस्तान का है |

Fact Check By: R Pillai 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply