क्या मिर्झापुर रेलवे स्टेशन पर दिल्ली से पटना जाने वाली तूफान एक्सप्रेस की ११ बोगी पलटकर हुए हादसे में ७३५ लोगों की जान गई ?

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

४ जुलाई २०१९ को ‘फैक्ट क्रेसेंड़ो’ के व्हाट्स ऐप नंबर पर एक यूजर द्वारा एक दावा पड़ताल के लिए साझा किया गया | इस वायरल मेसेज में ट्रेन हादसे की तीन तस्वीरें है तथा दावे में लिखा है कि, 

दिल्ली से पटना जाने वाली तूफान एक्सप्रेस आज रात को 3:00 बजे मिर्जापुर स्टेशन 11 बोगी पलटी हुआ उसमें 735 लोग मर चुके हैं 7 लोग घायल हैं किसी के मालूम है तो उसके घर तक पहुंचाओ यह आपकी मां बहन की कसम अगर आगे शेयर नहीं की तो मिर्जापुर स्टेशन पर सब बॉडी रखी हुई है अगर किसी को मालूम पड़े तूफान एक्सप्रेस में दिल्ली से कोई आने वाला था तो मिर्ज़ापुर स्टेशन पर आए |

आप यह मेसेज नीचे देख सकते है |

हमने इस दावे को सोशल मीडिया पर ढूंढा तो हमने फेसबुक पर भी इस दावे को वायरल होता देखा | २८ जून २०१९ को फेसबुक पर ‘Jai Jai Bhim’ नामक एक यूजर द्वारा एक पोस्ट साझा किया गया है | इस पोस्ट में उपरोक्त मेसेज में इस्तेमाल एक तस्वीर के साथ यही दावा किया गया है | लिखा है-

दिल्ली से पटना जाने वाली तूफान एक्सप्रेस आज रात को 3:00 बजे मिर्जापुर स्टेशन 11 बोगी पलटी हुआ उसमें 735 लोग मर चुके हैं 7 लोग घायल हैं किसी के मालूम है तो उसके घर तक पहुंचाओ अगर आगे शेयर नहीं की तो मिर्जापुर स्टेशन पर सब बॉडी रखी हुई है अगर किसी को मालूम पड़े तूफान एक्सप्रेस में दिल्ली से कोई आने वाला था तो मिर्ज़ापुर स्टेशन पर | और हां बुलेट ट्रेन कौन चूतिया चलवाने वाला था 

इस पोस्ट व्दारा किया गया दावा स्पष्ट है | आइये जानते है इस दावे की सच्चाई |

मूल पोस्ट यहाँ देखें –‘Jai Jai Bhim’  | ARCHIVE POST

संशोधन से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने मेसेज में साझा तस्वीरों को रिवर्स इमेज सर्च किया | पहली तस्वीर हमें किसी रेल दुर्घटना की ख़बरों में नहीं मिली | लेकिन शेयरचैट ऐप पर गौतम वैष्णव यूजर द्वारा यह तस्वीर ४ महीने पहले साझा की गई थी | आप दोनों तस्वीरों की तुलना नीचे देख सकते है |

ARCHIVE POST

अगर यह तस्वीर पब्लिक डोमेन में चार महीने पहले से मौजूद है, तो वह २८ जून २०१९ के ट्रेन हादसे की कतई नहीं हो सकती |

इसके बाद हमने दुसरी तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया | हमें यह तस्वीर ‘पत्रिका’ द्वारा प्रसारित खबर में मिली | छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में हुए एक सडक हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई थी | यह तस्वीर उस हादसे की है |

पूरी खबर यहाँ पढ़ें – ‘पत्रिका’ | ARCHIVE NEWS

इसके बाद हमने तीसरी तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च किया | यह तस्वीर हमें ‘अमर उजाला’ द्वारा ६ अगस्त २०१७ को प्रसारित खबर में मिली | खबर में कहा गया है कि, सवाई माधोपुर रेलवे स्टेशन पर रविवार को हुए  हादसे मे मृत सभी यात्री कोटा-बयाना ट्रेन में सफर कर रहे थे। राखी के त्योहार की वजह से इस ट्रेन में सभी डिब्बे फुल थे और यात्री छत एवं यहां तक की इंजन पर भी बैठकर सफर कर रहे थें। कोटा-बयाना ट्रेन प्लेट फार्म नंबर दो पर रुकी तो वहां इंजन पर बैठे लोग कूद पड़े।  सवाई माधोपुर रेलवे स्टेशन पर प्लेटफार्म नंबर एक पर गाड़ी खड़ी थी, इस कारण दूसरी दिशा में फास्ट ट्रेक की तरफ उतरे। इसी दौरान इस ट्रेक धड़धड़ती हुई गरबा एक्सप्रेस आ गई। इसकी चपेट में ये यात्री आ गए। इनमें से चार की मौके पर ही मौत हो गई और एक की मौत अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई।

