Fact Check- हाथरस पीड़िता का शव जलाने से पहले हाथरस पुलिस का पीड़िता की माँ को हिरासत में लेने व उनकी पिटाई का वीडियो गलत है |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

सोशल मीडिया पर पुलिस स्‍टेशन में एक महिला के साथ अभ्रदता के वीडियो को अब कुछ लोग हाथरस की वारदात से जोड़कर वायरल कर रहे हैं | वीडियो में एक बच्चे के साथ जमीन पर एक महिला बैठी हुई हैं और एक पुलिसवाला इस महिला पर चिल्लाते हुए महिला को लात मारते हुए दिख रहा है | इस वीडियो को फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि वीडियो में दिख रही महिला हाथरस वारदात की पीडि़ता की मां हैं जिनको पुलिस बेरहमी से पीट रहीं है क्योंकि उन्होंने अपने बेटी के शव के बारें में सवाल उठाये थे | वीडियो में पुलिस कर्मी को कथित हाथरस के पीड़ित के माँ को लाथ मरते हुए और अभद्र शब्दों का उपयोग करते हुए देख सकते है | इस वीडियो को कई भाषाओँ में फैलाया जा रहा है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश के हमीरपुर से है व हाथरस प्रकरण से पहले का है, वीडियो में दिख रहे पुलिस इंस्पेक्टर पर कार्यवाही की जा रही है व वर्तमान में उन्हें लाईन हाज़िर किया गया है | इस वीडियो के साथ हाथरस कांड का कोई संबंध नहीं है ना ही यह महिला हाथरस पीड़िता की माँ है |

जाँच की शुरुवात हमने इस वीडियो को इन्विड टूल की मदद से कीफ्रेम्स में तोड़कर गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने से शुरू किया, जिसके परिणाम से हमें २९ सितम्बर २०२० को लाइव हिंदुस्तान द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली | इस रिपोर्ट के अनुसार यह वीडियो यूपी के हमीरपुर जिले के सदर कोतवाली का है | कहा जा रहा है कि यह वीडियो पुराना है और वर्तमान में वायरल होने के बाद इस मामले की जाँच के आदेश एस.पी हमीरपुर द्वारा दे दिए गए है |

आर्काइव लिंक 

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, वायरल वीडियो में दिख रही महिला अंबेडकरनगर इलाके की है, जो सब्जियों की एक दुकान की मालिक है और अप्रैल में तालाबंदी के दौरान उसने कथित तौर पर अपनी दुकान खोली थी, जिसके कारण उसे स्टेशन ले जाया गया था, जिसके बाद वह पुलिसकर्मी द्वारा पीटा गया था |

आर्काइव लिंक

फैक्ट क्रेसेंडो ने इस घटना के स्थान की पुष्टि करने के लिए हमीरपुर के एस.पी नरेन्द्र कुमार सिंह से संपर्क किया जिन्होंने हमें बतया कि 

यह वीडियो हमीरपुर से ही है और इसका हाथरस से कोई संबंध नहीं है | वीडियो में दिख रहे पुलिस ऑफिसर कोतवाली के स्टेशन ऑफिसर श्याम प्रताप पटेल है जिन्हें लाईन हाजिर किया जा चूका है | इस घटना के बारें में हमने ट्विटर पर जानकारी भी दे रखी है |”

आर्काइव लिंक 

तद्पश्चात फैक्ट क्रेसेंडो ने हमीरपुर सदर के सर्किल ऑफिसर अनुराग सिंह से संपर्क किया जिन्होंने बताया कि वायरल वीडियो हमीरपुर से सम्बंधित है और इस वीडियो का हाथरस में हुए दुष्कर्म से या फिर संबंधित पीड़ित या पीड़ित के परिवार से कोई लेना देना नही है | इस घटना के बाद से ही सम्बंधित थाना अधिकारी को लाइन हाजिर किया जा चुका है |

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात् हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश के हमीरपुर से है व हाथरस प्रकरण से पहले का है, वीडियो में दिख रहे पुलिस इंस्पेक्टर पर कार्यवाही की जा रही है व वर्तमान में उन्हें लाईन हाज़िर किया गया है | इस वीडियो के साथ हाथरस कांड का कोई संबंध नही है ना ही यह महिला हाथरस पीड़िता की माँ है |

Avatar

Title:हाथरस पीड़िता का शव जलाने से पहले हाथरस पुलिस का पीड़िता की माँ को हिरासत में लेने व उनकी पिटाई का वीडियो गलत है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply