क्या गाज़ियाबाद में एक महिला को बिना GST के दही और पनीर खाने के लिये गिरफ्तार किया गया?

False Social

यह वीडियो मज़ाक के तौर पर मनोरंजन के लिये बनाया गया है। इसमें कोई सच्चाई नहीं है।

एक वीडियो इंटरनेट पर वायरल हो रहा है। उसमें आप न्यूज़ एंकर को ये कहते हुये सुन सकते है कि पुलिस ने छापेमारी कर घर से दही का एक पूरा पतिला ज़ब्त किया है। ई.डी को खुफिया जानकारी मिली थी कि गाज़ियाबाद में कुल्फी देवी नाम की महिला ने घर में दही जमाया और उसपर बिना जी.एस.टी दिये ही उसे खाने का पूरा खौफनाक प्लैन बना रही थी। इसमें यह भी बताया गया है कि कुल्फी देवी ने दो दिन पहले फटे हुये दुध से पनीर बनाया और बिना जी.एस.टी दिये उसे खा गयी थी। सबूतों के आधार पर अदालत ने कुल्फी देवी को दो कटोरी दही की टैक्स चोरी का दोषी पाया है।

सोशल मीडिया पर यूज़र्स इस खबर को सच मानकर शेयर कर रहे है। इस पोस्ट को साझा कर एक यूज़र ने लिख है, “देख लेना जीएसटी टैक्स ना देने पर घर पर दही और पनीर बनाने पर ऐसे छापे पड़ेंगे।”

फेसबुक

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस वीडियो को ठीक से देखने पर हमें इसमें NBT लिखा हुआ दिखा। आपको बता दें कि यह चिन्ह नवभारत टाइम्स का है। आप नीचे दी गयी तस्वीर में देख सकते है।

इसको ध्यान में रखकर हमने यूट्यूब पर कीवर्ड सर्च किया। हमें इसका मूल वीडियो नवभारत टाइम्स के फेक इट इंडिया नामक वैरिफाइड चैनल पर 22 जुलाई को यह वीडियो प्रसारित किया हुआ मिला। इस वीडियो को देखने पर आपको समझेगा कि ये केवल मज़ाक के तौर पर बनाया गया है।

आर्काइव लिंक

इसके शुरूवात में हमने कुछ जानकारी लिखी हुई पायीं। उसमें यह बताया गया है कि यह वीडियो काल्पनिक है व केवल मज़ारके तौर पर मनोरंजन के लिये बनाया गया है। इसमें बतायी गयी घटना वास्तविक नहीं है। इसमें कोई भी जानकारी सही या सच नहीं है। आप नीचे दी गयी तस्वीर में देख सकते है।

इस यूट्यूब चैनल पर सारे वीडियो फेक है। इस चैनल पर हमने इनके अबाउट अस सेक्शन में भी यह लिखा हुआ पाया कि देश के आम लोगों पर आने वाली समस्याओं पर प्रकाश डालने के लिये फेक इट इंडिया चैनल वर्तमान की घटनाओं पर मनोरंजन के लिये वीडियो बनाता है।

आपको बता दें कि केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड ने 18 जुलाई से प्री-पैकेज्ड, प्री-लेबल दही, लस्सी और बटर मिल्क सहित उत्पादों के रिटेल पैक पर 5% की दर से जी.एस.टी लगाना शुरू किया है। और इसी आधार पर यह वीडियो बनाया गया और वायरल किया गया है।

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रहे वीडियो के साथ गलत दावा किया गया है। यह वीडियो फेक इट इंडिया नामक एक यूट्यूब चैनल ने मज़ाक के तौर पर बनाया है। 

Avatar

Title:क्या गाज़ियाबाद में एक महिला को बिना GST के दही और पनीर खाने के लिये गिरफ्तार किया गया?

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: False

Leave a Reply