भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नाम के फर्ज़ी ट्वीटर हैंडल से किसानों के खिलाफ किया गया ट्वीट गलत व भ्रामक है।

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंटरनेट पर अकसर नामचीन हस्तियों को लेकर गलत व भ्रामक खबरें वायरल होती रहतीं है, ऐसी ही कुछ खबरें भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश व वर्तमान में भा.ज.पा के राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई के बारे में पूर्व से ही वायरल होतीं चली आ रहीं है। इन दिनों किसान आंदोलन के जोड़ एक बार फिर से रंजन गोगोई को लेकर एक खबर वायरल हो रही है। वायरल हो रहे पोस्ट में आप एक ट्वीट की तस्वीर देख सकते है, और दावा किया जा रहा है कि वह ट्वीट रंजन गोगोई ने किया है। आपको उस तस्वीर में रंजन गोगोई का नाम व उनकी तस्वीर भी दिखायी देगी।

वायरल हो रहे ट्वीट की तस्वीर में लिखा है,

हल छोड़कर ट्रैक्टर, बोलेरो, फॉर्च्यूनर, एयरकंडीशंड ट्रक से दिल्ली पहुँचकर काजू किशमिश बिरयानी तंदूरी चर रहे हैं। फूटमसाज से लेकर नए गद्दे तकिए कम्बल का आनंद ले रहे हैं। इन गरीब किसानों को बिल से नहीं, मोदी से परेशानी है। लेकिन मोदी सरकार के दिए किसान सम्मान निधि से परेशानी नहीं।“ 

इस पोस्ट के शीर्षक में लिखा है,

भूतपूर्व जस्टिस रंजन गगोई का अन्नदाताओ के खिलाफ ये बयान शर्मनाक है।“

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही खबर सरासर गलत व भ्रामक है। तस्वीर में दिख रहा ट्वीटर हैंडल फर्ज़ी है। पूर्व न्यायाधीश व वर्तमान में भा.ज.पा के राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई का कोई ट्वीटर हैंडल नहीं है। 

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रही तस्वीर में दी गयी खबर को गूगल पर कीवर्ड सर्च के ज़रिये की परंतु हमें ऐसा कोई समाचार लेख नहीं मिला जो इस बात की पुष्टि करता हो की यह खबर सच है। इसके पश्चात हमने वायरल हो रही इस तस्वीर को गौर से देखा तो हमें तस्वीर में दिख रहे ट्वीट के ट्वीटर हैंडल का नाम दिखा, जो कि @THEGOGOI है। 

इसके पश्चात हमने इस ट्वीटर हैंडल की शोध ट्वीटर पर कीवर्ड सर्च के माध्यम से की तो हमें उपरोक्त दिये गये नाम का ट्वीटर हैंडल मिला। तत्पश्चात उस ट्वीटर हैंडल के बायो को हमने गौर से देखा तो वहाँ पैरोडी (PERODY) और फैन पेज लिखा था। पैरोडी खाता माने फर्ज़ी खाता या फिर ऐसा खाता जो किसी शख्स का फैन चला रहा हो। 

तदनंतर हमने यह भी देखा कि इस ट्वीटर हैंडल पर रंजन गोगोई के नाम के आगे ब्लू टिक नहीं है। आपको बता दें कि जिस किसी के भी ट्वीटर हैंडल के नाम के आगे ब्लू टिक होता है, तो वह उसका आधिकारिक हैंडल माना जाता है।

उपरोक्त जानकारी से हम यह कह सकते है कि वायरल हो रही तस्वीर में दिख रहा ट्वीटर हैंडल रंजन गोगोई के आधिकारिक हैंडल की नहीं है।

आर्काइव लिंक

इसके बाद हमने इस ट्वीटर हैंडल में वायरल हो रहे ट्वीट की शोध की, परिणाम में हमें यह ट्वीट इस वर्ष 7 जनवरी को किया गया मिला।

आर्काइव लिंक

उपरोक्त वक्तव्य व ट्विटर हैंडल के बारे में अधिक जानने के लिए हमने रंजन गोगोई जी से संपर्क किया, उन्होंने हमें बताया कि वायरल हो रही तस्वीर में दिख रहा ट्वीटर हैंडल फेक है। उन्होंने कहा, “मेरा कोई ट्वीटर हैंडल नहीं है, मैं ट्वीट नहीं करता हूँ। आज तक मैंने लगभग 20 ऐसे फेक ट्वीटर हैंडल की शिकायत डी.सी.पी आई.टी दिल्ली पुलिस से की है। आप इस बात की पुष्टि जॉइन्ट कमिश्नर ऑफ पुलिस से कर सकते है। मैंने वायरल हो रहे इस ट्वीट के ट्वीटर हैंडल की भी शिकायत दर्ज करायी है।“

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया है कि उपरोक्त दावा गलत व भ्रामक है। तस्वीर में दिख रहा ट्वीटर हैंडल फर्ज़ी है। पूर्व न्यायाधीश व वर्तमान में भा.ज.पा के राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई का कोई ट्वीटर हैंडल नहीं है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. भाजपा विधायक अनिल उपाध्याय एक काल्पनिक चरित्र हैं और इनका कोई वास्तविक अस्तित्व नहीं है!

२. वाइस एडमिरल गिरीश लूथरा के वीडियो को कैप्टेन दीपक वी साठे का बता फैलाया जा रहा है |

३. क्या अमिताभ बच्चन कोरोनावायरस संक्रमण से मुक्त होने के बाद दरगाह गये थे ? जानिये सत्य..

Avatar

Title:भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के नाम के फर्ज़ी ट्वीटर हैंडल से किसानों के खिलाफ किया गया ट्वीट गलत व भ्रामक है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply