इंदिरा गांधी के पुतले की विटंबना की यह तस्वीर राजस्थान की है; गुजरात की नहीं

False Political

गलत दावे के साथ यह तस्वीर वायरल हो रही है।

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पुतले की विटंबना की तस्वीर वायरल हो रही है। उसके साथ दावा किया जा रहा है कि भाजपा की सत्ता वाले गुजरात में इंदिरा गांधी के पुतले का ऐसा अनादर किया गया। 

कांग्रेस के बड़े नेताओं और विधायकों ने यह तस्वीर शेयर कर गुजरात सरकार एवं पीएम नरेंद्र मोदी पर पर निशाना साधा। महाराष्ट्र के नागपूर से कांग्रेस विधायक नितीन राऊत ने लिखा की, “आप इंदिरा गांधी की प्रतिमा तोड़ सकते हैं, उनके विचार नहीं। फोटो पीएम मोदी जी के गुजरात से आई है। 

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस तस्वीर की जाँच करने के लिये हमने गूगल पर कीवर्ड सर्च किया। तो हमें यही तस्वीर दैनिक भास्कर के वेबसाइट पर प्रकाशित की हुआ मिली। उसके साथ दी गयी जानकारी में बताया गया है कि राजस्थान ने काजड़ा गांव में एक युवक ने पुतले की विटंबना की थी। 

उसने 17 तारीख को रात 10 बजे सोशल मीडिया पर लिखा कि पांच मिनट बाद इंदिरा गांधी की प्रतिमा टूटेगी, किसी में दम हो तो रोक लेना। इसके 15 मिनट बाद उस युवक ने उस पुतले को नुकसान पहुंचाया। 

उस युवक ने सोशल मीडिया पर प्रतिमा को खंडित करने की जिम्मेदारी भी ली है। इसके बाद गांव के सरपंच ने उसके खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज की और गांव वालों ने उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

आर्काइव लिंक

आगे की जाँच करते हुये हमें 19 सितंबर को टाइम्स नाउ के यूट्यूब चैनल पर इस बारे में एक रिपोर्ट प्रसारित की हुई मिली। उसमें बताया गया है कि इस वारदात के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गयी व उन्होंने अपनी कार्रवाई शुरू की। यह मामला झुंझुनू जिले के पिलानी इलाके के काजड़ा गांव का है।

आर्काइव लिंक

21 सितंबर को प्रकाशित झी न्यूज़ के वेबसाइट पर बताया गया है कि इस मामले के मुख्य आरोपी मुकेश गुर्जर को पुलिस ने गुजरात के बड़ौदा से गिरफ्तार किया है। उससे पूछताछ करने पर पता चला कि वह पार्क गांव का सार्वजनिक पार्क है जहाँ बच्चे खेलते है। परंतु कुछ समय के गांव के सरपंच ने उसे ताले से बंद कर दिया था। 

उस बात से नाराज़ होकर आरोपी ने एक बच्चे और एक युवक की मदद से इंदिरा गांधी की प्रतिमा को तोड़ दिया। और फिर वह गुजरात भाग गया था।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे पोस्ट के साथ किया गया दावा आंशिक रूप से गलत है। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के पुतले को राजस्थान में एक शख्स ने तोड़ा है। यह तस्वीर गुजरात की नहीं है।

Avatar

Title:इंदिरा गांधी के पुतले की विटंबना की यह तस्वीर राजस्थान की है; गुजरात की नहीं

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: False

Leave a Reply