२०१६ में औरंगाबाद में लगी आग का वीडियो तेलंगाना का बताकर हुआ वायरल |

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

२७ अक्टूबर २०१९ को “डॉ सिराज खान” नामक फेसबुक यूजर ने एक वीडियो पोस्ट किया, जिसके शीर्षक में लिखा गया है कि “खम्मम में आज दिवाली की क्रॉकरी की दुकानों में आग लग गई |” वीडियो भयानक आग में लिपटे बाज़ार को दर्शता है | वीडियो में हम पटाखों के दुकानों में आग लगने के कारण पटाखों को फूटते हुए देख सकते है | इस वीडियो को सोशल मीडिया पर साझा करते हुए दावा किया जा रहा है कि यह घटना २७ अक्टूबर को तेलंगाना के खम्मम क्षेत्र की है |

फेसबुक पोस्ट | आर्काइव लिंक 

इस वीडियो से जुड़े ख़बरों को ढूँढने पर हमने पाया कि इस वीडियो को ANI ने भी ट्वीट करते हुए लिखा है कि “तेलंगाना के खम्मम में सरदार वल्लभभाई पटेल स्टेडियम में पटाखों की दुकानों में आग लगी |”

अनुसंधान से पता चलता है कि… 

जाँच की शुरुआत हमने इस वीडियो इन्विड टूल का इस्तेमाल करते हुए छोटे कीफ्रेम्स में तोडा व गूगल रिवर्स इमेज सर्च किया, जिसके परिणाम से हमें ३१ अक्टूबर २०१६ को मैंगो न्यूज़ द्वारा अपलोड किया गया वीडियो मिला | इस वीडियो के विवरण में लिखा गया है कि, “औरंगाबाद में एक ही समय में सभी पटाखों की दुकान में आग लग गई | दृश्यों में, यह देखा जा सकता है कि इसका कारण या तो प्रशासन की लापरवाही है या तो शॉट सर्किट है |” इससे हमें पता चलता है कि यह वीडियो तीन साल पुराना है और महाराष्ट्र के औरंगाबाद की घटना से संबंधित है |

हमने ‘औरंगाबाद फायर दिवाली 2016’ कीवर्ड का उपयोग करके यूट्यूब सर्च किया जिससे हमें २०१६ के एक समाचार बुलेटिन का वीडियो मिला, जिसमें इस वीडियो को दिखाया गया है | इसके शीर्षक में लिखा गया है कि “विशेष वीडियो: औरंगाबाद में पटाखों की दुकानों पर आग” |

हमने देखा कि कई मीडिया संगठन ने २९ अक्टूबर २०१६ को इस घटना के बारे में खबर प्रकाशित की थी| टाइम्स ऑफ़ इंडिया द्वारा प्रकाशित खबर के अनुसार “औरंगाबाद में पटाखों के बाजार में २९ अक्टूबर २०१६ शनिवार को भीषण आग लग गई | औरंगाबाद के क्रांतिपुरा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत जिला परिषद् मैदान में दिवाली के अवसर पर स्थापित बाजार में सुबह लगभग ११:४५ बजे धमाका शुरू हुआ |”

आर्काइव लिंक 

हमने पाया कि इस खबर को डेली मेल यूके द्वारा भी प्रकाशित किया था | २ नवंबर २०१६ को  प्रकाशित खबर  में लिखा गया है कि, “इस भयानक फुटेज में २०० दुकानों और स्टॉल में लगी आग को देखा जा सकता है | भारत के औरंगाबाद में हज़ारों पटाखों की आवाज को सुना जा सकता है |” इस खबर में हम सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो को भी देख सकते है | 

आर्काइव लिंक 

इसके आलावा २८ अक्टूबर २०१९ को ANI ने अपनी गलती के लिए माफ़ी मांगते हुए एक ट्वीट जारी करते हुए लिखा है कि यह वीडियो एक पुरानी घटना से संबंधित था, जिसे कल साझा किया गया था | इस गलती का संज्ञान लेते हुए हमने इस खबर को निकाल दिया | ANI इस त्रुटि के लिए क्षमा चाहता है |” यह स्पष्टीकरण देने के बाद गलत ट्वीट को डिलीट कर दिया |

आर्काइव लिंक 

निष्कर्ष: तथ्यों के जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त पोस्ट को गलत पाया है | महाराष्ट्र के औरंगाबाद में तीन साल पहले पटाखों की दुकान में लगी आग का वीडियो, सोशल मीडिया में तेलंगाना के खम्मन का बताकर साझा किया जा रहा है |

Avatar

Title:२०१६ में औरंगाबाद में लगी आग का वीडियो तेलंगाना का बताकर हुआ वायरल |

Fact Check By: Aavya Ray 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •