बच्चे के जन्मदिन पर पत्नी को पीट रहे पति के वीडियो को झूठे लव जिहाद के दावे से शेयर किया जा रहा है

Communal False

इस वीडियो में दिख रहे दोनों ही पति-पत्नी मुस्लिम समुदाय से है। इसका लव जिहाद से कोई संबन्ध नहीं है।

एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। उसमें एक पती- पत्नी अपने बच्चे का जन्मदिन मना रहे है। परंतु उस दौरान पति अपनी पत्नी को पिटने लगता है। दावा किया जा रहा है कि इसमें दिख रहे शख्स का नाम मोहम्मद मुश्ताक है। उसने लव जिहाद के चलते एक हिंदु लड़की से शादी की और अब उसे पीटता है। 

वायरल हो रहे पोस्ट में यूज़र ने लिखा है, “लव जिहाद में फंसी हुई लड़की कैसे रोज जूते खाती है, खुद के बच्चे के जन्मदिन पर दीपक जलाने की बात पर  क्योंकि दीप प्रज्जवलित करना इस्लाम में हराम है इसलिए अब्दुल का दिमाग दीप देखकर खराब हो गया। सेकुलर हिन्दू ल़डकियों देखें इनकी असली सच्चाई।“ (शब्दश:)

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस घटना के बारे में गूगल पर कीवर्ड सर्च किया और जानकारी हासिल करने की कोशिश की। हमें 4 अक्टूबर को इंडिया टुडे की वेबसाइट इस बारे में जानकारी प्रकाशित की हुई मिली। इस वेबसाइट पर वायरल वीडियो और उसके साथ उस महिला का वीडियो भी प्रसारित किया हुआ है। रिपोर्ट में बताया गया है कि यह घटना पुरानी है। पीड़िता का नाम आयशा है और वो वीडियो में दिख रहे उसके पति से अलग हो चुकी है। 

जाँच में आगे बढ़ते हुये हमने पाया कि peepoye नामक एक इंस्टाग्राम यूज़र ने आयेशा के वीडियो को 4 अक्टूबर को पोस्ट किया था। जिसमें उसने लिखा है कि वह आयेशा के साथ है। आप देख सकते है कि उसमें आयेशा उसका समर्थन करने के लिये सभी लोगों को धन्यवाद दे रही है। इस वीडियो में वह उसके साथ होती रही घरेलु हिंसा के बारे में खुल कर बात कर रही है। आप इस पूरे वीडियो को नीचे देख सकते है। 

इस वीडियो में उसने बताया कि वह अपने पति से तलाक लेने के लिये अदालत में कई मुकदमे लड़ रही है। उसने यह भी बताया कि उसने यह वीडियो पहले शेयर नहीं किया क्योंकि वह शर्मिंदा महसूस कर रही थी। 

इंडिया टुडे की रिपोर्ट में बताया गया कि पिछले महीने जब यह वीडियो वायरल हुआ तब दिल्ली महिला आयोगी प्रमुख स्वाति मालीवाल ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई को इस बारें में एक पत्र लिखा और आयेशा के लिये न्याय की मांग की। उन्होंने इस बारें में 3 अक्टूबर को ट्वीट भी किया था। आप नीचे देख सकते है। 

आर्काइव लिंक

28 दिसंबर 2021 को प्रकाशित न्यूज़18 की रिपोर्ट में बताया गया है कि कर्नाटक हाई कोर्ट ने आयशा के पति की याचिका को खारिज कर आयशा को उनके बच्चे की कस्टडी दी थी और आयेशा के पति को उसे मुआवजा देने का आदेश भी दिया था। इस घटना के बारें में इंटरनेट पर कई रिपोर्ट पढ़ने पर भी हमें कही ऐसा लिखा हुई नहीं मिला कि यह लव जिहाद का मामला है। 

फिर हमने और कीवर्ड सर्च आयेशा और उसके पति के बीच हुये कोर्ट केस के पूरे फैसले के आदेश की कॉपी की जाँच की। उसे पढ़ने पर हमने देखा कि उसमें लिखा है कि दोनों भी पति और पत्की सुन्नी मुस्लिम है। पीड़िता का नाम आयेशा है और वीडियो में दिख रहे उसके पूर्व पति का नाम मोहम्मद मुश्ताक है। आप नीचे दी गयी तस्वीर में कोर्ट के आदेश को पढ़ सकते है। 

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। इसमें दिख रहे पति- पत्नी दोनों ही मुस्लिम समुदाय से है। इसका लव जिहाद से कोई संबन्ध नहीं है।

Avatar

Title:बच्चे के जन्मदिन पर पत्नी को पीट रहे पति के वीडियो को झूठे लव जिहाद के दावे से शेयर किया जा रहा है

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: False

Leave a Reply