क्या झाँसी में हिन्दूओं द्वारा मुसलमानों पर अत्याचार किये जा रहे है ?

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२४ मई २०१९ को पाकिस्तान डिफेन्स कमांड नमक एक फेसबुक यूजर ने एक विडियो पोस्ट किया | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “भारतीय हिन्दू लोग मुस्लिम घरों में प्रवेश कर रहे हैं और बिना किसी कारण के उन्हें मार रहे हैं | यहां एक मुस्लिम बहन हमें मदद के लिए बुला रही है | इंडिया में यह मुस्लिम जीवन है | मेरी प्यारी बहन हम आपका बदला लेंगे | प्रिय पाकिस्तानियो अपने पाकिस्तान आर्मी को महत्व दें जो ७० साल से इन हिंदुओं से रक्षा कर रहे हैं |”

वीडियो में एक घायल महिला को एक शिशु को अपनी बाहों में पकड़े हुए और फुट फुटकर रोते हुए देखा जा सकता है | बैकग्राउंड में एक आवाज सुनी जा सकती है, “असलम वालेकुम, मैं झांसी जिले के बरुआ सागर से बोल रही हूं | हिंदू और मुसलमानों के बीच पिछले तीन दिनों में हमारे गांव में झगड़े हो रहे हैं, जसी वजह से वह बिना कारण हमारे मुसलमान भाइयों को मार रहे है व औरतों पर अत्याचार कर रहे है” | उसके बाद वीडियो में इस औरत को बुर्के में एक मृत महिला के बगल में बैठे हुए देखा जा सकता है |

वीडियो में कहते हुए सुना जा सकता है कि “मैं एक मुसलमान हूं, और लोग हमें यहां मार रहे हैं | वे हमारी बेटियों को परेशान कर रहे हैं | कृपया यह संदेश हमारे सभी मुस्लिम भाइयों को भेजें ताकि वे हमारी मदद कर सकें | पुलिस कुछ नहीं कर रही है, सिर्फ हिंदुओं का समर्थन कर रही है | वे आते हैं और हमें रोज परेशान करते हैं | कृपया हमारी सहायता करें |”

यह विडियो ऐसे समय पर साझा किया जा रहा है जब भारत में लोक सभा चुनाव का रिजल्ट आया और मोदी सरकार सत्ता में आई | इस विडियो के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के झाँसी में मुसलमानों के साथ इस तरह का अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है जिसे रोकने के लिए पुलिस भी आगे नहीं आ रही है |

आर्काइव लिंक

इस विडियो को देखने से ही ऐसा लगता है कि इस विडियो के ऑडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है | हमने इस विडियो की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि..

जांच की शुरुआत हमने इस विडियो का स्क्रीनशॉट लेकर यांडेक्स रिवर्स इमेज सर्च करने से की | परिणाम से हमें एजेआर न्यूज़ द्वारा प्रकाशित खबर मिली | यह विडियो यू-ट्यूब पर ३१ अगस्त २०१८ को अपलोड किया गया था | विडियो के शीर्षक में तेलुगु में लिखा गया है कि “नए जिले में भाद्रदरी की स्थिति बदतर है | एसआई प्रेम विवाह की वजह से चिंतित है |” वीडियो वास्तव में २०१८ में तेलंगाना में घटी एक घटना का है जब सब-इंस्पेक्टर जीतेन्द्र अपनी पत्नी और सास की पिटाई करते हुए पकड़ा गया था | इस घटना की रिकॉर्डिंग की गई थी | खबर में यह भी कहा गया है कि जीतेन्द्र ने एक स्त्री से अंतरधर्मीय विवाह किया था | उनको एक बच्चा भी है जिन्हें अब वह छोडके जा रहा था क्योंकि उसका किसी दूसरी महिला से विवाहेतर संबंध था | पीडि़ता इस बात का पर्दाफाश करने के लिए उनके निवास पर गई थी, जब गुस्से में आकर पुलिस इंस्पेक्टर ने पीडि़ता और उसका माँ को पीटा | सब-इंस्पेक्टर के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज किया गया था, जिसे बाद में निलंबित भी कर दिया गया था |

इस खबर को गूगल पर ढूँढने से हमें कई प्रतिष्ठित मीडिया संगठन द्वारा प्रकाशित खबर मिली | ३१ अगस्त २०१८ को टाइम्स नाउ न्यूज़ द्वारा प्रकाशित खबर में लिखा गया है कि “तेलंगाना में एक सब-इंस्पेक्टर को उसकी पत्नी और उसकी सास की पिटाई करते हुए कैमरे में पकड़ा गया | यह घटना उनके निवास पर घटी जहां पीड़िता एक अन्य महिला के साथ कथित अवैध संबंध को लेकर उनसे भिड़ने गई थी |” यह भद्राद्री कोठागुडेम जिला में घटित घटना है | इस खबर से हम स्पष्ट को सकते है कि यह विडियो उत्तर प्रदेश के झाँसी का नहीं है बल्कि तेलंगाना का है |

आर्काइव लिंक

१ सितम्बर २०१८ को तेलुगु राज्य ने भी इस खबर को प्रकाशित किया | इस खबर में उपरोक्त विडियो भी संलग्न किया गया है | इसके अलावा एक और विडियो भी देखा जा सकता है जहाँ हम पुलिस इंस्पेक्टर को उनकी बीवी व सास को पीटते हुए देख सकते है |

आर्काइव लिंक
१ सितम्बर २०१९ को तेलंगाना टुडे ने भी इस खबर को प्रकाशित करते हुए लिखा है कि इस घटना के सामने आने के बाद कोठागुडेम में मनुगुर पुलिस ने उसके खिलाफ आईपीसी की धारा ४९८ए और ३२३ के तहत प्राथमिकी दर्ज की |

आर्काइव लिंक

इसके पश्चात हमने यू-ट्यूब पर अलग अलग की वर्ड्स के माध्यम से उपरोक्त विडियो में इस्तेमाल किया गया ऑडियो ढूँढने की कोशिश की | परिणाम से हमें उपरोक्त विडियो वही ऑडियो के साथ ८ दिसंबर २०१८ को अलग शीर्षक के साथ मिला | इस विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “कश्मीर में हिन्दू मुसलमान पर अत्याचार करते है |”

इसके अलावा हमें ८ जनवरी २०१९ को झर्गम अब्बास नामक यू-ट्यूब यूजर द्वारा प्रकाशित विडियो मिला | इस विडियो में एक तस्वीर देखा जा सकता है जिसके बैकग्राउंड में हम ऑडियो को सुन सकते है | इसका मतलब यह है कि मूल विडियो के साथ छेड़छाड़ करते हुए ऑडियो को बैकग्राउंड में जोड़ा गया है | यह ऑडियो एक नकली प्रचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | वायरल विडियो एक पुलिस इंस्पेक्टर द्वारा अपने बीवी और सास पर अत्याचार करने की घटना है | यह घटना लगभग एक साल पहले तेलंगाना में घटी थी | मूल विडियो के साथ छेड़छाड़ की गयी है और उसके साथ लोगों को भ्रमित करने के लिए एक नकली ऑडियो जोड़ा गया है | मूल विडियो के साथ ऑडियो को जोड़कर इस घटना को एक सांप्रदायिक विवाद का रूप दिया जा रहा है |

Avatar

Title:क्या झाँसी में हिन्दूओं द्वारा मुसलमानों पर अत्याचार किये जा रहे है ?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •