वाराणसी में पार्षद को गटर में कुर्सी से बांधकर रखने के वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है। 

Partly False Political

यह वाराणसी का वीडियो है। दरअसल, इस पार्षद को जनता अपनी गटर की समस्या से अवगत कराना चाहती थीं। इसलिये उन्हें कुर्सी से बांधकर रखा गया था।

पानी से भरे रास्ते पर कुर्सी से बंधे हुए एक शख्स का वीडियो वायरल हो रहा है। साथ में दावा किया जा रहा है कि, वह शख्स पार्षद है। उन्होंने चुनाव होने के बाद कभी उनके क्षेत्र का दौरा नहीं किया और अब वापस चुनाव आने पर वोट मांगने आये है। जिस वजह से लोगों ने उन्हें ऐसे बांध दिया। 

वायरल हो रहे पोस्ट में लिखा हुआ है, “ये जनाब पार्षद है, चुनाव जीतने के बाद कभी अपने क्षेत्र में नही गए। वापस चुनाव आने पर वोट की अपील के लिए दौरे पर गए जनता द्वारा किडनैप कर लिया गया।“ 

फेसबुक

आर्काइव लिंक


Read Also: क्या नूपुर शर्मा केस में सुनवाई करने वाले जज जे. बी. पारदीवाला पहले कांग्रेस विधायक थे?


अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने इस वीडियो की जाँच यूट्यूब पर कीवर्स सर्च कर की। परिणाम में हमें यही वीडियो एन.डी.टी.वी के चैनल पर 21 नवंबर 2021 को प्रसारित किया हुआ मिला। इसके साथ दी गयी जानकारी में बताया गया है कि वाराणसी में सीवर की वजह से जलभराव के कारण परेशान जनता ने उसी क्षेत्र को पार्षद को कई घंटों तक सीवर के पानी के बीच कुर्सी से बांधकर बंधक बना कर रखा। 

वहाँ के लोगों ने सालों से हो रही परेशानियों के लिये आक्रोश जताया। इस पर पार्षद खुद कह रहे है कि सीवर की वजह उस श्रेत्र में मौजूद 20-25 घरों के लोगों को घर से बाहर निकलने के लिये काफी दिक्कत होती है। और उन्होंने कई बार नगर निगम के लोगों की इस परेशानी के बारे में अवगत कराया।

आर्काइव लिंक

आगे बढ़ते हुये नवभारत टाइम्स के लेख में हमने पाया कि यह घटना वाराणसी के कोतवाली थाना क्षेत्र के अम्बिया मंडी इलाके की है। वहाँ कुछ महीनों से सीवर का पानी बह रहा इस वजह से लोगों ने वहाँ के पार्षद तुफैल अंसारी को बंधी बनाया था।

आर्काइव लिंक

आपको बता दें कि वाराणसी में नगर निगम के चुनाव दिसंबर 2017 में हुये थे और अब आने वाले चुनाव 2022 याने की इस साल होने वाले है। इससे हम यह कह सकते है कि इस वीडियो के साथ किया जा रहा दावा गलत है।


Read Also: क्या आईफोन के लिए इस लड़के पहली पत्नी को धोका दे कर 50 साल की महिला से शादी की?


निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा आंशिक रूप से गलत है। वाराणसी के पार्षद को लोगों को सीवर के पानी से हो रही परेशानियों के लिये बंधी बनाया गया था।

Avatar

Title:वाराणसी में पार्षद को गटर में कुर्सी से बांधकर रखने के वीडियो को गलत दावे के साथ शेयर किया जा रहा है।

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: Partly False