बुर्काधारी शराब तस्कर की गिरफ़्तारी को पाकिस्तानी ध्वज फहराने पर आर.एस.एस कार्यकर्ता की गिरफ़्तारी का बता फैलाया जा रहा है।

False Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

वर्तमान में सोशल मंचों पर एक वीडियो काफी तेजी से वाईरल होता दिख रहा है, इस वीडियो में एक पुलिसकर्मी द्वारा एक व्यक्ति को बुर्का निकालने के लिए कहते सुना जा सकता है, और जिसके बाद व्यक्ति बुर्का निकालकर बैठ जाता है। वीडियो में इस बुर्काधारी व्यक्ति के अलावा और भी 3 लोग सर झुकाकर नीचे बैठे हुए नज़र आ रहे हैं। वीडियो के साथ जो दावा वाईरल हो रहा है उसके मुताबिक यह आर.एस.एस का कार्यकर्ता है जो बुर्का पहनकर पाकिस्तान का झंडा लहराते हुए पकड़ा गया था। 

फेसबुक | आर्काइव लिंक

इस वीडियो को विभिन्न सोशल मंचो पर काफी तेजी साझा किया जा रहा है।

आर्काइव लिंक

अनुसंधान से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने कीवर्ड सर्च करके इस वीडियो के साथ वाईरल हो रहे दावे की जाँच की तो हमें परिमाण में इंटरनेट पर कई समाचार लेख मिले जिनमें इस वीडियो से सम्बंधित जानकारी दी गई है। समाचार लेखों के ज़रिये हमें यह पता चला कि ये घटना आन्ध्र प्रदेश के कुर्नूल शहर की है।

आर्काइव लिंक

तत्पश्चात हमने इस वीडियो के सम्बन्ध में कुर्नूल शहर के एस.पी फक्किरप्पा कगिनेल्ली से संपर्क किया, उनके हमें बताया गया कि, 

जिन लोगों को आप वीडियो में देख रहें हैं वो शराब के तस्कर हैं, हमने दो लोगों को आंन्ध्र प्रदेश- तेलंगाना सीमा पर पकड़ा था जिनके पास से बिना एक्साइज वाली शराब की 72 बोतलें बरामद की गयीं थी, इनमें से एक व्यक्ति ने पुलिस से बचने के लिए बुर्का पहना हुआ था, जिसे आप वीडियो में देख रहें हैं। इस वीडियो का RSS या फिर पाकिस्तानी झंडा फहराने से कोई सम्बन्ध नहीं है।“

एस.पी फक्किरप्पा कगिनेल्ली ने इस वीडियो का स्पष्टीकरण अपने ट्वीटर हैंडल पर भी दिया है।

आर्काइव लिंक

तदनंतर हमने कुर्नूल शहर के आबकारी विभाग के मुख्य निरीक्षक लक्ष्मी दुर्गेइ से संपर्क किया। उन्होंने हमें बताया कि, 

“बुर्का पहने आर.एस.एस के व्यक्ति के संदर्भ में जो दावा किया जहा रहा है वह बिलकुल गलत है, पकड़े गये दो लोग दो पहिया वाहन पे सवार थे, वे तेलंगाना से आंध्र प्रदेश की ओर आ रहें थें। उनके पास शराब की 78 बोतलें थीं। हमने 7 या 8 लोगों को गिरफ्तार किया था पर इस पूरे घटनाक्रम का ना तो आर.एस.एस या फिर पाकिस्तान के झंडे से कोई संबन्ध है।“

इस पूरे प्रकरण की खबर आपको ई.टी.वी आंध्र प्रदेश के यूट्यूब चैनल पर भी देखने को मिलेगी।

आर्काइव लिंक

निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने उपरोक्त दावे को गलत पाया है। वाईरल हो रहे वीडियो का आर.एस.एस या पाकिस्तान के झंडे से कोई संबन्ध नहीं है। बुर्का पहना हुआ व्यक्ति शराब की तस्करी करते हुए पकड़ा गया है।

Avatar

Title:बुर्काधारी शराब तस्कर की गिरफ़्तारी को पाकिस्तानी ध्वज फहराने पर आर.एस.एस कार्यकर्ता की गिरफ़्तारी का बता फैलाया जा रहा है।

Fact Check By: Rashi Jain 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply