हिजाब विवाद: जज को धमकी देने वाले शख्स की गिरफ्तारी का ये वीडियो नहीं; जानिए सच

False Social

हिजाब प्रकरण में फैसला सुनाने वाले कर्नाटक हाई कोर्ट के जजों को एक आदमी ने मारने की धमकी देने की बात सामने आई है। इसके बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो के बारे में दावा किया जा रहा है कि धमकी देने वाले शख्स को पुलिस गिरफ्तार करते हुए ले जाते समय का यह वीडियो है।

वायरल वीडियो के साथ यूजर्स ने लिखा है – जिसने हिजाब का फैंसला सुनाने वाले जज को जान से मारने की धमकी दी थी..! कर्नाटक पुलिस के आशीर्वाद से ये शख्स पुष्पा स्टाइल में चल रहा।

ट्विटरआर्काइव

सोशल मीडिया पर वीडियो को तेजी से वायरल की जा रही है। यहां पर लिंक देखें।

 अनुसंधान से पता चलता है कि…

गूगल में रिवर्स इमेज करने पर दैनिक भास्कर वेबसाईट पर यह वीडियो मिला। प्रकाशित खबर के मुताबिक मध्यप्रदेश मंदसौर की नई आबादी पुलिस ने छह सालों से फरार आरोपी अमजद लाला को गिरफ्तार किया था।  आरोपी अमजद लाला पर हत्या, फिरौती, अपहरण और तस्करी जैसे आपराधिक मामले दर्ज है। 

नईदुनिया ने भी आरोपी का पहचान अमजद लाला के रूप में की है। यह खबर खबरवाला समाचार युट्युब चैनल पर प्रकाशित की गई है। 

फैक्ट क्रेसैंडो ने मंदसौर पुलिस एसपी अनुराग सुजानिया से संपर्क किया।। उन्होंने स्पष्ट किया की वायरल वीडियो मंदसौर से है और वीडियो में दिखाया गया व्यक्ती अमजद लाला है जिसके सिर पर 50 हजार का इनाम है। इस प्रकरण का कर्नाटक के जजों को धमकी देने के प्रकरण से कोई संबंध नहीं।

कर्नाटक के जजों को धमकी देने वाला शख्स कौन है?

तमिलनाडु तौहीद जमात (टीएनटीजे) के सदस्य कोवई रहम्मथुल्ला ने हिजाब मामले पर फैसला सुनाने वाले कर्नाटक हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश समेत तीन जजों को जान से मारने की धमकी दी थी। जिसके बाद तामिलनाडु पुलिस ने कोवई रहम्मथुल्ला  को गिरफ्तार किया है। 

जान से मारने की धमकी देने के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने कोवई रहमतुल्लाह को तिरुनेलवेली में गिरफ्तार किया, जबकि 44 वर्षीय एस. जमाल मोहम्मद उस्मानी को तंजावुर में हिरासत में लिया है। 

कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा जनेंद्र ने बताया कि तमिलनाडु से पकड़े गए आरोपी को बेंगलुरु लाया गया है। कर्नाटक सरकार ने रविवार को हिजाब विवाद पर फैसला सुनाने वाले राज्य के मुख्य न्यायाधीश सहित तीन न्यायाधीशों को ‘वाई’ श्रेणी की सुरक्षा देने का फैसला किया है। 

निष्कर्ष:

तथ्यों की जांच के पश्चात हमने पाया कि वायरल वीडियो कर्नाटक हाईकोर्ट जजों को धमकी देने वाले अपराधी को गिरफ्तार करने का नहीं। वायरल वीडियो मध्यप्रदेश का है।

Avatar

Title:हिजाब विवाद: जज को धमकी देने वाले शख्स की गिरफ्तारी का ये वीडियो नहीं; जानिए सच

Fact Check By: Saritadevi Samal 

Result: False