पूरी खबर यहाँ पढ़ें – ‘अमर उजाला’ | ARCHIVE NEWS

इस संशोधन से यह बात साफ़ होती है कि, मेसेज व पोस्ट में साझा सभी तस्वीरें दावे के साथ मैच नहीं होती है |

इसके बाद हमने गूगल पर इस दावे के बारे में ‘toofan express accident’ की वर्ड्स का इस्तेमाल करते हुए ढूंढा | लेकिन हमें कोई खबर नहीं मिली | हाँ, १९ फरवरी २०१८ को तूफान एक्सप्रेस ट्रेन के एक बोगी में आग लगने की घटना घटी थी | ‘इंडिया टीवी’ ने इस हादसे की खबर प्रसारित की थी |

पूरी खबर यहाँ पढ़ें – ‘इंडिया टीवी’ | ARCHIVE NEWS

इसके अलावा पब्लिक डोमेन में तूफान एक्सप्रेस के बारे में किसी दुर्घटना की कोई खबर मौजूद नहीं है | तूफान एक्सप्रेस ही नहीं, पिछले दो महीनों में किसी भी रेल दुर्घटना की कोई खबर मौजूद नहीं है | 

इसके बाद हमने सबसे ताजा रेल दुर्घटना की खोज की | गूगल सर्च से हमें पता चला कि, वर्ष २०१९ में दो रेल दुर्घटनाएं हुई है | पहली दुर्घटना ३ फरवरी को हुई थी | बिहार में सीमांचल एक्सप्रेस की ११ बोगी पटरी से उतर जाने की वजह से ७ लोगों की मौत हो गई थी | दूसरी दुर्घटना ३१ मार्च को हुई थी | गौतामस्थान में छपरा-सूरत ताप्ती एक्सप्रेस पटरी से उतर जाने की वजह से ४ लोग जख्मी हो गए थे |

जब हमने सीमांचल एक्सप्रेस की दुर्घटना की खबर पढ़ी, तो यह देखा कि, उपरोक्त मेसेज तथा पोस्ट का दावा इस दुर्घटना के आंकड़ों से मिलता-जुलता है | दावे में कहा गया है कि, ११ डिब्बे पटरी से उतरे, और सीमांचल के भी ११ डिब्बे पटरी से उतरे थे | दावे में जख्मी लोगों का आंकड़ा दिया है ७, जबकि सीमांचल दुर्घटना में ७ लोग मर गए थे | दावे में घटना का समय रात ३ बजे का कहा गया है, जबकि सीमांचल की घटना तडके ४ बजे हुई थी |

‘टाइम्स नाउ न्यूज़’ द्वारा सीमांचल एक्सप्रेस दुर्घटना की खबर प्रसारित की गई थी |

पूरी खबर यहाँ पढ़ें – ‘टाइम्स नाउ न्यूज़’ | ARCHIVE NEWS

इस संशोधन से यह बात स्पष्ट रूप से साबित होती है कि, तूफान एक्सप्रेस के हादसे की बात सरासर गलत है | किसी रेल हादसे में ७३५ लोगों की मौत हो जाना कोई छोटी बात नहीं होती | लेकिन इस खबर का पब्लिक डोमेन में मौजूद ना होना तथा पोस्ट में साझा सभी तस्वीरें दूसरी घटनाओं की साबित होना इस बात का प्रमाण है, की तूफान एक्सप्रेस के साथ ऐसा कोई हादसा नहीं हुआ है |

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में तस्वीरों के साथ किया गया दावा कि, “दिल्ली से पटना जाने वाली तूफान एक्सप्रेस आज रात को 3:00 बजे मिर्जापुर स्टेशन 11 बोगी पलटी हुआ उसमें 735 लोग मर चुके हैं 7 लोग घायल हैं |” सरासर गलत है | तूफान एक्सप्रेस के साथ ऐसा कोई हादसा नहीं हुआ है |

Avatar

Title:क्या मिर्झापुर रेलवे स्टेशन पर दिल्ली से पटना जाने वाली तूफान एक्सप्रेस की ११ बोगी पलटकर हुए हादसे में ७३५ लोगों की जान गई ?

Fact Check By: R Pillai 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •