उत्तराखंड में चल रहे राहत-बचाव कार्य के वीडियो को भारतीय सेना द्वारा पैंगोंग त्सो में चीनी बंकरों को ध्वस्त करने का बता वायरल किया जा रहा है |

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

फरवरी में, चीन और भारतीय सेनाओं ने पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चल रहे नौ महीने के सैन्य गतिरोध के बाद पैंगोंग त्सो के दक्षिण में विघटन शुरू कर दिया | इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो को फैलाते हुए दावा किया जा रहा है कि भारतीय सेना ने पांगोंग झील के पास चीनी बंकरों को जे.सी.बी से ध्वस्त करना शुरू कर दिया है | 

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि 

“पांगोंग झील से १५० चीनी टैंक और लगभग ५,000 चीनी सैनिकों के भागने के पश्चात | भारतीय सेना ने जेसीबी से सभी चीनी बंकर ध्वस्त कर दिए |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने पाया कि वायरल दावे के साथ साझा किया जा रहा वीडियो उत्तराखंड में ITBP द्वारा किये जा रहे राहत-बचाव अभियान का है, इस वीडियो पैंगोंग त्सो से कोई सम्बन्ध नहीं है| 

जाँच की शुरुवात हमने उपरोक्त वीडियो को इन्विड वी वेरीफाई टूल के मदद से छोटे कीफ्रेम्स में तोडकर व गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, जिसके परिणाम से हमें यह वीडियो ITBP के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट द्वारा प्रकाशित मिला, ट्वीट में लिखा गया है कि “अन्य संगठनों के साथ ITBP के कर्मी आज रैणी में लापता लोगों की खोज में निकले  # तपोवन, # उतराखंड #UttarakhandGlacierBurst” | इस ट्वीट को १५ फरवरी २०२१ को अपलोड किया गया था | 

आर्काइव लिंक 

इस त्रसिदी से सम्बंधित और अधिक कीवर्ड सर्च करने पर हमें इंडिया टीवी द्वारा प्रकाशित खबर मिली जहाँ यह वीडियो उत्तराखंड का बताया गया है | इस न्यूज़ रिपोर्ट के वीडियो का सोर्स ITBP को बताया है | रिपोर्ट में लिखा गया है कि “एनडीआरएफ के साथ भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों ने उत्तराखंड के चमोली जिले के रैणी गांव में खोज और बचाव अभियान चलाया |”

आर्काइव लिंक

फैक्ट क्रेसेंडो ने तद्पश्चात तपोवन क्षेत्र के स्थानीय निवासी भगत सिंह बिष्ट से संपर्क किया जो राहत कार्य में अपना योगदान दे रहे है, सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो को देख उन्होंने पुष्टि की कि यह वीडियो तपोवन की NTPC डैम साईट से है जहाँ ग्लेशियर फटने के बाद हुई तबाही के बाद से कई लोग डैम की सुरंगों में फंसे हुये हैं, ये जे.सी.बी मशीनें उसी राहत-बचाव अभियान का हिस्सा हैं |

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त वायरल वीडियो के साथ हो रहे दावे को गलत पाया है | उत्तराखंड में ITBP व अन्य संघटनों द्वारा किये जा रहे राहत-बचाव अभियान के एक वीडियो को भारतीय सेना द्वारा पांगोंग झील क्षेत्र में चीनी सैनिकों के विघटन के बाद चीनी बंकरों को नष्ट करने के गलत दावे के साथ वायरल किया जा रहा है |

Avatar

Title:उत्तराखंड में चल रहे राहत-बचाव कार्य के वीडियो को भारतीय सेना द्वारा पैंगोंग त्सो में चीनी बंकरों को ध्वस्त करने का बता वायरल किया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply