क्या जेल से छूटने के बाद आज़म खान ने बोला कि राम और कृष्ण उनके आदर्श है?

Missing Context Political

इस वीडियो को गलत संदर्भ के साथ वायरल किया जा रहा है। यह वीडियो अभी का नहीं, बल्की पाँच साल पुराना है।

27 महीनों से उत्तर प्रदेश के सीतापुर जेल में बंद समाजवादी पार्टी के नेता आज़म खान 20 मई को जेल से रिहा हुये। इस संदर्भ में उनका एक वीडियो वायरल हो रहा है। उसमें आप उन्हें कहते हुये सुन सकते है कि “योगी जी मुगल हमारे आदर्श नहीं है, हमारे आदर्श राम है, कृष्ण जी भी है।“ दावा किया जा रहा है कि यह बयान उन्होंने हाल ही में जेल से छूटने के बाद दिया है।

वायरल हो रहे पोस्ट में लिखा है, “इसे कहते हैं योगी जी का खौफ।” “27 महीने जेल काटने के बाद।”

फेसबुक

आर्काइव लिंक


Read Also: खरगोन में हुई पत्थरबाजी के वीडियो को उत्तर प्रदेश का बता वायरल किया जा रहा है।


अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिये हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च कर इसके मूल वीडियो की खोज की। हमें 7 अक्टूबर 2017 को इसका मूल वीडियो समाजवाजी पार्टी के वैरिफाइड चैनल पर प्रसारित किया हुआ मिला। इसके साथ दी गयी जानकारी में बताया गया है कि यह वीडियो 2017 में आगरा में हुये समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन का है।

आर्काइव लिंक

चूंकि यह वीडियो वर्ष 2017 में प्रसारित किया गया था, हमें समझ आया कि यह उनकी गिरफ्तारी या वर्तमान में हुई रिहाई से कोई संबन्ध नहीं है।

इस वीडियो को देखने पर हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो को क्लिप कर साझा किया गया है। इसमें आज़म खान के इस बयान का असल संदर्भ क्या है, यह नहीं बताया गया है। इस वीडियो में आप 13.16 मिनट से लेकर आगे तक उनका पूरा बयान सुन सकते है। 

वे कह रहे है कि कुरान व पैगम्बर ने कहा है कि किसी के मज़हबी पेशवा या किसी भी धर्म के महापुरुषों का अपमान मत करो। क्योंकि अल्लाह ने 1,20,000 पैगम्बर ज़मीन पर भेजे थे। और दुनिया में जितने भी महापुरुष थे, हो सकता है वो उनके ज़माने के पैगम्बर रहे हो, अल्लाह के दूत रहे हो। फिर उन्होंने कहा कि मुगल उनके आदर्श नहीं है, बल्की राम और कृष्ण उनके आदर्श है। 

आप देख सकते है कि मूल वीडियो को क्लिप कर आज़म खान के अधूरे बयान को वायरल किया जा रहा है। आप नीचे दिये गये तुलनात्मक वीडियो में मूल वीडियो और वायरल वीडियो में अंतर देख सकते है। 

आपको बता दें कि 26 जनवरी 2020 को आज़म खान उनके बेटे और पत्नी के साथ उनके बेटे के फर्ज़ी जन्म प्रमाण पत्र बनाने के लिये सितापुर जेल भेजा गया था। 19 मई 2022 को सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें अंतरिम जमानत दी। यह जमानत तब तक है जब तक उनकी नियमित जमानत याचिका पर फैसला नहीं होता।


Read Also: क्या मेजर जनरल जी. डी. बक्शी ने ट्वीट किया कि नूपुर शर्मा को 34 देश समर्थन कर रह है?


निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ किया गया दावा गलत है। इस वीडियो को गलत संदर्भ के साथ शेयर किया है। यह वीडियो अभी का नहीं, बल्की पुराना है। 

Avatar

Title:क्या जेल से छूटने के बाद आज़म खान ने बोला कि राम और कृष्ण उनके आदर्श है?

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: Missing Context

Leave a Reply