दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास मॉडल की तस्वीर को अयोध्या में बन रहे रेलवे स्टेशन का बता साझा किया जा रहा है |

False National

सोशल मीडिया पर एक आलिशान हाई टेक रेलवे स्टेशन की तस्वीर को साझा करते हुए यह दावा किया जा रहा है कि, यह तस्वीर भारत के अयोध्या में निर्माणाधीन रेलवे स्टेशन की है | अयोध्या जी में श्री राम मंदिर निर्माण के साथ-साथ कई अन्य विकास कार्य समानांतर रूप से प्रगतिशील है और इसी के चलते इस हाई टेक रेलवे स्टेशन की तस्वीर को अयोध्या में बन रहे रेलवे स्टेशन के नाम से प्रसारित किया जा रहा है |

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे पोस्ट के कैप्शन में लिखा गया है कि 

“ये स्टेशन अमेरिका चीन या जापान में नही है ये अयोध्या का स्टेशन है जो बहुत शीघ्र ही देश को समर्पित होगा | मोदी है तो मुमकिन है |” 

(शब्दशः)

फेसबुक पोस्ट 

अनुसंधान से पता चलता है कि…

फैक्ट क्रेसेंडो ने जाँच के दौरान पाया कि यह तस्वीर २००९ में रेल मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित दिल्ली रेलवे स्टेशन के मॉडल प्रोजेक्ट की है, इस तस्वीर का अयोध्या रेलवे स्टेशन से कोई सम्बन्ध नहीं है |

जाँच की शुरुवात हमने इस तस्वीर को गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च करने के की, जिसके परिणाम में हमें यह तस्वीर अरूप नामक एक वेबसाइट पर मिली | यह कंपनी इमारतों की डिजाइनिंग और इंजीनियरिंग की सेवा देने वाली एक ब्रिटिश कंपनी है | इस वेबसाइट पर तस्वीर को साझा करते हुए लिखा गया है कि यह तस्वीर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन का कांसेप्ट प्लान है | इस रेलवे स्टेशन के विकास का जिम्मा टेरी फरेल नामक एक आर्किटेक्ट कंपनी के साथ अरूप को दिया गया था | दिल्ली में वर्ल्ड क्लास स्टेशन बनाने की बात ११वी पंच वर्षीय योजना में उल्लिखित है और इसी के तहत यह मॉडल बनाया गया था जिसके अनुसार इस रेलवे स्टेशन को डिजाईन करने की प्लानिंग की जा रही थी |

हमें यह तस्वीर यह भारतीये रेलवे द्वारा प्रकाशित आधिकारिक रिपोर्ट में भी इस्तेमाल की हुई मिली, यह रिपोर्ट २००९ में रेलवे मंत्रालय द्वारा पेश की गई थी| इस रिपोर्ट में रेलवे स्टेशन को लेकर विकास कार्यों के बारे में जानकारी दी गयी थी और इन विकास कार्यों को २०२० तक पूर्ण होना चाहिए था | वायरल तस्वीर  २००९ से ही इन्टरनेट पर उपलब्ध है | यह तस्वीर रेल मंत्रालय द्वारा पारित किया गया प्रस्तावित दिल्ली रेलवे स्टेशन का मॉडल है |

फैक्ट क्रेसेंडो ने इस सम्बन्ध में और स्पष्टता के लिए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कमिटी मेम्बर अनिल मिश्रा जी से संपर्क किया जिन्होंने हमें बताया कि यह तस्वीर अयोध्या में निर्मित रेलवे स्टेशन की नही है | 

खबर के अनुसार अयोध्या जी में बन रहे रेलवे स्टेशन के निर्माण का काम ७० प्रतिशत पूर्ण हो चुका है और इस साल दिसंबर इसके पूर्ण रूप से तैयार हो जाने की संभावना है |

निष्कर्ष:

तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट के माध्यम से किये हुए दावे को गलत पाया है | सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर अयोध्या जी के रेलवे स्टेशन की नही है | यह दिल्ली रेलवे स्टेशन के प्रस्तावित मॉडल प्रोजेक्ट की तस्वीर है |

फैक्ट क्रेसेंडो द्वारा किये गये अन्य फैक्ट चेक पढ़ने के लिए क्लिक करें :

१. असम के एक पानी पूरी विक्रेता द्वारा पानी में मूत्र मिलाने के प्रकरण को फर्जी सांप्रदायिक रंग दे सोशल मंचों पर फैलाया जा रहा है।

२. पूर्व न्यायाधीश रंजन गोगोई ने नाम से फिरसे बना फर्जी अकाउंट जिससे सांप्रदायिक ट्वीट किये गये|

३. बिहार के कटिहार में मुर्हरम जुलूस के दौरान घटी मारपीट की घटना को हिन्दू-मुस्लिम कोण दे सांप्रदायिकता से जोड़ साझा किया जा रहा है|

Avatar

Title:दिल्ली रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास मॉडल की तस्वीर को अयोध्या में बन रहे रेलवे स्टेशन का बता साझा किया जा रहा है |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •