क्या यह वीडियो दिल्ली में मुसलमानों के ऊपर की गयी हिंसा को दर्शाता है? जानिए सच |

False National Political

दिल्ली में चल रहे दंगों के बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी तेजी से फैलाया जा रहा है जिसके माध्यम से दावा किया जा रहा है कि दिल्ली में हिन्दू समुदाय के सदस्यों की एक उग्र भीड़ एक मुस्लिम व्यक्ति को पत्थरों से पीट रही है, कहा जा रहा है कि दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के हिन्दुओं द्वारा मुसलमानों पर अत्याचार हो रहे हैं | वीडियो में हम भीड़ को एक व्यक्ति को डंडों और पत्थरों से पीटते हुए देख सकते है | 

इस पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “चेतावनी: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के हिन्दू द्वारा की गई हिंसा, दिल्ली के मुसलमानों के खिलाफ हिंसा | यह राज्य पुलिस और मोदी सरकार के संरक्षण में पूरे भारत में हो रहा है | दिल्ली जेनोसाइड

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को इन्विड टूल के मदद से गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम में ५ फरवरी २०२० को NDTV द्वारा प्रसारित एक खबर मिली | खबर के अनुसार यह वीडियो मध्य प्रदेश के भोपाल से है | खबर में कहा गया है कि मध्य प्रदेश के धार जिले में बच्चा चोर होने के संदेह में सैकड़ों ग्रामीणों द्वारा हमला किए जाने के बाद एक किसान की मौत हो गई है और पांच अन्य लोग अस्पताल में भर्ती हैं |

इसी खबर को मिरर नाउ ने ६ फरवरी २०२० को अपने यूट्यूब चैनल पर उपलोड किया | खबर के अनुसार मध्य प्रदेश के धार जिले में लगभग २०० लोगों ने बच्चा चोर होने के संदेह पर ७ लोगों को पीटा जिसमे से एक आदमी की मौत हो गयी |

इस खबर को इंडियन एक्सप्रेस ने भी ६ फरवरी २०२० को प्रकाशित किया था | NDTV के खबर के अनुसार मृत व्यक्ति का नाम गणेश खासी है | खिरकिया गांव के तीन आरोपी – अवतार सिंह, भुवन सिंह और जय सिंह और १०-१५ अन्य अनाम व्यक्तियों पर, हत्या और हमले के लिए मामला दर्ज किया गया है |

इस घटना पर अधिक जानकारी लेने के लिए फैक्ट क्रेस्सन्डो ने धार के एस.पी ए.पी सिंह से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि “यह वीडियो मध्य प्रदेश से है ना कि दिल्ली से | इस घटना के साथ कोई सांप्रदायिक एंगल नही जुड़ा हुआ है | पीटे गये लोग गावं में लेन-देन के मामले से आए थे और गावंवालों के बीच किसीने यह अफवाह फैला दी थी कि ये लोग बच्चा चोर है | इसी संदेह के चलते गावंवालों ने इन व्यक्तियों को पीटा जिसके चलते एक व्यक्ति की मौत हो गयी थी| इस वीडियो के साथ दिल्ली के दंगों का कोई संबंध नही है |”

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो दिल्ली में चल रहे हिंसा या सांप्रदायिकता से संबंधित नही है | यह वीडियो मध्य प्रदेश में बच्चा चोर होने के संदेह में गावंवालों द्वारा की गयी हिंसा को दर्शाता है |

Avatar

Title:क्या यह वीडियो दिल्ली में मुसलमानों के ऊपर की गयी हिंसा को दर्शाता है? जानिए सच |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False