क्या नेल्लूर में जैन समुदाय के लोगों ने मुसलमान समुदाय के १८०० लोगों को एक ही दिन में नौकरी से निकाल दिया ? जानिये सच |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

३१ जुलाई २०१९ को फेसबुक पर ‘Hari Gupta’ नामक एक फेसबुक यूजर द्वारा एक पोस्ट डाली गयी, जिसमें लिखा है कि “नेल्लोर में एक मुस्लिम ने जैन लड़की को फुसलाकर लेके गया सुबह को और दोपहर को समाज की बैठक हुई | 550 जैन दुकानों से फैक्टरी से मुस्लिमों को कह दिया तुम अभी से ही नोकरी से छुटी है थोड़ी देर बाद सब समाज ने एक के बाद एक जैन समाज को सपोर्ट दिया | शाम तक 1800 मुसलमान की नोकरियों पे नोबत आ गई तो .. मुस्लिम समाज ने वो लडकी को उसके घर सही सलामत छोड़कर आये | और मुस्लिम लड़को को कह दिया की गलती से भी हिन्दू लड़की को जैन लड़की को ना देखे | ये होती है एकता की ताकत अभी भी कुछ थर्ड क्लास दयालु कृपालु कम दिमाग वाले सेक्युलर डरपोक  अभी भी हमे सलाह दे रहे है की इनलोगो से झगड़ा मोल नही लेने का !!! अभी तो वक्त है .. ये लोगो ने हमे मौका दिया है एकजुटता दिखाने का |” इस पोस्ट के द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि ‘नेल्लूर में जैन सामुदाय के लोगों ने मुस्लिम सामुदाय के १८०० लोगों को काम से एक दिन मे निकाल दिया |” क्या सच में ऐसा है ? आइये जानते है इस पोस्ट के दावे की सच्चाई |

सोशल मीडिया पर प्रचलित कथन:

FacebookPost | ArchivedLink

अनुसंधान से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले उपरोक्त पोस्ट में दी गयी ख़बर के बारे में गूगल पर अलग अलग कीवर्ड्स से ढूंढा, मगर हमने इस बारे में कोई भी जानकारी नहीं मिल पायी।

फिर हमने सबसे पहले नेल्लूर के 4 town पुलिस चौकी में संपर्क साधा, वहाँ की एक लेडी इंस्पेक्टर ने इस प्रकार की किसी भी घटना के बारे में जानकारी होने व ऐसे किसी भी प्रकरण की शिकायत मिलने से स्पष्ट रूप से इंकार किया, नेल्लूर क्षे क्षेत्र त्र में ऐसी कोई भी घटना नहीं घटी है |

फिर हमने नेल्लूर के SP ऐश्वर्या राठोड़ से संपर्क साधा और उन्होंने कहा कि (हिंदी में अनुवादित), “सोशल मीडिया पर वाइरल हुआ ये मेसिज हमारी भी दृष्टि में आया है, ये महज़ एक अफ़वाह है, नेल्लूर शहर में ऐसा कुछ नहीं हुआ है, और सोशल मीडिया पर ग़लत अफ़वाह उड़ाने वालों के बारे में हम भी छानबीन कर रहें हैं, जिसने भी इस अफवाह को फैलाया है, उस पर सख़्त कार्यवाही होगी | नेल्लूर में ऐसी कोई घटना नहीं घटी है और ना ही किसी समुदाय ने किसी और समुदाय के लोगों को इतनी भारी तादाद में नौकरी से निकला है |”

इस आधिकारिक स्पष्टीकरणों से यह बात साफ़ होती है कि, उपरोक्त पोस्ट में किया गया दावा केवल अफवाह है और भ्रम पैदा करने के लिए साझा किया गया है वास्तविक में ऐसी कोई घटना नेल्लूर में नहीं घटी है | 

जांच का परिणाम :  उपरोक्त पोस्ट मे किया गया दावा ‘नेल्लूर में जैन सामुदाय के लोगों ने मुस्लिम सामुदाय के १८०० लोगों को काम से एक दिन मे निकाल दिया |’ ग़लत है |

Avatar

Title:क्या नेल्लूर में जैन समुदाय के लोगों ने मुसलमान समुदाय के १८०० लोगों को एक ही दिन में नौकरी से निकाल दिया ? जानिये सच |

Fact Check By: Natasha Vivian  

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •