क्या किसान नेता ने रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ सेल्फी ली? जानिये सच…

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वर्तमान में दिल्ली के सिंघू बोर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन के चलते किसान नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों के बीच लगातार बैठक होती चली आ रही है। हाल ही में 30 दिसंबर को किसानों और सरकार के बीच 7वें दौर की बैठक हुई, उसी दौरान केंद्रीय मंत्रियों ने किसानों के लंगर का खाना खाया। इसके चलते सोशल मंचों पर एक तस्वीर काफी साझा की जा रही है, उस तस्वीर में आपको कई लोग नज़र आएंगे, आपको उस तस्वीर में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के साथ एक सिख व्यक्ति सेल्फी लेते हुये दिखेगा। इस तस्वीर के साथ जो दावा वायरल हो रहा है उसके मुताबिक सेल्फी ले रहा शख्स किसान नेता है।

वायरल हो रहे पोस्ट के शीर्षक में लिखा है, 

“किसान नेता रेल मंत्री पीयूष गोयल जी के साथ सेल्फी लेते हुए।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Sikh man taking selfie with Piyush goyal falsely said as Kisan Neta.png

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही तस्वीर किसी किसान नेता की नहीं है, तस्वीर में दिख रहा शख्स दिल्ली बोर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में ट्रांसपोर्ट की सेवा प्रदान कर रहा है।  

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रही तस्वीर को गूगल रीवर्स इमेज सर्च कर की, परिणाम में हमें एक ट्वीट मिला जिसमें यही तस्वीर प्रकाशित की गयी थी। यह ट्वीट इस 30 दिसंबर 2020 को विकास भदुरिया नामक एक पत्रकार ने की है। ट्वीट के शीर्षक में लिखा है, 

लोकतंत्र को मज़बूत करती तस्वीर- जब केंद्र सरकार के मंत्री किसानों के साथ उनका लाया खाना खा रहे थे तब किसान नेता रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ सेल्फी ले रहे थे।“

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने इस ट्वीट के नीचे दिये गये कमेंट अनुभाग को खंगाला तो हमें विकास भदुरिया का जवाब के रूप में एक ट्वीट मिला जहाँ उन्होंने लिखा है,

सुधार- अभी जानकारी दी गयी है कि ये शख़्स बलवंत सिंह भुल्लर हैं और किसान नेताओ की ट्रांसपोर्ट सेवा से जुड़े हैं 

इस ट्वीट में वायरल हो रहे तस्वीर में दिख रहे शख्स का एक वीडियो भी प्रसारित किया गया है, जिसमें उन्होंने उनका परिचय दिया व कहा कि, 

“किसानों के भोजन के लिए लंगर आया हुआ था और सहायक उसे विज्ञान भवन में ले जा रहे थे तो उनके साथ मैं भी चला गया और पीयूष गोयल जी के साथ मैंने सेल्फी ली, सेल्फी लेने का मतलब यह था कि उन्होंने आज किसानों का लंगर चखा है, लंगर हाथ में पकड़ा हुआ है औऱ ना की फ्रेंडली तरीके से। सेल्फी लेने का मतलब यही था कि आज केंद्रीय मंत्रियों ने हमारा लंगर चखा है और हमने इनका खाना नहीं खाया है। मैं किसान नेता नहीं हूँ, मैं यहाँ उनके साथ आया हूँ।

 आर्काइव लिंक

इसके पश्चात अधिक जाँच करने पर हमें किसान आंदोलन के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल किसान एकता मोर्चा द्वारा किया गया ट्वीट मिला। ट्वीट में बलवंत सिंह भुल्लर का एक वीडियो प्रसारित किया गया है। ट्वीट के शीर्षक में लिखा है, 

आप की जानकारी के लिए यह सिंह साहब किसान नेता नहीं हैं यह तो सिर्फ ट्रांसपोर्ट की सेवा निभा रहे हैं  और आज लंगर की सेवा के लिए आए थे।“ 

इस वीडियो में भी बलवंत सिंह भुल्लर इस बात का स्पष्टीकरण दे रहे है कि वे किसान नेता नहीं है।

आर्काइव लिंक

जाँच के दौरान हमें एक फेसबुक पोस्ट भी मिला जहाँ उपरोक्त वायरल तस्वीर की सच्चाई बतायी गयी है।

C:\Users\Lenovo\Desktop\FC\Sikh man taking selfie with Piyush goyal falsely said as Kisan Neta2.png

फेसबुक | आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया है कि उपरोक्त दावा में कही जा रही बात गलत है, वायरल हो रही तस्वीर किसी किसान नेता की नहीं है, तस्वीर में दिख रहा शख्स दिल्ली बोर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन में ट्रांस्पोर्ट की सेवा प्रदान कर रहें है।  

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. भाजपा विधायक अनिल उपाध्याय एक काल्पनिक चरित्र हैं और इनका कोई वास्तविक अस्तित्व नहीं है!

२. वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा के वीडियो को कैप्टेन दीपक वी साठे का बता फैलाया जा रहा है |

३. क्या अमिताभ बच्चन कोरोनावायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद दरगाह गये थे ? जानिये सत्य..

Avatar

Title:क्या किसान नेता ने रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ सेल्फी ली? जानिये सच…

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •