राजस्थान में पारिवारिक विवाद के चलते नशे में धुत पति द्वारा अपनी दो बेटियों की हत्या व अपनी पत्नी को गंभीर रूप से घायल करने की घटना को सांप्रदायिक रंग देते हुए फैलाया जा रहा है |

Communal False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मंचों पर एक महिला और उसके दो बच्चों को खून से लथपथ दिखाते हुए दो वीडियो काफी साझा किये जा रहें हैं, इन वीडियो को इन दावों के साथ सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है कि ‘अजमल खान नाम के एक व्यक्ति को राजस्थान में एक हिंदू महिला से प्यार हो गया था और जब महिला के पिता ने उनके रिश्ते को मंजूरी नहीं दी तो अजमल खान ने अगले दिन चाकू से उस लड़की के पूरे परिवार की हत्या कर दी | इस वीडियो को संप्रदायिकता का रंग देते हुए समुदाय के प्रति अपराध के नाम से फैलाया जा रहा है |

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के बाद पाया कि इस घटना का साम्प्रदायिकता से कोई जोड़ नहीं है और ना ही ये कोई प्रेम प्रसंग व शादी के रिश्ते नकारने के चलते हुई घटना है, ये दंपति पिछले १० वर्षों से शादीशुदा थे व पारिवारिक कलह के चलते नशे में धुत पति द्वारा इस घटना को अंजाम दिया गया ,यह घटना राजस्थान के अजमेर में हुई, जहाँ अजीत चीता नाम के एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और दो बेटियों को मारने की कोशिश की थी | अजमेर पुलिस ने हमें स्पष्ट किया कि इस घटना के साथ संप्रदायिकता से कोई संबंध नहीं है |

क्या है वाईरल पोस्ट में 

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि 

राज्यस्थान में एक मुस्लिम अजमल खान एक हिन्दु परिवार की लड़की पर लट्टू हो गया और उसके बाप के पास घर रिश्ता ले के पंहुचा. लड़की के बाप ने उसे धमका के भगा दिया कहा तुम मुस्लिम हो, हम हिन्दु है और हम ये गलत काम नहीं करेंगे। और फिर अजमल खान अगले दिन हथियार लेके गया और एक DNA वाले हिन्दु परिवार के सारे लोगो को मार डाला |”

फेसबुक पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने पाया है कि एक व्यक्ति द्वारा अपनी दो बेटियों की हत्या करने और अपनी पत्नी को घायल करने की घटना को सोशल मीडिया पर गलत तरीके से सांप्रदायिक रंग देते हुए फैलाया गया है |

शोध की शुरुवात हमने इस वीडियो को गूगल पर इस प्रकरण से संबंधित कीवर्ड सर्च कर की,  जिसके परिणाम से हमें ज़ी राजस्थान द्वारा प्रकाशित एक खबर प्राप्त हुई | रिपोर्ट् के मुताबिक राजस्थान के अजमेर में एक शख्स ने अपनी पत्नी और बेटियों पर हमला कर दिया | आरोपी की पहचान अजीत के रूप में हुई है, अन्य समाचार अजेंसियों ने भी इस पर रिपोर्ट प्रकाशित की है पर किसी ने भी इस घटना में सांप्रदायिक कोण होने की बात नहीं की है अपितु इस घटना को घरेलू हिंसा का मामला बताया है |

आर्काइव लिंक

इस प्रकरण में और अधिक स्पष्टता प्राप्त करने के लिए फैक्ट क्रेसेंडो ने ब्यावर सदर थाने के जांच अधिकारी सुरेंद्र सिंह जोधा से बातचीत की, इस प्रकरण पर उन्होंने हमें बताया कि यह घटना सांप्रदायिक प्रकृति की नहीं थी, आगे उन्होंने कहा कि “अजीत चीता नाम के शख्स ने १४ जुलाई को अपनी पत्नी कविता और एंजल और अनु नाम की बेटियों पर उस वक्त हमला किया था, जब वह नशे में था | उनकी दोनों बेटियों का निधन हो गया और उनकी पत्नी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है | उसे गिरफ्तार कर लिया गया है | पुलिस ने हमें यह भी बताया कि अजीत और कविता ने करीब १० साल पहले प्रेम विवाह किया था |

अजीत- चीता मेहरत समुदाय से हैं, जिसमें हिंदू और मुसलमान दोनों शामिल हैं। पुलिस ने कहा कि उन्होंने अपनी प्रारंभिक जांच में पाया है कि अजीत का मूल परिवार हिंदू है लेकिन उसकी पहचान एक मुस्लिम के रूप में हुई (पुलिस के अनुसार ये संभव है कि अजीत ने बाद में अपना धर्म परिवर्तित करवा लिया हो, जो कि चीता मेहरत समुदाय में एक आम बात है ) |”

उन्होंने हमें यह भी बताया कि अजीत महामारी और बेरोजगारी के कारण उदास था। हालाँकि, उनके पड़ोसियों से ऐसी असत्यापित रिपोर्टें आई हैं कि वह परेशान थे क्योंकि उनकी पत्नी ने हिस्टेरेक्टॉमी ऑपरेशन कराया था जिससे वे आगे बच्चे पैदा नहीं कर सकती है | अजित की दो बेटियाँ थीं और वह एक लड़का चाहता था और इसलिए, वह शायद परेशान हो गया था | कविता को हिस्टेरेक्टॉमी से गुजरना पड़ा, जिससे वह गर्भवती नहीं हो पाई। अजीत पिछले कुछ महीनों से यह जानते हुए गंभीर रूप से उदास था कि उसके और बच्चे नहीं हो सकते | 

उन्होंने हमें स्पष्ट रूप से बताया कि यह हत्या किसी समुदाय के खिलाफ नफरत से प्रेरित नहीं थी | इस घटना के साथ संप्रदायिकता से कोई संबंध नहीं है |

चीता मेहरात समुदाय कौन है?

राजस्थान के कई जिलों में फैले चीता मेहरत समुदाय के लोग इस मायने में अद्वितीय है कि इस समुदाय में एक हिंदू पिता के बच्चे अपनी मर्जी से इस्लाम या हिंदू धर्म का पालन करते हैं। समुदाय के भीतर प्रत्येक व्यक्ति की जीवन शैली उनके द्वारा पालन किए जाने वाले धर्म पर आधारित होती है |

अजमेर पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया है  कि घटना १४ जुलाई को हुई थी। बयान के अनुसार, कविता के पैतृक परिवार को हमले की सूचना दी गई थी, लेकिन उन्होंने आने से इनकार कर दिया। अजीत से शादी करने का फैसला करने के बाद से परिवार १० साल से अधिक समय से कविता से परेशान है |

आर्काइव लिंक

दैनिक जागरण द्वारा प्रकाशित न्यूज़ के अनुसार अजमेर जिले के ब्यावर अनुमंडल के हाइवे पर स्थित खरवा गांव निवासी अजीत ने अपने परिवार पर इसलिए हमला किया क्योंकि वह बेरोजगारी और आर्थिक तंगी से परेशान था | रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कविता की हिस्टेरेक्टॉमी के बाद अजीत घर के कामों में व्यस्त था | वह उन्हें मारना चाहता था और बाद में आत्महत्या करके खुद मरना चाहता था | 

आर्काइव लिंक 

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट के साथ किये जा रहे दावों को गलत पाया है | एक व्यक्ति द्वारा अपनी दो बेटियों की हत्या करने और अपनी पत्नी को घायल करने की घटना को सोशल मीडिया पर गलत तरीके से सांप्रदायिक रंग देते हुए फैलाया गया | मूल घटना को सांप्रदायिक रंग देते हुए एक काल्पनिक कहानी बताई गयी कि ‘अजमल खान’ नामक व्यक्ति ने उस महिला के परिवार को मार डाला जिससे वह शादी करना चाहता था |

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. अभिनेता दिलीप कुमार के सात वर्ष पुराने वीडियो को उनके निधन के पहले का अंतिम वीडियो बता वायरल किया जा रहा है।

२. राहुल गांधी के सम्बन्ध में ABP न्यूज़ का न्यूज़ कार्ड फर्ज़ी है।

३. ई-कॉमर्स वेबसाइट ‘EBAY’ पर बेचे जा रहे ओलंपिक ‘वॉलंटियर पिन’ को भ्रामक दावे के साथ साझा किया जा रहा है|

Avatar

Title:राजस्थान में पारिवारिक विवाद के चलते नशे में धुत पति द्वारा अपनी दो बेटियों की हत्या व अपनी पत्नी को गंभीर रूप से घायल करने की घटना को सांप्रदायिक रंग देते हुए फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •