क्या रंजन गोगोई ने मुस्लिम समुदाय को वॉट्सएप ग्रुप में नमाज़ पढ़ने को कहा है?

Communal False

रंजन गोगोई ने ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया है। उनका कोई ट्वीटर हैंडल नहीं है।

भारत के पूर्व मुख्य न्यायाधीश व राज्यसभा सांसद रंजन गोगोई के नाम पर एक ट्वीट की तस्वीर वायरल हो रही है। उसमें लिखा है कि “अगर तलाक फोन पर दे सकते हो। तो नमाज़ व्हाट्सएप पर ग्रुप बनाकर क्यों नहीं पढ़ लेते।“ दावा किया जा रहा है कि ऐसा ट्वीट रंजन गोगोई ने किया है।

वायरल हो रहे पोस्ट को आप नीचे देख सकते है।

फेसबुक | आर्काइव लिंक

आर्काइव लिंक


Read Also: क्या अमित शाह ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को नूपुर शर्मा को Z प्लस सुरक्षा देने को कहा?


अनुसंधान से पता चलता है कि…

इस ट्वीट की सच्चाई जानने के लिये हमने पहले गूगल पर कीवर्ड सर्च किया। हमें ऐसी खबर कही भी प्रकाशित की हुई नहीं मिली जिसमें बताया गया हो कि रंजन गोगोई ने ऐसा कोई ट्वीट किया है। 

फिर हमने इस ट्वीट को गौर से देखा और जिस ट्वीटर हैंडल से इसे किया गया है हमने उसको खोजा। हमें @SGBJP नामक यह ट्वीटर हैंडल मिला। आप नीचे दी गयी तस्वीर में देख सकते है।

आर्काइव लिंक

आप देख सकते है कि इस ट्वीटर हैंडल के बायो में फैन पेज लिखा हुआ है। इससे हम समझ सकते है कि यह रंजन गोगोई का आधिकारिक हैंडल नहीं है। इसमें एक गौर करने वाली बात यह भी है कि वायरल तस्वीर में हैंडल का नाम “रंजन गोगई” है परंतु उपरोक्त ट्वीटर हैंडल की तस्वीर में हैंडल का नाम “रंजन गोगोई” लिखा हुआ है। और दोनों तस्वीरों में डिसप्ले पिक्चर भी अलग है। पर उनका यूज़र नेम @SGBJP ही है।

हमें रंजन गोगई नाम के ट्वीटर हैंडल का आर्काइव पेज मिला। आप नीचे दी गयी तस्वीर में देख सकते है।

इस पेज पर लिखा हुआ नाम और डिसप्ले पिक्चर वायरल हो रही तस्वीर के जैसे है। हमने देखा कि इस पेज के बायो में भी यही लिखा है कि यह एक पैरोडी अकाउंट (parody) है। और इसमें parody की स्पेलिंग भी गलत लिखी हुई है। इससे हम समझ सकते है कि यह फर्ज़ी हैंडल है और रंजन गोगोई का आधिकारिक अकाउंट नहीं है।

आपको बता दें कि फैक्ट क्रेसेंडो ने इससे पहले भी रंजन गोगोई के नाम पर वायरल हो रहे ऐसे कई ट्वीट का फैक्ट चेक किया है। आप उन्हें यहाँ, यहाँ, यहाँ और यहाँ पढ़ सकते है।

उन्होंने हमसे बात कर यह खुलासा किया था कि उनका कोई ट्वीटर हैंडल नहीं है। और उन्होंने ऐसे कई यूज़र्स पर मामला दर्ज करवाया है जो उनके नाम से फर्ज़ी ट्वीट करते है।


Read Also: क्या 18 लाख नागा साधु नूपुर शर्मा के समर्थन में आए है? जानिए सच


निष्कर्ष: तथ्यों की जाँच के पश्चात हमने पाया कि वायरल हो रही तस्वीर के साथ किया गया दावा गलत है। यह एक फर्ज़ी ट्वीट है, रंजन गोगोई ने ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया है।

Avatar

Title:क्या रंजन गोगोई ने मुस्लिम समुदाय को वॉट्सएप ग्रुप में नमाज़ पढ़ने को कहा है?

Fact Check By: Samiksha Khandelwal 

Result: False

Leave a Reply