भाजपा सरकार के आलोचकों को धमकी देने वाला व्यक्ति भाजपा कार्यकर्ता नहीं है |

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नागरिकता कानून (CAA) को लेकर देश भर में हो रहे विरोध प्रदर्शन के बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, इस वीडियो में एक शख्स कथित तौर पर केंद्र सरकार और उसकी नीतियों और सीएए का विरोध करने वालों को धमकी देता नज़र आ रहा है | वीडियो में व्यक्ति बीजेपी, नरेंद्र मोदी और अमित शाह की आलोचना करने वालों को मारने की धमकी देता दिख रहा है। सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा है कि धमकी देने वाला व्यक्ति भा.ज.पा कार्यकर्ता है |

सोशल मीडिया पर दो मिनट के इस वीडियो में वक्ता कहता है कि “…नरेंद्र मोदी के खिलाफ जो भी बोलेगा, अभी तो कॉलेज में घुस के मार रहे है ना…अगर बहुत ज्यादा बोलोगे तो हम तुम्हारे घरों मे भी घुसेंगे और जान से भी मार देंगे. हम को कोई नहीं रोकेगा…सब पत्रकार हमारे साथ, पुरा आरएसएस हमारे साथ है…”

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “संघी गर्व से और खुले तौर पर स्वीकार करते हैं कि यह शाह और मोदी से छात्रों को पीटने के आदेश थे |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि..

वीडियो में टाइम्स ऑफ टुडे नामक चैनल का माइक दिखाया गया है | तदनुसार, इस नाम के एक यूट्यूब चैनल पर यह वायरल वीडियो हमें मिला | यह वीडियो पूरे १९ मिनट का इंटरव्यू है जिसमें से एक भाग को क्लिप करते हुए वायरल वीडियो के दावे के साथ फैलाया गया है | इस वीडियो को ६ जनवरी २०२० को अपलोड किया गया था | आप इसे नीचे देख सकते हैं | वीडियो के शीर्षक के अनुसार, यह व्यक्ति “बनारस वाले मिश्रा जी” है |

पूरा वीडियो सुनने के बाद पता चलता है कि यह व्यक्ति भा.ज.पा सरकार की कड़ी आलोचना कर रहा है | उस व्यक्ति ने कहा है कि भा.ज.पा कैसे अपने विपक्षियों का दमन कर रही है, उन्हें देशद्रोही, दंगाइयों के रूप में जेल में डाल रही है | वायरल हो रही आधी क्लिप में धमकी दिखाई दे रही है और यह वीडियो क्लिप लोगों के मन में भ्रम पैदा कर रही है | इस वीडियो में, वह बताते हैं कि भाजपा आलोचकों को चुप कराने के लिए कैसे काम करती है, यह व्यक्ति निजी रूप से किसी को धमकी नहीं देता है |

तो क्या ये मिश्रा बीजेपी कार्यकर्ता हैं?

उत्तर – “नहीं”

इस व्यक्ति का नाम हरीश मिश्रा है, वे वाराणसी में रहते हैं | उसी यूट्यूब चैनल पर एक इंटरव्यू में, उन्होंने अपने बारे में बात की, उनके अनुसार, उन्होंने कॉलेज में पढ़ाई के दौरान एक छात्र संगठन, भगत सिंह यूथ ब्रिगेड शुरू किया था| बाद में २०१६ में, वह कांग्रेस सेवा दल के जिला अध्यक्ष बने | हालांकि, उन्होंने २०१८ में इस्तीफा दे दिया था’ | वह भाजपा कार्यकर्ता नहीं हैं |

‘आज तक’ के अनुसार, मिश्रा के सेवा दल छोड़ने के बाद, वह मुलायम सिंह के छोटे भाई शिवपाल यादव से जुड़े थे | लेकिन, कांग्रेस के प्रति उनकी निष्ठा बरकरार है | उन्हें सोशल मीडिया पर “बनारस के मिश्रा जी” के नाम से जाना जाता है |

आर्काइव लिंक

जब फैक्ट क्रेस्केंडो ने हरीश मिश्रा से संपर्क किया, तो उन्होंने स्पष्ट किया कि वह कभी भी भा.ज.पा कार्यकर्ता नहीं थे | इस वीडियो में उन्होंने सी.ए.ए विरोधियों के खिलाफ भा.ज.पा की हिंसा की आलोचना की है | उनकी बातों का उल्टा अर्थ निकाला जा रहा है | 

इससे पहले इसी हरीश मिश्रा का एक वीडियो इसी तरह के एक झूठे दावे के साथ वायरल हुआ था | तब फैक्ट क्रेस्सन्डो गुजरात ने इन दावों को सत्यापित किया था और सच्चाई सामने लाई थी | 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | वीडियो में मौजूद व्यक्ति बीजेपी कार्यकर्ता नहीं है | न ही उसने धमकी दी है | यह एक क्लिप्ड वीडियो है | इस व्यक्ति का नाम हरीश मिश्रा है | वह २०१६ से २०१८ तक कांग्रेस सेवा दल के वाराणसी जिला अध्यक्ष थे |

Avatar

Title:भाजपा सरकार के आलोचकों को धमकी देने वाला व्यक्ति भाजपा कार्यकर्ता नहीं है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply