राहुल गांधी के सम्बन्ध में ABP न्यूज़ का न्यूज़ कार्ड फर्ज़ी है।

False Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इन दिनों सोशल मंचों पर ए.बी.पी न्यूज़ के एक ग्राफिक कार्ड काफी वायरल हो रहा है। उस पर लिखा है कि “पाकिस्तान की मदद करना जरूरी है और हम यह जरूर करेंगे- राहुल गांधी।” वायरल हो रहे पोस्ट का दावा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ये बयान पाकिस्तान की मदद करने के सन्दर्भ में दिया है।

इस पोस्ट के शीर्षक में लिखा है, 

कांग्रेस के ताबूत पर आखिरी कील भी मार दी” 

फेसबुक | आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि वायरल हो रही न्यूज़ कार्ड फर्ज़ी है। ए.बी.पी न्यूज़ द्वारा ऐसी कोई खबर प्रसारित नहीं की गयी है।

जाँच की शुरुवात हमने वायरल हो रहे दावे को गूगल पर कीवर्ड सर्च कर की, हमने ये जानने की कोशिश की कि क्या सच में राहुल गांधी ने पाकिस्तान को मदद करने की बात कही थीं। परंतु हमें ऐसा कोई भी विश्वसनीय ख़बर इस सन्दर्भ में नहीं मिली इस बात की पुष्टि कर सकती हो कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष द्वारा ऐसा कोई बयान दिया गया हो ।

इसके बाद हमने वायरल हो रही ग्राफिक प्लेट को ध्यान से देखा तो पाया कि, इस प्लेट में ए.बी.पी न्यूज़ चैनल का चिन्ह पुराना है व वर्तमान में उनका चिन्ह ऐसा नहीं दिखता है। ए.बी.पी न्यूज़ के नये चिन्ह को व प्रारूप को आप नीचे दी गयी तस्वीरों में देख सकते है।

इससे यह समझा जा सकता है कि यह ग्राफिक प्लेट वर्तमान का नहीं है।

तदनंतर हमने गूगल पर इस सन्दर्भ में और अधिक कीवर्ड सर्च किया, परिणाम में हमें ए.बी.पी न्यूज़ के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल 12 नवंबर 2018 को किया हुआ एक ट्वीट मिला जिसमें उन्होंने वायरल हो रही ग्राफिक प्लेट जैसी ही चार ग्राफिक प्लेटों की तस्वीर प्रकाशित की व यह स्पष्ट किया कि वायरल हो रहे टेम्प्लेट ए.बी.पी न्यूज़ द्वारा प्रसारित नहीं किये गये है व उन्हें डिजिटली एडिट कर वायरल किया जा रहा है।

उन्होंने लिखा, “#अत्यावश्यक: यह सूचित किया जाता है कि इस ट्वीट के साथ संग्लित मीडिया जिसे ऑनलाइन प्रसारित किया जा रहा है वह हमारे चैनल के टेम्प्लेट के साथ छेड़छाड़ कर बनाया गया है । श्री राहुल गांधी के बयान, जो इन छवियों में हैं, एबीपी द्वारा रिपोर्ट नहीं किए गए हैं और एबीपी न्यूज नेटवर्क से इनका कोई संबंध नहीं है।“

आर्काइव लिंक

तत्पश्चात हमने वायरल हो रही ग्राफिक प्लेट व उपरोक्त ट्वीट में प्रकाशित की हुई ग्राफिक प्लेट को गौर से देखा तो पाया कि दोनों ही बिलकुल एक जैसी है व उन दोनों में अलग-अलग वाक्य लिखे हुये है। नीचे दिये गये तुलनात्मक विश्लेषण में आप दोनों ग्राफिक प्लेटों में समानता देख सकते है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रही ए.बी.पी न्यूज़ चैनल की ग्राफिक प्लेट फर्ज़ी है। ए.बी.पी द्वारा ऐसी कोई खबर प्रसारित नहीं की गयी है।

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. 500 रुपये के नोट पर लगी हरी पट्टी की जगह को लेकर हो रहे दावे गलत व भ्रामक हैं।

२. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना की तीसरी लहर के चलते संपूर्ण देश में लॉकडाउन की घोषणा की खबर फर्जी है|

३. ई-कॉमर्स वेबसाइट ‘EBAY’ पर बेचे जा रहे ओलंपिक ‘वॉलंटियर पिन’ को भ्रामक दावे के साथ साझा किया जा रहा है|

Avatar

Title:राहुल गांधी के सम्बन्ध में ABP न्यूज़ का न्यूज़ कार्ड फर्ज़ी है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply