FACT-CHECK- ईरान के एक वीडियो को हरियाणा में एक शख्स द्वारा पेट्रोल पम्प जलाने का बता फैलाया जा रहा है |

False International Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर एक वीडियो साझा किया जा रहा है जिसमें दावा किया जा रहा है कि फुटेज हरियाणा, भारत से है | १ मिनट ५८ सेकेंड के इस वीडियो में एक आदमी जिसका चेहरा दुपट्टे से ढका हुआ है, एक दोपहिया वाहन पर पेट्रोल पंप में प्रवेश करता है, एक ईंधन मशीन के सामने रुकता है और सेल्फ फिलिंग विकल्प को सक्रिय करता है | आगे वो नोजल लेता है और डिस्पेंसर के अंदर नोजल को डालता है । जब एक पेट्रोल पंप कर्मचारी उसके पास आता है, तो वह आदमी उसे दूर रखने के लिए उस पर पेट्रोल छिड़कता है, फिर डिस्पेंसर के आसपास के क्षेत्र को और अधिक पेट्रोल से भर देता है | फिर वो एक माचिस जलाता है और घटनास्थल से भाग जाता है। वीडियो में आगे दिखाया गया है कि दो पेट्रोल पंप कर्मचारी आग बुझाने वाले यंत्र का उपयोग करके आग पर तुरंत काबू पा लेते हैं |
इस वीडियो को सोशल मीडिया पर साझा करते हुए दावा किया जा रहा है कि पेट्रोल के बढ़ते दामों के कारण हरियाणा में इस व्यक्ति ने पेट्रोल पंप में आग लगा दी थी |

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि 

पेट्रोल पंप फूंक फरार बढ़ती कीमतों से था परेशान!! #petrolpumpburn #fire #haryana” | कुछ पोस्ट के शीर्षक में यह भी लिखा गया है कि हरियाणा में पेट्रोल पम्प फूंक कर फरार. तेल कि बढ़ती क़ीमत से था परेशान |”

फेसबुक पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि….

फैक्ट क्रेसेंडो ने पाया है कि ये वीडियो हरियाणा का नहीं बल्कि ईरान के रफसंजन शहर का है जहां एक युवक ने पेट्रोल पंप में आग लगा दी थी | इस वीडियो का भारत से व भारत में बढ़ती पेट्रोल की कीमतों के साथ कोई संबंध नही है |

जाँच की शुरुवात हमने उपरोक्त वीडियो को इन्विड वी वेरीफाई टूल के मदद से छोटे कीफ्रेम्स में तोड़कर व गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च किया | इस सर्च के परिणाम से हमने इसी वीडियो को ईरानी यूजर द्वारा अपलोड किया हुआ पाया | इस वीडियो को देखने पर हमें नज़र आया कि जलने वाले पेट्रोल पंप की मशीन दाईं तरफ दिख रही है | यानी, इस बात की काफी संभावना है कि इस वीडियो को जानबूझकर फ्लिप किया गया, ताकि इसकी पहचान ना की जा सके |

आगे हमने कीफ्रेम्स को गूगल इमेज सर्च के साथ कीवर्ड्स का इस्तेमाल कर शोध किया जिसके परिणाम में हमें ईरान के ‘यंग जर्नलिस्ट्स क्लब’ की एक रिपोर्ट में वायरल वीडियो से ली गई एक तस्वीर मिली |

१६ जून, २०२१ को प्रकाशित अनूदित समाचार के अनुसार, १० जून को ईरान के करमान प्रांत में स्थित रफसंजन शहर में एक मोटरसाईकिल सवार और फ्यूल स्टेशन संचालकों के बीच कहासुनी हो गई थी | वहां काम करने वाले एजेंटों में से एक के साथ व्यक्तिगत विवाद को लेकर मोटरसाईकिल सवार ने गुस्से में वहां आग लगा दी और फरार हो गया | रिपोर्ट में आगे बताया गया है, एक पुलिस अधिकारी, रफसंजन पुलिस कमांड के प्रमुख कर्नल अरामौन ने कहा, “१० जून की सुबह, रफसंजन शहर में मोटरसाइकिल पर सवार एक व्यक्ति ने एक गैस स्टेशन में आग लगा दी और भाग गया। पुलिस जांच के अनुसार इस घटना का कारण गैस स्टेशन के एजेंटों के साथ व्यक्तिगत विवाद था।” रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि पुलिस ने फरार आरोपी की बाईक को जब्त कर लिया है | हमें फारसी भाषा की दो और मीडिया रिपोर्ट मिलीं जो इसी घटना से संबंधित हैं |

वीडियो को गौर से देखने पर हमने पाया कि…

सबसे पहले हमने वायरल वीडियो में दिख रहे पेट्रोल डिस्पेंसर पर दिखाई देने वाले ब्रांड लोगो पर ध्यान केंद्रित किया और एक गूगल सर्च से पता चला कि यह भारत में ईंधन कंपनियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले किसी भी लोगो जैसा नहीं था |

उपरोक्त जानकारी का उपयोग करते हुए कि दिखाई देने वाली होर्डिंग रफसंजन स्थित एक कंपनी की थी, हमने इस क्षेत्र में पेट्रोल पंपों की तलाश की | गूगल मैप्स पर संबंधित कीवर्ड्स के साथ खोज करने पर हमें रफसंजन में पेट्रोल पंपों के नाम व लोकेशन नज़र आई, इन पेट्रोल पम्पों को ध्यान  से देखने पर हमें मुर्शिद गैस स्टेशन नाम का एक स्टेशन मिला जहाँ वायरल वीडियो में दिखाई दे रही समान डिस्पेंसर और लोगो मिला |

आगे हमने आरोपी द्वारा इस्तेमाल किए गए दोपहिया वाहनों पर नंबर प्लेट को देखने के लिए इन्विड मैग्निफायर टूल का उपयोग करने से पता चला कि प्रारूप भारतीय वाहनों पर देखे गए प्रारूप का पालन नहीं करता है और वे फारसी भाषा में लिखा गया हैं | 

यह देखते हुए कि इस वीडियो के साथ ईरान का संबंध है, हमने ईरान में मोटरसाइकिल नंबर प्लेट के प्रारूप की खोज की और उनकी तुलना वायरल वीडियो में देखे गए वाहन के साथ किया | नीचे दी गयी तस्वीर में हम देख सकते है कि शीर्ष दाईं ओर ईरान के झंडे के रंगों जैसी एक बोर्ड देखा जा सकता है जिसकी स्पष्ट तस्वीर आप नीचे देख सकते है |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त वीडियो के साथ हो रहे दावे को गलत पाया है | ये वीडियो हरियाणा का नहीं बल्कि ईरान के रफसंजन शहर का है जहां एक युवक ने पेट्रोल पंप में आग लगा दी थी | इस वीडियो को सोशल मीडिया पर गलत तरीके से हरियाणा में पेट्रोल के बढती कीमत को लेकर हुई घटना के नाम से फैलाया जा रहा है | 

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. ज्योतिरादित्य सिंधिया के दो वर्ष पुराने वीडियो को वर्तमान में हुये केंद्रीय मंत्रालय फेरबदल से जोड़ वायरल किया जा रहा है।

२. २०१९ की बांग्लादेश में के ईद-ए- मिलाद- उन नबी के जलूस की तस्वीर को उत्तर प्रदेश में ओवैसी के रैली के नाम से फैलाया जा रहा है|

३. सुप्रीम कोर्ट के वकील ऍड. भानू प्रताप सिंह के भाषण के वीडियो को हिमालया कंपनी के मालिक का बता वायरल किया जा रहा है।

Avatar

Title:ईरान के एक वीडियो को हरियाणा में एक शख्स द्वारा पेट्रोल पम्प जलाने का बता फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •