वीडियो गेम के कैरेक्टर को चीन में बनी पहली कृत्रिम इन्सान के रूप में वायरल किया जा रहा है

False International

एक वीडियो जरिए दावा किया जा रहा है कि चीन ने पहली कृत्रिम महिला बनाई है। इस वीडियो को शेयर करते हुए यूजर्स लिख रहे हैं कि यह पहली “कृत्रिम इंसान” हैं जो बिना आत्मा के होते हुए भी किसी अन्य सामान्य इंसान की तरह बात करती हैं ।

यूजर्स ने वायरल वीडियो हमें व्हाट्सएप नंबर 9049053770 पर शेयर कर वीडियो की सच्चाई के बारे में पूछा।

वायरल वीडियो के साथ लिखा गया है- कृत्रिम महिला (artificial woman ) सिर्फ 72 घंटा बिजली से चार्ज करना है ! चीन में बनी आर्टिफिशियल वुमन कों चीनी बाज़ार में लांच किया गया ! शरीर का मांस 100% फैट मांस समिग्री सिलिकॉन स्पेयर पार्ट्स से बना है। एक बार चार्ज करने से यह 72 hrs बिना किसी रुकावट के काम कर सकती है।कोई आत्मा नहीं / आत्मा लापता है ।

फेसबुकआर्काइव

वायरल वीडियो को फेसबुक पर भी तेजी से शेयर किया जा रहा है। 

फेसबुक लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

वायरल वीडियो के तस्वीर को रिवर्स इमेज करने पर हमें एक यूट्यूब चैनल पर मिला। जो कि 2018 को पोस्ट किया गया है।  वीडियो शिर्षक में लिखा है, “डेट्रायट: बीइंग ह्यूमन – शॉर्ट्स : क्लो। PS4।” यह एक गेम का वीडियो है। 

इससे संबंधित अधिक दृश्य यहां देखे जा सकते हैं । वीडियो के 20 मिनट 2 सेकेंड पर वायरल वीडियो में दिख रही मीहिला नजर आ रही है। यहां पर अलग अलग कैरेक्टर भी देखी जा सकती है।

हमें “डेट्रॉइट: बिकम ह्यूमन” गेम के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक ट्विट मिला। यह साइबरलाइफ द्वारा निर्मित पहला पर्सनल असिस्टेंट एंड्रॉइड। 2022 में, यह मॉडल ट्यूरिंग टेस्ट पास करने वाला पहला मॉडल भी था।

क्वानटीक ड्रीम में प्रकाशित खबर के अनुसार यह ‘क्लो’ नाम का एक रोबोट चरित्र है। गेम में ‘क्लो’ चरित्र के बारे में अधिक विवरण यहां देखा जा सकता है।

निष्कर्ष-

तथ्यों की जांच के पश्चात हमने पाया कि एक वीडियो गेम के कैरेक्टर को चीन द्वारा निर्मित पहली कृत्रिम महिला के दावे के साथ साझा किया जा रहा है।

Avatar

Title:वीडियो गेम के कैरेक्टर को चीन में बनी पहली कृत्रिम इन्सान के रूप में वायरल किया जा रहा है

Fact Check By: Saritadevi Samal 

Result: False

Leave a Reply