क्या विभिन्न धर्म गुरुओं ने कांग्रेस का झंडा ले शान्ति मार्च निकाला?

False National Political
  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares

५ अप्रैल २०१९ को “६० इयर्स ऑफ़ कांग्रेस” नामक एक फेसबुक पेज ने एक तस्वीर पोस्ट की | तस्वीर के शीर्षक में लिखा गया है कि “कांग्रेस ही देश को जोड़े रख सकती है हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई सबके साथ कांग्रेस का हाथ” | तस्वीर में हम पांच अलग अलग धर्मगुरुओं को कांग्रेस पार्टी का झंडा लहराते हुए और आगे बढ़ते हुए देख सकते है | इस तस्वीर के माध्यम से दावा किया जा रहा है कि केवल कांग्रेस पार्टी के माध्यम से ही देश एक हो सकता है व अलग अलग धर्मों के बीच का विवाद कम हो सकता है | यह तस्वीर काफ़ी चर्चा में है | फैक्ट चेक किये जाने तक इस पोस्ट ने लगभग ६००० प्रतिक्रियाएं मिल चुकी थी |

आर्काइव लिंक

देश में आम चुनाव चल रहे है | जिस वजह से इस तरह की पोस्ट काफी वायरल हो रहे हैं | आजकल ऐसे काफ़ी पोस्ट दिख जाते है जहा तस्वीर के साथ छेड़छाड़ की जाती है | इसीलिए हमने इस पोस्ट की सच्चाई जानने की कोशिश की |

संशोधन से पता चलता है कि…

जांच की शुरुआत हमने तस्वीर का स्क्रीनशॉट लेकर गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से की, परिणाम में हमें एक ट्वीट का लिंक मिला | लिंक पर क्लिक करने पर हम स्वामी दीपांकर नामक एक अधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पहुचते है | हमें १८ जून २०१६ को स्वामी दीपांकर द्वारा किया गया  ट्वीट मिला | ट्वीट में लिखा गया है कि “‘वॉक ऑफ पीस’ एक एतिहासिक, मंत्रमुग्ध, हार्ट टचिंग मार्च ऑफ इंटरफेथ संत #वाघा बॉर्डर #अमृतसर” | इस ट्वीट के साथ एक तस्वीर संग्लित है | पोस्ट कि हुई तस्वीर में हम अलग अलग धर्मों गुरुओं के हाथ में भारत का तिरंगा लहराते हुए देख सकते है | इस तस्वीर में हम स्वामी दीपांकर को भी तिरंगा लहराते हुए देख सकते है |

आर्काइव लिंक

इसी ट्विटर अकाउंट से हमें १८ जून २०१६ को किया गया ट्वीट मिला जहाँ यह इस शांती मार्च का दृश्य हम एक विडियो के माध्यम से देख सकते है | ट्वीट में विडियो के शीर्षक में लिखा गया है कि “Saints with flag as peace soldiers! A memorable patriotic moment at #wagahborder! विडियो में हम अलग अलग धर्मों के संतों को हाथ में तिरंगा लेकर आगे बढ़ते हुए देख सकते है |

आर्काइव लिंक

अलग अलग कीवर्ड्स के माध्यम से गूगल सर्च करने पर येही तस्वीर हमें स्वामी दीपांकर गुरुजी के अधिकारिक वेबसाइट पर भी मिली |

यूट्यूब में २७ जून २०१६ को डॉ इमाम उमर अहमद इलियासी द्वारा पोस्ट की गई इस मार्च का विडियो नीचे देखा जा सकता है |

ट्वीट में प्रकाशित की गयी तस्वीर की अगर सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर से तुलना की जाए तो हमें अंतर साफ़ नज़र आता है | मूल तस्वीर में हम पांच धार्मिक संतों को भारत का झंडा हाथ में लेकर जाते हुए देख सकते है |

निष्कर्ष : तथ्यों की जांच के पश्चात हमने उपरोक्त तस्वीर को गलत पाया | कांग्रेस का झंडा तस्वीर में पांच संतों के हाथ में फोटोशोप का इस्तेमाल कर जोड़ा गया है | मूल तस्वीर में वह पांच धर्मगुरु भारत का तिरंगा लहराते हुए दिखते है |

Avatar

Title:क्या भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का झंडा पकड़े विभिन्न धर्मों के धर्मगुरु रैली में निकले?

Fact Check By: Drabanti Ghosh 

Result: False


  • 7
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
    7
    Shares