क्या राहुल गांधी इटली की इन इमारतों के मालिक हैं?

False International Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२९ अप्रैल २०१९ को हमारे फैक्ट क्रेसेन्डो के वाट्सऐप नंबर- 9049053770 पर एक मैसेज हमारे पाठक द्वारा सत्यता जांचने के लिए भेजा गया | मैसेज में लिखा गया है कि कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने इटली में संपत्ति खरीदी है | जब हमने उपरोक्त मैसेज अन्य सोशल मीडिया ऐप्स पर ढूंढा तो यह ज्ञात हुआ कि यह पोस्ट वाकई काफ़ी चर्चा में है |

२७ अप्रैल २०१९ को मेरा भारत माहान नामक एक फेसबुक पेज ने एक विडियो पोस्ट की | विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “इटली से आयी पप्पु की सच्चाई देखो ओर दूसरो को भी दिखाओ” विडियो में हम एक आदमी को गुजराती भाषा में बात करते हुए सुन व देख सकते है | विडियो में दिखाया जा रहा है कि एक आदमी शानदार यूरोपीय वास्तुकला की ओर इशारा करता है और दावा करता है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी इस भव्य संपत्ति के मालिक हैं | वह गुजराती में कहता है कि “उन्होंने भारत को लूट लिया है और इन इमारतों को इटली में खरीदा है” | एक मिनट की विडियो में राहुल गांधी के खिलाफ लोगों को सावधान करते हुए दिखाया गया है | और यह भी कहा गया है कि उन्होंने भारत के पैसे से इटली में तीन इमारतें खरीदी हैं और उन्हें भारी किराए पर दे रखा है | यह विडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हो रहा है | फैक्ट चेक किये जाने तक इस पोस्ट को १ लाख ९९ हज़ार से ज्यादा व्यूज मिल चुकी थी व १४८०० बार से ज्यादा शेयर किया गया था |

आर्काइव लिंक

विडियो में गुजराती में कहे गए वाक्य का अनुवाद “राजीव गांधी के बेटे, पप्पू, यह उनकी इमारत है | उन्होंने पूरे देश को लूटने के बाद इस इमारत को खरीदा है | मैं इटली में हूं और यह राजीव और सोनिया गांधी की इमारत है | इन तीनों इमारतों के माध्यम से भारत में बैठकर पप्पू पैसा कमाता है | उनका व्यवसाय इन संपत्तियों को किराए पर देना है | उसने भारत को लूटा है | पप्पू को खत्म करो और उसे भारत से बाहर निकाल दो | जय श्री कृष्ण मैं इटली में हूं | ”

यह विडियो हमें ट्विटरयूट्यूब पर भी मिली | फेसबुक पर यह वीडियो हिंदी और अंग्रेजी दोनों में काफ़ी वायरल है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक

अगर राहुल गांधी के पास इटली में ऐसी असाधारण संपत्ति होती, तो यह खबर भारत में निश्चित तौर पर सुर्खियां बटोरती | लेकिन किसी को इस बात की भनक तक नहीं लगना संदेह पैदा करता है | इसीलिए हमने इस विडियो की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि…

जांच की शुरुआत हमने इस विडियो को यू-ट्यूब में ढूँढने से की | कीवर्ड्स के माध्यम से हमें २७ अप्रैल २०१९ को रंगा प्रॉपर्टीज नामक यूजर अपलोड किया गया विडियो मिला | इस विडियो को हमने watch frame by frame पर देखा और इन इमारतों को ढूँढने की कोशिश की | विडियो को १५ सेकंड पर ब्रेक करके उसका स्क्रीनशॉट लेकर हमने गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया | परिणाम से हमें पता चला कि यह ईमारत इटली के ट्यूरिन में पियाजा कैस्टेलो नामक एक जगह है |

वीडियो में दिखाई गई इमारतें ट्यूरिन, इटली में एक शहर का एरिया – पियाज़ा कैस्टेलो – का एक हिस्सा हैं | इस चौकोर आकार के ऐतिहासिक स्थल में संग्रहालय, थिएटर और महल हैं, जिनमें १६ वीं शताब्दी में निर्मित रॉयल पैलेस ऑफ ट्यूरिन भी शामिल है | कई वास्तुकला परिसर यूनेस्को द्वारा संरक्षित विश्व विरासत स्थल हैं |

हमने पियाज़ा कैस्टेलो को गूगल मैप्स पर स्ट्रीट व्यू का इस्तेमाल करके देखा |

नीचे दिए गए कोलाज में पियाजा कैस्टेलो में रॉयल पैलेस के गूगल स्ट्रीट व्यू को दिखाया गया है, जिसे महल के एक स्क्रीनशॉट के साथ जोड़ा गया है जैसा की वायरल वीडियो में देखा गया है | हमने हर एंगल से वायरल विडियो के साथ स्ट्रीट व्यू के तस्वीरों की तुलना किया है |

दुसरे एंगल से की गई तुलना आप नीचे देख सकते है |

ट्रिप एडवाइजर के वेबसाइट पर भी हमें यह तस्वीरें मिली | इस जगह का नाम पियाजा कैस्टेलो, ट्यूरिन, इटली लिखा गया है | विवरण में यह भी उल्लेख किया गया है कि यह १५६४ में विटजोज़ी द्वारा डिज़ाइन किया गया था |

आर्काइव लिंक

विकिपीडिया के अनुसार रॉयल पैलेस ऑफ ट्यूरिन उत्तरी इटली के ट्यूरिन शहर में हाउस ऑफ सेवॉय का एक ऐतिहासिक महल है | १९४६ मेंयह इमारत राज्य की संपत्ति बन गई और इसे संग्रहालय में बदल दिया गया | कहीं पर भी इस बात का उल्लेख नहीं किया गया है कि यह राहुल गांधी ने खरीदी है | १९९७ में, इसे यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में शामिल किया गया जिसके साथ-साथ हाउस ऑफ सेवॉय के १३ अन्य आवासों को भी विश्व धरोहर स्थल सूची में शामिल किया गया |

इस बात की पुष्टि यूनेस्को के अधिकारिक वेबसाइट ने भी की है | रॉयल हाउस ऑफ सेवॉय के निवास विश्व धरोहर स्थल सूची में देखा जा सकता हैं | इटली के पियाजा कैस्टेलो के स्थित रॉयल पैलेस ऑफ़ ट्यूरिन की तस्वीरें भी इस सूचि के गैलरी में देखी जा सकती है |

आर्काइव लिंक | आर्काइव लिंक  

पियाज़ा कैस्टेलो के यू-ट्यूब पर भी बहुत से वीडियो उपलब्ध हैं, जहाँ समान वास्तुकला परिसर दिखाई देते हैं | यह विडियो ३ अगस्त २०१७ को अपलोड किया गया था |

इसके साथ हमें पियाज़ा कैस्टेलो में स्थित रॉयल पैलेस का विडियो यू-ट्यूब पर मिला |

निष्कर्ष: तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट के माध्यम से किये गए दावों को गलत पाया | विडियो में दिखाई गई बिल्डिंग ट्यूरिन, इटली में एक शहर में स्थित पियाज़ा कैस्टेलो का एक हिस्सा हैं जिसके साथ रॉयल पैलेस ऑफ़ ट्यूरिन को भी देखा जा सकता है | यह इमारतें राज्य की संपत्ति बन चुकी है | राहुल गांधी इन इमारतों के मालिक नहीं है |

Avatar

Title:क्या राहुल गांधी इटली की इन इमारतों के मालिक हैं?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “क्या राहुल गांधी इटली की इन इमारतों के मालिक हैं?

Leave a Reply