कोरोना की पुष्टि/ अपुष्टि मात्र सांस रोकने के परीक्षण से नहीं होती है|

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देश भर के अस्पताल वर्तमान में अपनी पूरी क्षमता से भी अधिक बोझ झेल रहें हैं ऐसा देश में अचानक से हुये कोरोनावायरस विस्फोट से संक्रमित मरीजों और ऑक्सीजन की कमी के बीच हुआ है, देश भर में COVID19 की एक अत्यंत चिंतास्पद स्थिति बनी हुई है और ऐसे में सोशल मंचों पर COVID-19 को लेकर कई घरेलू उपचार व स्वयं परीक्षण के कई पोस्ट वायरल हो रहें हैं, ऐसा ही एक पोस्ट फेफड़ों में ऑक्सीजन के स्तर नाप COVID की पुष्टि/अपुष्टि को लेकर वायरल हो रहा है, यह वीडियो दर्शकों से २० सेकंड से अधिक समय तक अपनी सांस रोककर रखने का आग्रह करता हैं। वीडियो के अनुसार, यदि कोई अपनी सांस को लंबे समय तक रोक सकता है, तो इसका मतलब है कि वह व्यक्ति कोरोनावायरस से मुक्त है | 

पोस्ट में क्या है?

वायरल हो रहे वीडियो में लिखा गया है कि 

“अपने फेफड़ों के ऑक्सीजन लेवल को जाँचिये | यदि आप बिंदु के अनुसार A से B तक सांस रोक लेते है तो आप कोरोना से मुक्त हो सकते हो |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने पाया कि सांस रोक पाने की सक्षमता से यह नहीं कहा जा सकता है कि कोई व्यक्ति कोरोना मुक्त है या नहीं | यह तकनीक वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित नहीं है |

जाँच की शुरुवात हमने विश्व स्वास्थ्य संगठन की वेबसाइट पर जाकर इस वायरल मैसेज से संबंधित उपाय के बारे में कीवर्ड सर्च कर किया जिसके परिणाम से हमने पाया कि ऐसे दावे पिछले साल भी फैलाये गये थे जिसके चलते विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक स्पष्टीकरण जारी किया था जिसमे साफ़ साफ़ लिखा गया है कि खांसी या बेचैनी महसूस किए बिना 10 सेकंड या उससे अधिक के लिए अपनी सांस रोक पाने में सक्षम होने का मतलब यह नहीं है कि आप कोरोनावायरस बीमारी या किसी अन्य फेफड़ों की बीमारी से मुक्त हैं |

और अधिक कीवर्ड सर्च करने पर हमें यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड यूसीएच में संक्रामक रोगों के उपाध्यक्ष और प्रमुख डॉ० फहीम यूनुस का वायरल दावे से सम्बंधित दिया गया एक मत मिला जिसमें वे स्पष्ट रूप से वायरल हो रहे दावों को खारिज करतें है | पिछले साल उन्होंने यह कहते हुए ट्वीट किया था कि, 

“कोरोनावायरस वाले अधिकांश युवा १० सेकंड से अधिक समय तक अपनी सांस रोक पाएंगे। और वायरस के बिना कई बुजुर्ग ऐसा करने में सक्षम नहीं होंगे | इसका यह मतलब नही है कि आप कोरोनावायरस के संक्रमण से मुक्त या संक्रमित है |”

आर्काइव लिंक

तद्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने कोलकाता के फोर्टिस हॉस्पिटल के पुल्मोनोलोगिस्ट डॉक्टर राजा धर से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि “कोरोनोवायरस की पुष्टि/अपुष्टि इस श्वास परीक्षण के द्वारा करना निश्चित रूप से भ्रामक है क्योंकि एक एसिम्प्टोमाटिक कोविड-१९ (Asymptomatic Covid_19) रोगी भी लंबे समय तक सांस रोक सकता है | इसलिए, यह परीक्षण कोविड -19 से संक्रमित है या नहीं, इसकी वास्तविक प्रारूप नहीं देता है |” 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशानिर्देशों के अनुसार, कोरोनावायरस की जांच के लिए वर्तमान में तीन प्रकार के परीक्षण किए जा रहे हैं |  

१-पी.सी.आर टेस्टिंग होती है, जहाँ नैसोफैरिनजीअल या फैरिनजीअल स्वाब लिया जाता है।

२-दूसरा एंटीजन परीक्षण है, जहां स्वास्थ्य विशेषज्ञ वायरस के बाहरी प्रोटीन का पता लगाने की कोशिश करते हैं। 

३-तीसरा प्रकार मानव शरीर के भीतर पता लगाना है कि क्या उनके शरीर में एंटीबॉडी तैयार हुई हैं |

परंतु इनमें से कही भी यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि सांस रोक पाने की सक्षमता/असक्षमता होने पर कोरोनावायरस की रोकथाम व पुष्टि हो सकती है | सांस रोक पाने की सक्षमता अलग अलग व्यक्ति की उम्र, स्टैमिना और तंदुरुस्ती पर निर्भर करता है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने वायरल पोस्ट को गलत पाया है | सांस रोक पाने की सक्षमता से यह नहीं कहा जा सकता है कि कोई व्यक्ति कोरोना मुक्त है या नहीं | यह तकनीक किसी भी तरीके से वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित नहीं है | इस तकनीक को कोरोना के टेस्ट के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए |

Avatar

Title:कोरोना की पुष्टि/ अपुष्टि मात्र सांस रोकने के परीक्षण से नहीं होती है|

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

5 thoughts on “कोरोना की पुष्टि/ अपुष्टि मात्र सांस रोकने के परीक्षण से नहीं होती है|

  1. Thank you for correcting me.
    Someone know hss sent to me, forgive me please.
    I should not do it. Please help me in future.

  2. सर आपकी बात बिल्कुल सही है सांस रोकने या छोड़ने से कोरोना की स्पष्टीकरण नहीं होता है लेकिन हमारे देश में कोरोना की वजह से लोग कम उसके डर की वजह से ज्यादा मर रहे हैं इसलिए लोगों के अंदर एक छोटी सी पॉजिटिव इन एनर्जी पैदा करने के लिए यहां वीडियो को पोस्ट किया जा रहा है यहां डांस कोई भी आराम से कर सकता है पूरा इसकी वजह से लोगों के अंदर एक पॉजिटिविटी बनती है और कोरोना का डर थोड़ा सा कम हो जाता है

  3. हम आप की तर्कों से पूर्णतः सहमत हैं पर एक बात तो सही है कि ऐसी पोस्ट से किसी का नुकसान नहीं अपितु इन्सान की मनोदशा पाजिटिव हो जाती है फिर भी इसे सही मानकर हमने पोस्ट किया इसके लिए Sorry

  4. यहां पर बात corona positive को लेकर नहीं है बात है कि आम आदमी को पैनिक न होने दिया जाए ताकि इस प्रयोग के साथ वो आत्मविश्वास पैदा हो जाए तो आम आदमी की मानसिक प्रतिरोध क्षमता बढ़ सकती है

  5. मै आप की तर्कों से पूर्णतः सहमत हूॅ पर ऐसी पोस्ट से किसी का नुकसान नहीं अपितु इन्सान की मनोदशा पाजिटिव हो जाती है , सही मानकर हमने पोस्ट किया इसके लिए Sorry.

Comments are closed.