क्या नरेन्द्र मोदी आसाराम के बेटे है?

False National Political
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

९ मई २०१९ को फेसबुक के ‘Pooja Yadav’ नामक पेज पर एक पोस्ट साझा किया है | पोस्ट में अख़बार में छपी खबर जैसा दिखने वाले कटिंग का स्क्रीनशॉट दिया गया है | इस स्क्रीनशॉट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का फोटो है और कथित खबर के हैडलाइन में लिखा है कि अमेरिकी डीएनए विशेषज्ञ का दावा आसाराम के बेटे है मोदी |

इस पोस्ट द्वारा यह दावा किया जा रहा है कि किसी अख़बार में यह खबर छपी है कि, अमेरिकी विशेषज्ञ ने ऐसा दावा किया है कि, नरेन्द्र मोदी आसाराम के बेटे है | तो आइये जानते है इस दावे की सच्चाई |

ARCHIVE POST  

संशोधन से पता चलता है कि…

हमने सबसे पहले इस खबर के स्क्रीनशॉट को रिवर्स इमेज सर्च किया, तो हमें कुछ भी परिणाम नहीं मिले |

इसके बाद हमने modi is son of asaram इन की वर्ड्स के साथ गूगल सर्च किया, तब भी हमें खास परिणाम नहीं मिले | हालाँकि यह ख़बरें बहुत मिली कि, आसाराम के बेटे को नारायण साईं को बलात्कार के मामले में सजा सुनाई गई है | ‘द हिन्दू’ ने यह खबर २६ अप्रैल २०१९ को प्रसारित की है |

ARCHIVE HINDU

इसके बाद हमने अमेरिकी विशेषज्ञ डॉक्टर मार्टिन सिजो द्वारा की गई प्रेस कांफ्रेंस के बारे में गूगल में ढूंढा, लेकिन हमें ऐसी किसी प्रेस कांफ्रेंस के बारे में पुख्ता जानकारी नहीं मिली |

तब हमने अपना संशोधन अख़बार की कटिंग पर केन्द्रित किया | हमने खबर को ध्यान से पढ़ा तो हमें कई ऐसी गलतियाँ नजर आई, जो अमूमन किसी अख़बार की खबर में नहीं होती है |

  1. पहली बात खबर के हैडलाइन का फॉण्ट | हैडलाइन में आसाराम और मोदी यह दोनों शब्दों का फॉण्ट बाकि हैडलाइन के शब्दों के फॉण्ट से मैच नहीं होता | यह दोनों शब्द बिलकुल अलग लगते है |
  2. इसके बाद डेटलाइन | डेटलाइन खबर की शुरुआत का अहम हिस्सा होता है, जिसमे आम तौर पर खबर जहाँ से जारी हुई है, उस जगह का नाम, तारीख तथा एजेंसी या संवाददाता का पदनाम होता है | पहले जगह का नाम फिर एजेंसी या संवाददाता का पदनाम होता है | लेकिन इस खबर में इस बात का ध्यान नहीं रखा गया है |
  3. इसके बाद लिखी खबर में हम यह साफ़ तौर पर देख सकते है कि, आसाराम, नरेन्द्र मोदी के, करते है, मोदी, बेटे है, भाजपा, भाजपा इन शब्दों का फॉण्ट भी बाकि शब्दों के फॉण्ट से मैच नहीं करता है |
  4. हमें एक और खामी नजर आती है कि, प्रत्येक वाक्य के बाद हिंदी भाषा में आम तौर पर उपयोग की जाने वाली खड़ी पाई का प्रयोग कहीं भी नहीं किया गया है |

किसी भी प्रकाशन में खबर को पेश करते समय जो एहतियात बरते जाते है, वह सब इस खबर में नदारद है | लिहाजा यह प्रकाशित खबर है, इस बात पर विश्वास नहीं किया जा सकता |

संशोधन के दौरान हमें इसी तरह की एक खबर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बारे में भी साझा होती हुई मिली | नीचे के ट्वीट में यह फोटो आप देख सकते है |

ARCHIVE TWEET

इस ट्वीट में साझा राहुल की खबर वाला स्क्रीनशॉट तथा उपरोक्त पोस्ट में साझा मोदी की खबर वाला स्क्रीनशॉट इन दोनों की हम तुलना करें तो हमें साफ़ नजर आता है कि, केवल नाम बदले गए है, बाकि खबर वही है |

इस संशोधन से हम इस नतीजे पर पहुँचते है कि, किसी नौसिखिये द्वारा फोटोशोप की मदद से तैयार किया हुआ यह जाली खबर का स्क्रीनशॉट है |

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में साझा फोटो के साथ किया गया दावा कि, “अमेरिकी डीएनए विशेषज्ञ का दावा आसाराम के बेटे है मोदी|” बिलकुल गलत है | फोटोशोप की मदद से तैयार किया हुआ यह जाली खबर का स्क्रीनशॉट है |

Avatar

Title:क्या नरेन्द्र मोदी आसाराम के बेटे है?

Fact Check By: Rajesh Pillewar 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

1 thought on “क्या नरेन्द्र मोदी आसाराम के बेटे है?

  1. sorry
    कृपया फेशबुक पर ग़लत बयान की जांच की जाएँ
    मै किसी भी व्यक्ति के या समाज के किसी वर्ग विशेष को बांटने की कोशिश बिल्कुल नहीं करता हू ।।।।

Leave a Reply