कोरोना से मृत व्यक्ति के शव के अंगों के गायब होने का दावा गलत है।

Coronavirus False
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

कोरोना वाईरस महामारी के दौरान सोशल मंचो पर मृत शवों के अंग गायब होने की काफी खबरें इंटरनेट पर फैल रहीं हैं। इसी विषय से संबन्धित एक वीडियों सोशल मंचों पर काफी चर्चा में है। इस वीडियो के साथ वाईरल हो रहे मैसेज का दावा है कि वीडियो में दिखाया गया दृश्य मुंबई में स्थित मनोरी गाँव का है, जहाँ मृत कोरोना मरीज़ का किडनी, लिवर व हार्ट गायब कर दिया गया है, इस संदर्भ को लेकर गाँववालों में अत्यधिक रोष है व विरोध स्वरूप लोगों ने भविष्य में किसी भी करोना संक्रमित मरीज को पेशंट क्वारंटाईन या इलाज के लिए अस्पताल भेजने से इनकार किया है ।

वीडियो के साथ वाईरल हो रहे मैसेज में कथित है कि,

#मृत_कोरोना_पेशंट_के_किडनी_लिवर_हार्ट_गायब ?????

मानोरी गाव में कोरोना से मरने वाले व्यक्ति की डेड बॉडी को जबरदस्ती गाववालो द्वारा गांव में लाया गया… मृत की डेड बॉडी को नहलाते वक़्त समझ आया कि मृत इंसान के बॉडी से सभी महत्वपूर्ण अंग गायब है.. गांव वालो ने विरोध करते हुए कहा है कि एक भी कोरोना पेशंट क्वारंटाईन या इलाज के लिए हॉस्पिटल में देंगे नहीं। 

#मानव_अंगों का धंधा करने वालो ने कई बार पुलिस के सामने ये बात कही है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में इंसान के अंगो जैसे आंख, दिल, किडनी, लिवर इत्यादि की कीमत 5 करोड़ के आसपास होती है..

फेसबुक | आर्काइव लिंक     

इस पोस्ट को 24 आर्स टुडे न्यूज़ नाम के एक फेसबुक पेज ने भी पोस्ट किया है।

फेसबुक | आर्काइव लिंक

ट्वीटर पर भी सोशल मंच यूज़र ने उपरोक्त वीडियो से मिलता जुलता वीडियो पोस्ट किया है और इस पोस्ट में यही मैसेज अंग्रेज़ी में लिखा है।

आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

जाँच करने पर हमें ऐसा भी एक ट्वीट नज़र आया जिसमें सिर्फ वाईरल हो रहा मैसेज सूचना के तौर पर लिखा हुआ है।

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलाता है कि…

हमने कीवर्ड सर्च व इन्वीड टूल के जरिये इस खबर के बारे में जाँच की तो परिणाम में हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली। तद्पश्चात हमने कीवर्ड सर्च के जरिये मनोरी के आस-पास पुलिस थानों के बारे में जाँच की और हमे पता चला की मनोरी गाँव मुंबई के क्षेत्र 11 के गोराई पुलिस थाने के अंतर्गत आता है।

हमने गोराई पुलिस थाने के सीनीर पी. आई संजीव नारकर से संपर्क किया। पी. आई नारकर ने यह स्पष्ट किया कि, 

“ऐसी दो- तीन वीडियो क्लिप वाईरल हो रहीं हैं- एक मिरा रोड़- भाईंदर का बताया जा रहा है और दूसरा मनोरी से, वीडियो क्लिप तो ठीक है पर उसके साथ जो कैपशन (मैसेज/दावा) है वो गलत है और पूरी तरह से फेक है, वीडियो में ना तो कोई शव है और ना ही हमारे अधिकार- क्षेत्र में मृत शव के अंग गायब होने की कोई ऐसी ख़बर है, मामला इतना ही है कि, इन लोगों को क्वारंटाइन केंद्र ले जाया जा रहा था और इसका ये लोग विरोध कर रहे थे, सोशल मंचों पर गलत दावे के साथ चल रहे पोस्टों को हमने हमारे साइबर क्राईम विभाग को भेजा है, जो जाँच पड़ताल कर फेक फ़ैलाने वालों के खिलाफ कार्यवाही कर सकेंगे, यह भी ज्ञात रहे कि मनोरी में कोरोना की वजह से अभी तक कोई मृत्यु नहीं हुई है।“  

हमने मुंबई के क्षेत्र 11 के डीसीपी विशाल ठाकुर से भी इस विषय में बात की, उनका कहना है कि यह वीडियो काफी पुराना है और यह सच है कि यह वीडियो मनोरी गाँव का है पर उसके साथ वाईरल हो रहा मैसेज गलत है। उन्होंने कहा,“यह वीडियो 10 -15 दिन पुराना है और मैसेज में दी गयी ऐसी कोई घटना नहीं हुई है। लोग ईक्ट्ठा हुए थे यह सही बात है लेकिन वहाँ के लोगों को क्वारंटाइन केंद्र में ले जाया जा रहा था इसलिए लोगों ने भीड़ मचा दी थी। मृत शव या फिर शव के अंग के संदर्भ में मैसेज में जो लिखा है वो फेक न्यूज़ है। यह घटना कब की है इसकी मुझे जाँच करनी पड़ेगी।“ 

मनोरी गाँव से जुड़े कुछ प्रशासनिक लोगों से हमने कोरोना से संक्रमित मरीज़ और कोरोना से मृत लोगों की संख्या जानने के लिए बात की तो उन्होंने बताया की कोरोनावायरस से 3 या 4 लोग ही संक्रमित है और इस संक्रमण से एक भी व्यक्ति की मृत्यू नहीं हुई है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त मैसेज को गलत पाया है। वाईरल हो रहा वीडियो भले ही मनोरी का है पर वीडियो के साथ किये गए दावे गलत हैं।

Avatar

Title:कोरोना से मृत व्यक्ति के शव के अंगों के गायब होने का दावा गलत है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply