पाकिस्तान की तस्वीर को उत्तर प्रदेश पुलिस का अत्याचार बता फैलाया जा रहा है |

False National
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वाईरल तस्वीर को उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा एक बच्चे पे की गई बर्बरता बताते हुये ये कहा जा रहा है कि सी.ए.ए के खिलाफ प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई के दौरान उत्तर प्रदेश (यूपी) पुलिस द्वारा इस बच्चे को पीटा गया, तस्वीर में इस बच्चे को पकड़े एक मुस्लिम महिला की तस्वीर दिखाई गई है|

फैक्ट क्रेस्सन्डो ने इस तस्वीर की पड़ताल करने पर पाया कि इस तस्वीर का उत्तर प्रदेश व सी.ए.ए से कोई संबंध नही है | यह तस्वीर मूल तौर से पाकिस्तान से है जहां इस बच्ची को कुत्ते ने काटकर घायल किया था |  

पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “#एनआरसी#एनपीआर#सीएए। बच्चे को तक नहीं छोड़ी यूपी पुलिस की गुंडागर्दी, हैवानियत की मिसाल योगी सरकार |”

फेसबुक पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि..

जाँच की शुरुवात में हमने इस तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया, जिसके परिणाम में हमें Paktv की एक खबर मिली | १२ नवंबर, २०१९ की खबर के अनुसार Paktv की ये रिपोर्ट पाकिस्तान के खानपुर शहर में कुत्ते के खतरे के बारे में बात करती है और कुत्तों के काटे हुये पीड़ितों को किस प्रकार से कोई चिकित्सा सुविधा या व्यवस्था नहीं मुहैया की जा रही है | रिपोर्ट में वही तस्वीर है जो अब यू.पी पुलिस की बर्बरता के नाम से सोशल मीडिया पर फैलाया जा रही है | खबर के अनुसार तस्वीर में दिख रही बच्ची को कुत्ते ने काटा था | 

आर्काइव लिंक

उपरोक्त खबर से प्राप्त जानकारी से संबंधित कीवर्ड्स के साथ गूगल सर्च करने पर हमें पाकिस्तानी वेबसाइट बोल न्यूज़ द्वारा प्राकशित खबर मिली, ११ नवंबर २०१९ की खबर के अनुसार ओकरा गांव के पास चक नं 2 1L में एक नाबालिग बच्ची को एक आवारा कुत्ते ने काट लिया और बुरी तरह घायल कर दिया | खबर के शीर्षक में लिखा गया है की “ओकरा में आवारा कुत्तों ने बच्ची पर हमला किया |” इस खबर में हमें वायरल तस्वीर का एक दूसरा एंगल देखने को मिला | रिपोर्ट में आलिया दत्ता के रूप में लड़की के नाम का उल्लेख किया है | इस बच्ची के पिता ने बोल न्यूज़ से बात करते हुए कहाँ कि जब लड़की को चिकित्सा सहायता के लिए स्थानीय अस्पताल ले जाया गया था, तब वहाँकोई व्यवस्था या कुत्ते के काटने से सम्बंधित टीका उपलब्ध नहीं था |

आर्काइव लिंक

तस्वीर के बैकग्राउंड में उर्दू भाषा में पोस्टर देखा जा सकता जो कि सम्बंधित समाचार रिपोर्ट में भी है | 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | यह तस्वीर सी.ए.ए के विरोध प्रदर्शन के दौरान यूपी पुलिस द्वारा बच्चे को घायल करने की नही है | बल्कि यह तस्वीर पाकिस्तान से है, और इस बच्ची को ओकरा क्षेत्र में कुत्ते के काटा था जिसके कारण वो घायल हुई |

Avatar

Title:पाकिस्तान की तस्वीर को उत्तर प्रदेश पुलिस का अत्याचार बता फैलाया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •