बंगाल में १२५ आर.एस.एस संचालित स्कूलों को प्रतिबंध करने की यह खबर तीन साल पुरानी है |

Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पश्चिम बंगाल में टी.एम.सी के चुनाव जीतने के पश्चात से ही सोशल मीडिया पर उनके सन्दर्भ में कई पोस्ट, वीडियो और फोटो वायरल होते दिख रहें हैं जिनमें सत्तारूढ़ टी.एम.सी व ममता बनर्जी को निशाने पर रखकर सोशल मीडिया पर भ्रामकता फैलाई जा रही है | पश्चिम बंगाल में चुनावों के परिणाम घोषित होने के तुरंत बाद से ही राज्य में कुछ हिंसा के मामले सामने आये हैं जिसके चलते कम से कम १४ लोगों की मौत हो गई थी । 

इसी बीच भाजपा समर्थक संजय दीक्षित ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया जिसमे रिपब्लिक टीवी द्वारा प्रसारित एक स्क्रीनशॉट संग्लित किया है जिसमे लिखा गया है कि पश्चिम बंगाल में १२५  आरएसएस स्कूलों को बंद किया गया है |

इस ट्वीट के शीर्षक में लिखा गया है कि 

“मुझे इसी वजह से दीदी इतना पसंद है | बधाई संदेश के बदले में एक थप्पड़ मिला कि पश्चिम बंगाल में 125 आरएसएस स्कूलों पर प्रतिबंध किया गया है | कायर इसीके लायक हैं | लाचार केंद्र, मदमस्त बानो, कौन बलशाली, आप ही जानो!”

आर्काइव लिंक

इस पोस्ट के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि “पश्चिम बंगाल में १२५ आर.एस.एस संबंधित स्कूल को प्रतिबंध किया गया है |”

यूपी के भाजपा विधायक डॉक्टर सरोजिनी अगरवाल ने भी इस दावे को अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट द्वारा पोस्ट किया है | उनके ट्वीट में लिखा गया है कि “बंगाल में सत्ता में मदमस्त ममता बनर्जी ने RSS के 125 स्कूलों पर लगाया बैन! … इसे आप क्या कहेंगे?”

आर्काइव लिंक

इस दावे को कई ट्विटर और फेसबुक यूजर द्वारा साझा किया गया है | पोस्ट के शीर्षक में लिखा गया है कि “बंगाल में ममता बनर्जी ने RSS के 125 स्कूलों पर लगाया बैन..दिल से शुक्रिया ममता दीदी |”

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

Also Read- 2018 Video From Venezuela Is Falsely Linked With The Post-Poll Situation In West Bengal

अनुसंधान से पता चलता है कि…

जाँच की शुरुवात हमने गूगल पर वायरल हो रहे दावे से संबंधित कीवर्ड को सर्च कर इससे सम्बंधित न्यूज़ रिपोर्ट ढूँढने से की जिसके परिणाम से हमें यूट्यूब पर २२ फरवरी २०१८ को प्रसारित खबर मिली | इस खबर के शीर्षक में लिखा गया है कि “पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी आरएसएस स्कूल |”

इस खबर को देखकर हम ये अंदाजा लगा सकतें हैं कि वायरल हो रहा दावा तीन साल पुराना है और ये वर्तमान में ममता द्वारा चुनाव जीतने के बाद लिया गया फैसला नहीं है |

इसके अलावा हमें २१ फरवरी २०१८ को फर्स्ट पोस्ट द्वारा प्रकाशित एक खबर मिली जिसके अनुसार पश्चिम बंगाल के शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि राज्य सरकार ने कथित तौर पर आरएसएस से सम्बंधित १२५ स्कूलों को “बंद” कर दिया है, जो बिना किसी अनापत्ति प्रमाणपत्र (एनओसी) के काम कर रहे हैं | उन्होंने कहा कि उनमें से कुछ पाठ्यक्रम के अनुसार नहीं थे | पार्थ चटर्जी ने कहा, “हम दूसरे स्कूलों की भी जांच कर रहे हैं | तभी हम कोई फैसला लेंगे |”

आर्काइव लिंक 

Also Read- An Old Video Of A Murder In Brazil Is Falsely Shared As BJP Worker Uttam Ghosh’s Murder In West Bengal

नीचे आप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही स्क्रीन्ग्राब और २०१८ में प्रसारित रिपब्लिक टीवी के स्क्रीन्ग्राब की तुलनात्मक तस्वीर देख सकते है जिससे यह स्पष्ट होता है कि वायरल हो रही खबर पुरानी है|

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को सन्दर्भ से बहार फैलाते हुए पाया है | सोशल मीडिया वायरल हो रही स्क्रीन्ग्राब वर्तमान का नही है | १२५ आर.एस.एस से संबंधित स्कूल को बंगाल में प्रतिबंध करने की खबर तीन साल पुरानी है |

Avatar

Title:बंगाल में १२५ आर.एस.एस संचालित स्कूलों को प्रतिबंध करने की यह खबर तीन साल पुरानी है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: Missing Context


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply