वि.हि.प की रैली पर मुस्लिमों द्वारा किये गए हमले के विडियो को गलत कथन के साथ वायरल किया जा रहा है |

False National Social
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

३ सितम्बर २०१९ को फेसबुक के ‘Gurfan Khan’ नामक एक पेज पर एक पोस्ट साझा किया गया है जिसमें एक वीडियो दिया है | वीडियो में दिखाई देता है कि, भगवा ध्वज हाथ में लिए लोगों की रैली किसी रास्ते से जा रही है | रास्ते के किनारे और लोगों का हुजूम दिखाई देता है, जो रैली के लोगों पर अचानक हमला बोल देते है | पुलिस हमला करनेवालों को पीछे धकेलती है |        

पोस्ट के विवरण में लिखा गया है कि, 

गंगापुर का माहौल खराब हो गया हिंदू युवा वाहिनी के लोग मुस्लिम इलाके में मुसलमानों को मारने के लिए आए थे मुसलमानों की एकता को देखकर दुम दबाकर भागे है। जो भी भाई जहां है ।हिफाजत से रहे और एकता बनाए रखें अब वक्त आ गया है मुसलमानों को एक होने का.. एक दूसरे की मदद करें अकेला छोड़कर ना भागे…

इस पोस्ट व्दारा किया यह दावा किया जा रहा है कि, राजस्थान के गंगापुर में हिन्दू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता मुस्लिम इलाके में उनको मारने के लिए आये थे | लेकिन मुस्लिमों ने एकता का परिचय देते हुए उनको भागने पर मजबूर किया | जब हम वीडियो को देखते है, तो ऐसा प्रतीत होता है कि, यह भगवा ध्वज लिए किसी हिन्दू संघटन की रैली है | और उन्हीपर दुसरे लोगों द्वारा हमला किया जा रहा है | सो पोस्ट के दावे पर संदेह होता है | तो आइये जानते है इस वीडियो व दावे की सच्चाई |

मूल पोस्ट यहाँ देखें – ‘Gurfan Khan’  | ARCHIVE POST

अनुसन्धान से पता चलता है कि…

सबसे पहले हमने साझा वीडियो के की-फ्रेम्स को इन्विड टूल की मदद से रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें गूगल सर्च परिणाम से यू-ट्यूब का एक लिंक मिला | समाचार संस्था ‘राजस्थान पत्रिका’ के चैनल द्वारा २७ अगस्त २०१९ को खबर के साथ एक वीडियो अपलोड किया गया है | यह वीडियो तथा उपरोक्त पोस्ट के साथ साझा वीडियो एक ही है | वीडियो के शीर्षक में लिखा है – Gangapur City में बवाल और पत्थरबाजों का पूरा सच, इस वीडियो में देखें | खबर में कहा गया है कि, विहिप की रैली पर रविवार को हुए पथराव के बाद उपजे बवाल पर पुलिस अफसरों की नजर है। मोबाइल फोन की रिकॉर्डिंग के बाद अब पुलिस उन लोगो को अरेस्ट करने में लग गई है जो इस तनाव और बवाल की मुख्य वजह है। इस बवाल के पीछे कौन लोग हैं और उन्होनें पुलिस के सामने ही उस दिन क्या किया ये बताने के लिए ये वीडियो काफी है।

इससे हमें यह पता चलता है कि, यह विश्व हिन्दू परिषद के द्वारा रविवार को निकाली गई रैली थी, ना की हिन्दू युवा वाहिनी के द्वारा, जैसा की पोस्ट में दावा किया गया है | 

इसके बाद हमने ‘mob attacks VHP rally in gangapur’ की-वर्ड्स से गूगल किया तो परिणाम से हमें ‘नवभारत टाइम्स’ द्वारा २६ अगस्त २०१९ को प्रसारित एक खबर मिली | इस खबर में पोस्ट में साझा विडियो के स्क्रीनशॉट का इस्तेमाल किया गया है | खबर में कहा गया है कि, राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले में रविवार को जमकर बवाल हुआ | यह बवाल विश्व हिंदू परिषद की और से निकाली जा रही एक रैली पर फव्वारा चौक के पास आसपास के घरों से पथराव किए जाने के बाद शुरू हुआ | इस रैली में वी.एच.पी के लगभग ५०० कार्यकर्ता शामिल थे | बवाल और तनाव के बाद पुलिस ने २५ लोगों को हिरासत में लिया |

पूरी खबर यहाँ पढ़े – ‘नवभारत टाइम्स’ | ARCHIVE NEWS

इसी विषय पर ‘द वायर’ तथा ‘इन खबर’ द्वारा भी ख़बरें प्रसारित की गई है |

ARCHIVE WIRE | ARCHIVE KHABAR

गूगल सर्च से हमें समाचार चैनल ‘KHABAR PLUS18’ द्वारा यू-ट्यूब पर अपलोड एक वीडियो मिला | इस विडियो में पूरी घटना के बारे में भरतपुर रेंज के आयजी लक्ष्मण गौड़ द्वारा दिया गया बयान साझा किया गया है | यह वीडियो आप नीचे देख सकते है |

इसके बाद हमने सवाई माधोपुर जिले के पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी इनसे इस सन्दर्भ में बात की | उन्होंने हमें बताया कि, “इस मामले में दोनों तरफ से ७ से ८ प्रकरण दाखिल कर लिए गए है | घटना के तुरंत बाद हमने ४५ लोगों को शक के आधार पर गिरफ्तार किया था | बाद में उनको छोड़ दिया गया और अब २० लोगों को हिरासत में ले लिया गया है | घटना के बाद विद्यमान MLA तथा पूर्व MLA की मध्यस्थता से शांति वार्ता की गई | इसके बाद गंगापुर में शांति छाई है |”  

अतः यह बात स्पष्ट हो जाती है कि, यह वीडियो राजस्थान के गंगापुर में घटित घटना का तो है, मगर जिस दावे के साथ साझा हो रहा है, वह गलत है | वीडियो में भगवा ध्वज लिए जो लोग दिखाई दे रहे है, वह हिन्दू युवा वाहिनी के नहीं है, बल्कि विश्व हिन्दू परिषद द्वारा स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में निकाली गई रैली है | साथ ही विहिप के कार्यकर्ता मुस्लिमों को मारने आये थे, यह दावा भी गलत है | दोनों तरफ से नारेबाजी के बाद रैली पर मुस्लिमों द्वारा हमला किया गया था | दोनों समुदायों के बीच बिगड़ते माहौल को ख़राब करने की कोशिश इस तरह की पोस्ट द्वारा की जाती है, जो की निंदनीय है|

जांच का परिणाम :  इस संशोधन से यह स्पष्ट होता है कि, उपरोक्त पोस्ट में साझा वीडियो के साथ किया गया दावा कि, “हिंदू युवा वाहिनी के लोग मुस्लिम इलाके में मुसलमानों को मारने के लिए आए थे मुसलमानों की एकता को देखकर दुम दबाकर भागे है |” सरासर गलत है | यह विश्व हिन्दू परिषद् द्वारा निकाली गई रैली थी और वह मुस्लिमों पर हमला करने नहीं आये थे |

Avatar

Title:विहिप की रैली पर मुस्लिमों द्वारा किये गए हमले के विडियो को विरूद्ध कथन के साथ वायरल किया जा रहा है |

Fact Check By: R Pillai 

Result: False


  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply